कफ तथा पित्त नाशक आहार -Pitt & kapha Balancing Diet

पिछले पोस्ट में हमने वात नाशक आहार यानि वात संतुलित करने वाले खाने पीने के पदार्थो के बारे में बताया था इस पोस्ट में हम कफ तथा पित्त नाशक आहार के बारे में बतायेंगे | आयुर्वेद में “त्रिदोष” का महत्त्व, इसके दोषों का शरीर पर प्रभाव, इन्हें संतुलित करने के उपाय तथा विभिन्न दोषों के

जानिए वात रोग में क्या खाना चाहिए तथा वात असंतुलन में परहेज

वात रोग में आहार – बढ़ा हुआ वात अत्यधिक चिंता, बेचैनी, नींद में कमी तथा अन्य स्नायु रोग को पैदा करता है | आयुर्वेद संतुलित आहार को बढ़ावा देता है आयुर्वेद में षट्रस (छह स्वादों) यानी मीठा, कड़वा, सख्त, खट्टा, तीखा तथा नमकीन बताए गए हैं। वात को नमक, मीठे तथा खट्टे से संतुलित किया

डायबिटीज से जुड़े सवाल और उनके जवाब

डायबिटीज से जुड़े सवाल तथा शंकाए अकसर मधुमेही तथा उसके परिवार के अन्य सदस्यों में हमेशा बनी रहती है जिनका उत्तर देने का प्रयास इस पोस्ट में किया गया है | क्या आप जानते है भारत में पिछले पांच वर्षों के दौरान मधुमेह पीड़ितों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है और यह बढ़ोतरी

अनार के फायदे तथा 26 बेहतरीन औषधीय गुण

अनार (Pomegranate) अनार के बारे में कहावत प्रसिद्ध है-“एक अनार सौ बीमार ” इसका मतलब यही है कि एक अनार में इतने गुण है कि वह बिमारो को ठीक कर सकता है। अनार बहुत स्वादिष्ट और गुणकारी फल होता है यह पेट के रोगों और खून में वृद्धि के लिए अनार के अनेक औषधीय गुण

यदि बाल झड़ने की समस्या से हैं परेशान तो अपनाएं ये खानपान

एक रिसर्च के मुताबिक ज्यादा बाल झड़ने की समस्या तब आती है जब शरीर में आयरन की कमी होती है। आयरन बालों को मजबूती के साथ मुलायाम भी बनाता है। बालों का लगातार झड़ना आयरन की कमी की ओर इशारा करता है। जब शरीर में किसी चीज की कमी होती है तो शरीर उन चीजों

टीबी के कारण, लक्षण, प्रकार और बचाव की जानकारी

टीबी के रोग से लाखो लोग जूझ रहे है यह बीमारी पुराने समय से ही मृत्युओं का बड़ा कारण थी ही, लेकिन आज भी टीबी (तपेदिक) एक दुनिया भर में स्वास्थ्य की एक बड़ी समस्या है। वैसे इस रोग के जीवाणुओं के बारे में 100 साल पहले ही पता चल चुका था और अब इस

वात रोग को दूर करने के उपाय : वायु रोग का उपचार

वात रोग :- पिछले चार आर्टिकल्स में हमने आपको आयुर्वेद के मूल सिद्धांत यानि “त्रिदोष” के बारे में विस्तार से बताया था जिसमे आयुर्वेदिक तरीके से स्वस्थ जीवन जीने के लिए जानकारियां दी गई थी| त्रिदोषों (वात, पित्त और कफ ) को थोड़ा और विस्तार से देखें तो हमें पता चलेगा कि शरीर की अधिकतर

दिव्य मधुकल्प वटी और दिव्य मधुनाशिनी वटी के लाभ : पतंजलि आयुर्वेद

इस लेख में नीचे दी गई बिमारियों के इलाज हेतू पतंजलि आयुर्वेदिक मेडिसिन की जानकारी दी गयी है | साथ ही यह भी बताया गया है की इन औषधियों का सेवन कैसे करें और क्या परहेज रखें | डायबिटीज उपचार के लिए मशहूर दिव्य मधुकल्प वटी के सेवन की जानकारी भी दी गई है |

गले में दर्द, सूजन, इन्फेक्शन का घरेलू उपचार

अधिक चटपटे, मसालेदार अथवा तले-भुने पदार्थ खाने से गला ख़राब हो जाता है। कई बार सर्दी लगने से भी गले में दर्द तथा सूजन आ जाती है और स्वर-यन्त्र बिगड़ जाता है,गले से आवाज़ आनी बन्द हो जाती है और गले में दर्द होता है। टांसिल, इन्फेक्शन, वायरल बुखार, खांसी अथवा चेचक रोग में भी

रेबीज के कारण, लक्षण, बचाव, फर्स्ट ऐड और वैक्सीन इलाज

रेबीज (Rabies) या जलांतक, अलर्क (Hydrophobia) दुनिया की सबसे खतरनाक लाइलाज बीमारियों में से एक है, विश्व स्वास्थ्य संगठन की तालिका में रेबीज से होने वाली मौतें बारहवें क्रम पर हैं। किसी आदमी को यदि एक बार हो जाए तो उसका बचना मुश्किल होता है। रेबीज लाइसो वाइरस अर्थात् विषाणु द्वारा होती है और अधिकतर कुत्तों