पालक के फायदे तथा बेहतरीन औषधीय गुण

पालक के औषधीय गुणों की सूची काफी लम्बी है लेकिन इससे मिलने वाला सबसे अच्छा फायदा यह है की अन्य हरी सब्जियों की अपेक्षा इसमें विटामिन ‘ए’ ज्यादा होता है, यह विटामिन ‘ए’ की धनी सब्जी है। विटामिन ‘ए’ स्वास्थ्य, खासकर आँखों के लिए लाभकारी है। विटामिन ‘ए’ की कमी से रतौंधी रोग हो जाता है। इस प्रकार रतौंधी में पालक बहुत ही महत्वपूर्ण सब्जी है। पालक तर और ठण्डी तासीर का होता है इसलिए सर्दियों में इसको दालचीनी मसाला मिलाकर खाना चाहिए | यह शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता की वृद्धि करता है। पालक में बड़ी मात्रा में आयरन होता है और अगर इसे ठीक तरीके से लिया जाए तो हीमोग्लोबिन एवं लाल रक्त कणों में वृद्धि करता है। इस प्रकार यह खून की कमी में बहुत फायदेमंद है। पालक कैल्सियम का भी अच्छा स्रोत है। इसके अतिरिक्त अन्य क्षारीय तत्व भी इसमें काफी मात्रा में होते हैं, जो ऊतकों के लिए बहुत जरूरी हैं।

इस प्रकार यह शरीर में कई गंभीर रोगों को नहीं होने देता है। पालक की पत्तियाँ इतनी रसदार होती हैं कि इसको पकाने के लिए अतिरिक्त पानी की आवश्यकता नहीं होती है। इसे इसके ही रस में पकाना चाहिए तथा जब भी पकाएँ तो धीमी आँच पर, ताकि इसके विटामिन नष्ट न होने पाएँ। पालक का रस पाचन क्रिया के लिए बहुत लाभकारी है। यह आँतों की सफाई करता है तथा दाँतों एवं मसूड़ों के लिए भी लाभदायक है और पायरिया एवं मसूड़ों में खून बहने की प्रक्रिया को रोकता है। खासकर पुरानी कब्ज, आँतों के घाव, खून की कमी, फोड़ा-फुंसी, मोटापा, ग्रंथि-दोष, आँखों के रोग, आधासीसी सिरदर्द तथा स्नायविक दुर्बलता इत्यादि के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इन सभी महत्वपूर्ण विशेषताओं के होते हुए भी इसे पथरी के रोगियों, गाउट तथा पेट की बीमारियों वाले व्यक्ति को नहीं देना चाहिए क्योंकि इसमें थोड़ी मात्रा में ऑक्जेलिक एसिड होता है, जो इन रोगों से प्रभावित व्यक्तियों के लिए हानिकारक है।

कच्चा पालक खाने में कड़वा और खारा लगता है, परन्तु यह गुणकारी होता है। दही के साथ कच्चे पालक का रायता बहुत स्वादिष्ट और लाभकारी होता है। इसका रस यदि पीने में अच्छा न लगे तो इसके रस को आटे में  गूँधकर रोटी बनाकर खानी चाहिए। पालक, दाल व अन्य सब्जियों के साथ खायें। पालक में ये सब पोषक तत्व होते है – पानी 92.1, प्रोटीन 2.0, वसा 0.7 और कार्बोहाइड्रेट 2.9, रेशा 0.6 प्रतिशत है। इसमें खनिज 1.7, कैल्सियम 73, फॉस्फोरस 21 तथा लौह 10.9 मि.ग्रा. प्रति 100 ग्राम है। विटामिन ‘ए’ 2,600 से 3,500 अंतरराष्ट्रीय यूनिट, नियासिन 0.5 मि.ग्रा., रिबोफ्लोविन 60 माइक्रो ग्राम तथा विटामिन ‘सी’ 28 मि.ग्रा. प्रति 100 ग्राम होता है।

पालक के लाभ तथा औषधीय गुण

palak ke fayde juice ke gun पालक के फायदे तथा बेहतरीन औषधीय गुण

पालक

  • बाल गिरना बाल झड़ने की बीमारी में कच्चे पालक का सेवन करना चाहिए, इससे बालों का झड़ना बन्द हो जाता है।
  • कम रक्तचाप के रोगियों को रोजाना पालक की सब्जी का सेवन करना चाहिए। माना जाता है कि यह रक्त प्रवाह को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  • थायरॉइड में एक कप पालक के रस के साथ एक चम्मच शहद और चौथाई चम्मच जीरे का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है।
  • पालक के रस से कुल्ला करने से दांतों की समस्याओं, मुंह की बदबू जैसे विकार दूर हो जाते हैं।
  • दिल की बीमारियों से ग्रस्त रोगियों को रोजाना एक कप पालक के जूस में 2 चम्मच शहद मिलाकर लेना चाहिए।
  • खून की कमी दूर करने के लिए आधे गिलास पालक के रस में दो चम्मच शहद मिलाकर 50 दिनों तक पियें इससे खून की कमी अवश्य दूर होगी। स्त्रियों को गर्भावस्था में पालक का सेवन जरुर करना चाहिए ।
  • पालक के रस का निरन्तर सेवन करने से चेहरे के रंग में निखार आ जाता है। रक्त बढ़ता है। इसका रस, कच्चे पत्ते या छिलके सहित मूंग की दाल में पालक की पत्तियाँ डालकर सब्जी खानी चाहिए।
  • फटी एडियों को ठीक करने के लिए पालक को कच्चा ही पीसकर पैरों में लेप करें। दो-चार घण्टे बाद धोयें, लाभ होगा।
  • ताजे पालक के रस को रोज पीने से याददाश्त बढ़ती है। इसमें आयोडीन होने की वजह से यह दिमागी थकान से छुटकारा दिलाता है।
  • पीलिया के दौरान रोगी को पालक और कच्चे पपीते का रस मिलाकर देना चाहिए।
  • पालक के रस को आधा-आधा कप रोजाना तीन चार बार पीने से दस्त बन्द हो जाते हैं और शरीर में ताकत भी बढती है।
  • जिन लोगो को पेशाब कम आने या रुकावट की समस्या हो तो हरे नारियल के पानी में पालक के रस को समान मात्रा में मिलाकर रोजाना दो बार पीने से पेशाब खुलकर आता है।
  • पालक और बथुआ की सब्जी खाने से भी कब्ज़ दूर होती है। कुछ दिन लगातार पालक अधिक मात्रा में खाने से पेट के रोगों में लाभ होता है।
  • गले का दर्द पालक के पत्ते उबालकर पानी छान लें और पत्ते भी निचोड़ लें। इस गर्म-गर्म पानी से गरारे करने से गले का दर्द ठीक हो जाता है।
  • दमा, खाँसी, गले को जलन, फेफड़ों को सूजन और टीबी – हो तो दो चम्मच मेथी दाना पीसकर दो कप पानी में तेज उबालते हुए एक कप पानी रहने पर छानकर इसमें एक कप पालक के रस और स्वादानुसार शहद मिलाकर रोजाना दो बार पीने से इन सभी रोगों में लाभ होता है। फेफड़ों को ताकत मिलती है। बलगम पतला होकर बाहर निकल जाता है। पालक के रस के कुल्ले करने से भी लाभ होता है।

इन बातों का भी रखे ख्याल

  • अधिक मात्रा में पालक खाने से यूरिक एसिड की मात्रा शरीर में बढ़ती है जिसके गठिया रोग या हड्डियों से जुडी समस्या हो सकती है का भी खतरा बढ़ता है |
  • पालक में कैल्शियम और फॉस्फोरस होता है जो मिलकर कैल्शियम फॉस्फेट बनाता है जो पानी में घुलता नहीं है जिससे पथरी बन जाती है। इसलिए पथरी के रोगियों को केवल पालक की सब्जी नहीं खाना चाहिए। पालक के पत्ते और हरी पत्ते वाली मेथी मिलाकर सब्जी बनाकर खाने से पथरी नहीं बनती।

अन्य सम्बंधित पोस्ट 

Leave a Reply

Ad Blocker Detected

आपका ad-blocker ऑन है। कृपया हमे विज्ञापन दिखाने की अनुमति दें। पूरा कंटेंट पढ़ने के लिए अपना ऐड-ब्लॉकर www.healthbeautytips.co.in के लिए अनब्‍लॉक कर दें। धन्यवाद Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please check your Anti Virus settings /Browser settings to turn on The Pop ups.

Refresh