बेमेल भोजन : जानिए एक साथ क्या नहीं खाना चाहिए

खाने की अच्छी आदतों में संतुलित भोजन पर हमेशा जोर दिया जाता है, लेकिन इसके साथ ही खाने के सही कॉम्बिनेशंस यानि संयोजन की जानकारी होना भी बहुत जरूरी है, यानी खाने की कौन-कौन सी चीजो को एक साथ खाना चाहिए और किनको नहीं खाना चाहिए । इस बारे में आयुर्वेद में काफी जानकारी दी गई है | आयुर्वेद के अनुसार विरुद्धाहार (जिन पदार्थों के साथ-साथ सेवन से रोग उत्पन्न होने की सम्भावना होती है) स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद आहार के सेवन से स्वास्थ्य की रक्षा होती है और वात, पित्त व कफ- ये तीनों दोष अपनी सही  अवस्था में बने रहते हैं, उसी प्रकार अहितकारी आहार के सेवन से स्वास्थ्य खराब होता है | यह आहार भी अनेक प्रकार का हो सकता है। कुछ खाद्य-पदार्थ तो स्वभावत: ही दोषों को पैदा करने वाले, रोगकारक, भारी आदि होने से अपथ्य होते हैं, परन्तु कुछ प्राकृतिक रूप से और अकेले तो बहुत गुणकारी और स्वास्थ्य-वर्धक होते हैं, लेकिन जब इन्हीं पदार्थों को किसी अन्य खाद्य-पदार्थ के साथ लिया जाए अथवा किसी विशेष समय में या किसी विशेष चीज के साथ पका कर सेवन किया जाए, तो ये लाभ के स्थान पर हानि पहुँचाते हैं और अनेक प्रकार के रोगों का कारण बनते है |

अनेक बार कुछ गम्भीर रोगों की उत्पत्ति का कोई साफ कारण दिखाई नहीं देता, ज्यादातर उनका कारण विरुद्धाहार होता है; क्योंकि आयुर्वेद में कहा है कि इस प्रकार के विरुद्धाहार का निरन्तर सेवन करते रहने से ये शरीर पर धीरे-धीरे दुष्प्रभाव डालते हैं और शरीर को रोगी बनाते रहते है। हालाँकि बेमेल खाद्य पदार्थ खाने से फ़ूड पोइजनिंग भी हो जाता है जो एक दम से व्यक्ति को बहुत बीमार कर देता है | ये विरुद्धाहार या बेमेल भोजन अनेक प्रकार के होते है जी इस पोस्ट में बताए गए है | तो आइए जानते है विरुद्धाहार जिनको एक साथ नहीं खाना चाहिए | Incompatible Food Combination, Ayurveda Food Combining, Opposite Foods, Wrong Harmful Food Combinations.

बेमेल भोजन या विरुद्धाहार जो नहीं खाने चाहिए :

bemel Hanikarak bhojan virudh aahar बेमेल भोजन : जानिए एक साथ क्या नहीं खाना चाहिए

Incompatible Food Combination

  • दूध के साथ- दही, नमक, मूली, मूली के पत्ते, अन्य कच्चे सलाद, सहिजन, इमली, खरबूजा, बेलफल, नारियल, आम्राप्तक (आमड़ा), नींबू, लिकुच (बड़हल), करौदा, कमरख, जामुन, कैथ, पारावत (अम्ल फल), सत्तू, तेल तथा अन्य प्रकार के खट्टे फल या खटाई, मछली आदि का सेवन एकसाथ नहीं खाना चाहिए ।
  • दही के साथ- खीर, दूध, पनीर, गर्म पदार्थ, व गर्म भोजन, खीरा, चाय, खरबूजा, ताड़ फल आदि नहीं खाना चाहिए ये सब विरुद्धाहार है।
  • दही और फल एक साथ – फलों में अलग एंजाइम होते हैं और दही में अलग। शरीर में ये एक साथ नहीं पच पाते है, इसलिए दोनों को एक साथ नहीं खाना चाहिए ।
  • खीर के साथ- कटहल, खटाई (दही, नींबू, आदि), सत्तू, शराब आदि क सेवन विरुद्धाहार है।
  • शहद के साथ- मकोय (काकमांची), घी (समान मात्रा में ), बारिश का पानी, तेल, वसा, अंगूर, कमल का बीज, मूली, ज्यादा गर्म पानी, गर्म दूध या अन्य गर्म पदार्थ, चीनी से बना शरबत) और खजूर से बनी मदिरा), आदि का सेवन विरुद्ध है। शहद को गर्म करके सेवन करना भी हानिकारक है।
  • ठंडे पानी के साथ- घी, तेल, तरबूज, अमरूद, खीरा, ककडी, मूगफली, चिलगोजा आदि का सेवन विरुद्धाहार है।
  • गर्म पानी या गर्म पेय के साथ- शहद, कुल्फी, आइसक्रीम व अन्य शीतल पदार्थ का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
  • घी के साथ-समान मात्रा में शहद तथा ठण्डे जल का सेवन स्वास्थ्य के लिए अहितकर है।
  • खरबूज के साथ- लहसुन, दही, दूध, मूली के पत्ते, पानी आदि का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इनको भी एकसाथ नहीं खाना चाहिए |
  • तरबूज के साथ- ठण्डे पानी तथा पुदीने का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
  • चावल के साथ- सिरके का सेवन स्वास्थ्य के लिए अहितकर है।
  • तिल की पिट्ठी के साथ- उपदिका (पीई) को पकाकर खाना विरुद्धाहार है।
  • नमक- अधिक मात्रा में खाना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
  • अंकुरित धान्य, चने आदि के साथ- कमल-नाल का सेवन विरुद्धाहार है। कच्चे अंकुरित धान्य के साथ पके हुए भोजन का सेवन भी विरुद्धाहार है इनको एकसाथ नहीं खाना चाहिए । यह भी पढ़ें – जानिए फ़ूड पॉइजनिंग के कारण और बचाव के उपाय-Food Poisoning.
  • मकोय के साथ- पिप्पली, काली मिर्च, गुड व शहद का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। जिस बर्तन में मछली पकाई हो, उसमें रातभर रखे हुए मकीय सब्जी का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • उड़द की दाल के साथ- मूली का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
  • केला के साथ- मट्ठा का सेवन स्वास्थ्य के विरुद्ध है।
  • घी- काँसे के बर्तन में दस दिन या अधिक समय तक रखा हुआ घी विषाक्त हो जाता हैइसलिए ऐसे घी को नहीं खाना चाहिए |
  • दूध, खिचड़ी- इन तीनों को मिलाकर नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह विरुद्धाहार होने से हानिकारक है।
  • घी, मक्खन, तेल आदि फैट्स को पनीर, अंडा, मीट जैसे भारी प्रोटींस के साथ ज्यादा नहीं खाना चाहिए |
  • खाने के बाद मीठा-मीठा अगर खाने से पहले खाया जाए तो अच्छा रहता है |
  • खाना खाने के बाद चाय – भोजन के बाद चाय नहीं पीना चाहिए यदि आप चाहे तो ग्रीन टी, डाइजेस्टिव टी, कहवा या सौंफ, दालचीनी, अदरक आदि की बिना दूध की चाय पी सकते हैं। यह भी पढ़े – जानिए संतुलित पौष्टिक भोजन के लाभ-Balanced Diet
  • पिज्जा/बर्गर के साथ कोल्ड ड्रिंक्स-  कोल्ड ड्रिंक में मौजूद एसिड की मात्रा और ज्यादा शुगर फास्ट फूड में मौजूद फैट के साथ अच्छा नहीं माना जाता। फास्ट फूड या फ्राई की गई चीजों के साथ कोल्ड ड्रिंक के बजाय जूस, नीबू-पानी या छाछ पीने चाहिए।
  • दूध, ब्रेड और बटर- दूध को अकेले पीना ही सबसे अच्छा होता है। इससे यह शरीर द्वारा आसानी से सोख लिया जाता है और दूध के पूरे लाभ शरीर को मिलते है |
  • एक बार के खाने में बहुत ज्यादा वैरायटी नहीं होनी चाहिए। बहुत सारे पकवान एक साथ खाने से बदहजमी और गैस की समस्या हो जाती है | इसलिए बहुत सारे अलग-अलग तरह के व्यंजन एक साथ नहीं खाना चाहिए
  • इस प्रकार के विरुद्ध आहार के सेवन से शरीर के धातु और दोष असन्तुलित हो जाते हैं, परिणामस्वरूप अनेक प्रकार के रोग उत्पन्न हो जाते हैं। इसलिए इस जानकारी को ध्यान में रखकर ही खाद्य पदाथों का सेवन करना चाहिए।

विरुद्धाहार से प्रभावित होने वाले व्यक्ति को प्राणायाम, योगासन व व्यायाम करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। इसलिए रोजाना व्यायाम करने वाले, घी, दूध आदि पदार्थों का सेवन करने वाले, तेज पाचन वाले जवान हष्ट पुष्ट व्यक्ति तथा निरन्तर अभ्यास से जिनके लिए विरुद्धाहार शरीर के अनुकूल  बन गया हो, ऐसे व्यक्तियों पर विरुद्धाहार का कोइ विशेष दुष्प्रभाव नहीं होता है ।

अन्य सम्बंधित लेख 

सोशल मीडिया पर इस पोस्ट को शेयर करें

Email this to someonePin on PinterestShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *