ऑयली हेयर (तैलीय बालों) के लिए उपाय तथा हर्बल शैम्पू बनाने की विधि

स्वस्थ, सुन्दर, लम्बे, घने व चमकदार बाल किसी भी स्त्री पुरुष के व्यक्तित्व को निखार सकते हैं। आपके बालों का आकार-प्रकार न केवल आपकी जीवन शैली प्रदर्शित करता है बल्कि आपकी मनोस्थिति का भी आभास देता है। बाल की संरचना बालों को प्राकृतिक चमक सीबम नामक प्राकृतिक कंडीशनर से प्राप्त होती है जो सीबेशस ग्लैण्ड्स नामक तैलीय ग्रंथियों से उत्पन्न होता है। सीबम में एन्टीसेप्टिक तत्व भी होते हैं, जो संक्रमण को रोकते हैं तथा बालों को रक्षात्मक क़वच प्रदान करते हैं। कुछ लोगो में सीबम उत्पन्न करने वाली ग्रंथियां अधिक सक्रिय होती हैं, जिसकी वजह से सीबम अधिक मात्रा में बनता है जिसकी वजह से  बालों में चिकनाहट आ जाती है और बाल अधिक तैलीय यानि ऑयली हेयर बन जाते है। कुछ लोगो में सीबम पैदा करने वाली ग्रंथियों के निष्क्रिय रहने पर सीबम कम मात्रा में पैदा होता है और बाल शुष्क (ड्राई हेयर ) हो जाते हैं। ऑयली हेयर की समस्या अधिकतर किशोर युवक-युवतियों में पाई जाती है।

जैसा कि पीछे बताया जा चुका है, ऑयली हेयर की समस्या तैलीय ग्रंथियों (सीबेशस ग्लैण्ड्स) के अधिक सक्रिय होने के कारण पैदा होती है। इसके अतिरिक्त तनाव, गरम वातावरण, असन्तुलित आहार तथा व्यायाम की कमी के कारण भी यह समस्या पैदा हो सकती है। तैलीय बाल चिपचिपे होते हैं। इसलिए इन्हें मनचाही शैली में संवारना मुश्किल होता है। बाल की जड़ों में चिपचिपा पदार्थ जमा होने के कारण इनकी विशेष देखभाल की जरुरत होती है। तैलीय बालों के लिए किस प्रकार के शैम्पू और कंडीशनर का चुनाव करना चाहिए? शैम्पू और कंडीशनर का प्रयोग कैसे करना चाहिए तथा ऑयली हेयर के लिए घरेलू हर्बल शैम्पू और कंडीशनर कैसे बनाएं? यह जानकारी नीचे इसी पोस्ट में आगे दी गई है।

ऑयली हेयर की देखभाल के उपाय

ऑयली हेयर (तैलीय बालों) के लिए उपाय तथा तैलीय बालों के लिए हर्बल शैम्पू बनाने की विधि oily hair ke liye tips best shampoo

ऑयली हेयर

  • अपने सिर के बाल नियमित रूप से धोइए। बालों को धोने के लिए अच्छे शैम्पू का प्रयोग कीजिए और बाल सावधानी से धोइए |
  • गीले बालों को सुखाते समय सावधानी से काम लीजिए। बालों का फालतू पानी निकालकर उन्हें या तो प्राकृतिक रूप से सुखाइए या फिर किसी हेयर ड्रायर का इस्तेमाल कीजिए।
  • शरीर को दूषित तत्वों से बचाने के लिए प्रतिदिन 8-10 गिलास पानी का सेवन कीजिए।
  • बालों को अपने चेहरे से हटाकर रखिए, वरना बालों की चिकनाई चेहरे की त्वचा पर लगने से दाग-धब्बे पैदा हो सकते हैं।
  • गुलाबजल का प्रयोग ऑयली हेयर को अस्थाई तौर पर चिकना व चिपचिपा होने से रोक सकता है। इसलिए रूई को गुलाबजल में भिगोकर बालों में स्थान-स्थान पर लगाएं।
  • ऑयली हेयर को सप्ताह में कम से कम तीन बार अवश्य धोना चाहिए।
  • ऑयली हेयर को धोने के लिए सही शैम्पू का चुनाव करें अथवा आंवला, रीठा या शिकाकाई से बालों को साफ करें।
  • बालों को हल्के हाथों से धोएं। बालों को न तो अधिक रगड़ें और न ही ज्यादा मालिश करें।
  • शैम्पू करने के बाद ठंडे पानी से बालों को अच्छी तरह धो लें। गर्म पानी का कम से कम प्रयोग करें
  • तैलीय बालों में बिना जरूरत कंघी न करें वर्ना त्वचा की तेल ग्रंथियां ज्यादा सक्रिय हो जाती हैं। फिर चिकनाई सिर की पूरी सतह पर फैल जाती है।
  • एक कटोरी पानी में एक नींबू का रस और एक चम्मच सिरका मिलाएं। इसे ठीक से ऑयली हेयर पर लगाएं। 15 मिनट बाद बालों को ज्यादा पानी से धो लें।
  • ऑयली हेयर के लिए नींबू का शैम्पू (Lemon Shampoo) अधिक सूटेबल होता है। यह ऑयली हेयर को थोडा सूखा बनाने में मदद करता है।
  • यदि अधिक ऑयली हेयर होने के कारण आपके सिर में रूसी हो गई है, तो आप इसे आज़मा सकते हैं। एक चम्मच त्रिफला लेकर उसे आधा कप पानी में डालकर कुछ देर तक उबालें। जब यह उबल जाए, तब इसे ठंडा करके छान लें। इसमें 1 चम्मच सिरका मिलाएं और इसे लगाकर सिर की मालिश करें। सुबह किसी अच्छे शैंपू से बाल धो लें। इस पैक से स्कैल्प का तेल कम होगा, जिससे रूसी भी नियंत्रित होगी और ऑयली हेयर भी थोड़े कम चिपचिपे होंगे ।
  • दो मुट्ठी पुदीने को आधे गिलास पानी में 20 मिनट तक उबाल लें, फिर उस पानी को छान कर फ्रिज में रख लें। जब भी बाल धोएं, तब बाल धोते वक्त इसे शैंपू के साथ मिला लें, उसके बाद बाल धोएं।
  • शैम्पू करने के बाद एक गिलास पानी में एक चम्मच सिरका मिलाकर बालों को धो लें।
  • ऑयली हेयर को महीने में एक बार मेंहदी में आंवला, अण्डा, नींबू, दही, एक चम्मच तेल, कत्था और चाय की पत्ती का पानी मिलाकर बालों में लगायें। दो घंटे बाद बाल धो लें।
  • पसीने में चिपके हुए बालों को जल्दी से धो लें। पसीने से पैदा होने वाली गंदगी सिर की त्वचा और बालों को नुकसान पहुँचाती है।
  • 4 चम्मच दही, 2 चम्मच मुलतानी मिट्टी, 2 चम्मच आंवला पाउडर, 1/2 चम्मच मेथी इन सबको मिलाकर बालों की जड़ों में ठीक से लगायें एक घंटे बाद गुनगुने पानी से धो दें। ऑयली हेयर से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी |
  • शैम्पू थोड़ी मात्रा में तथा अपने बालों के स्वभाव के अनुसार ही प्रयोग करें।
  • यदि आपको अपने बालो के टाइप के बारे में किसी प्रकार का सन्देह हो तो हल्का शैम्पू ही इस्तेमाल करें।
  • शैम्पू इस्तेमाल करने से पहले पैकिग पर छपे हुए निर्देश ध्यानपूर्वक पढ़कर उन्हीं के अनुसार शैम्पू लगाएं। सम्भव हो तो शैम्पू की बड़ी बोतल खरीदने से पहले पाउच में उपलब्ध शैम्पू का प्रयोग करके यह देखें कि कौन सा शैम्पू आपके लिए अधिक उपयुक्त है।
  • बालों को अच्छी तरह भिगोकर शैम्पू लगाएं तथा उंगलियों की पोरों से बालों की जड़ों में शैम्पू की एक मिनट तक मालिश करें ताकि शैम्पू जड़ों में समाकर बालों की अच्छी तरह सफाई करे। शैम्पू लगाने से पहले बालों में कंघी या ब्रश करें।
  • शैम्पू की बालों में अच्छी तरह मालिश करने के बाद, बाल पानी से उस समय तक धोएं जब तक सारा मैल, तेल तथा शैम्पू सिर से निकल न जाए। शैम्पू तथा झाग निकल जाने पर साफ पानी सिर से गिरने लगेगा। चाहें तो दोबारा शैम्पू लगाकर बाल धोएं। इस बार भी थोड़ी मात्रा में ही शैम्पू प्रयोग करें। धुल जाने पर तौलिए से थपक-थपक कर हल्के ढंग से बाल सुखाएं तथा हेयर कन्डीशनर का प्रयोग करें यह ऑयली हेयर की सफाई के लिए जरुरी है।
  • वैसे तो ऑयली हेयर को सप्ताह में एक या दो बार शैम्पू से बाल धोना पर्याप्त है। परन्तु आवश्यकतानुसार इससे अधिक बार भी शैम्पू का प्रयोग किया जा सकता है। यह आवश्यकता मौसम के अनुसार भी बदल सकती है। जैसे गर्मियों में शैम्पू की अधिक तथा जाड़ों में शैम्पू से बाल धोने की आवश्यकता कम हो सकती है।
  • प्रदूषण का प्रभाव बालों पर भी पड़ता है। धूल-मिट्टी वाले इलाके में रहने या काम करने से ऑयली हेयर में गन्दगी जल्दा जमा हो जाता है। ऐसी अवस्था में बालों को शैम्प से सप्ताह में कई बार धोना आवश्यक हो सकता है।
  • यहाँ नीचे ऑयली हेयर में थोडा सूखापन लाने के लिए हर्बल शैम्पू बनाने की विधि दी गई है |

तैलीय बालों के लिए घरेलू शैम्पू बनाने की विधि

ऑयली हेयर (तैलीय बालों) के लिए उपाय तथा तैलीय बालों के लिए हर्बल शैम्पू बनाने की विधि oily hair ke liye tips best shampoo

ऑयली हेयर के लिए हर्बल शैम्पू

 

रोजमैरी ड्राई शैम्पू फॉर ऑयली हेयर

  • मुल्तानी मिट्टी = 2 बड़े चम्मच
  • रोजमैरी तेल = कुछ बूंदें।

मुल्तानी मिट्टी में रोजमैरी का तेल मिलाकर अच्छी तरह पीस लें। जब तेल मिट्टी में पूरी तरह सूख जाए तो इसे छान लें तथा बालों में लगाएं। शेष विधि ड्राई रूट पाउडर के समान ही है।

ऑयली हेयर के लिए सबसे आदर्श शैम्पू

  • मेथी के बीजों का पाउडर = 250 ग्राम
  • आंवला या शिकाकाई पाउडर = 1 किग्रा.
  • कोई जड़ी-बूटी – एक मुट्ठी भर

हवाबंद जार में सारी सामग्री डालकर हिला लें। मेथी में ठंडक पैदा करने के बहुत से गुण हैं। आंवला तथा शिकाकाई बालों की ग्रोथ के लिए सबसे अच्छा हैं। जड़ी-बूटियां बालों में चमक तथा निखार लाती हैं। इस मिश्रण में आप बेसन भी मिला सकती हैं यह ऑयली हेयर के लिए उत्तम आटा है ।

ड्राई शैम्पू फॉर ऑयली हेयर

  • एक भाग मुल्तानी मिट्टी
  • दो भाग टैलकम पाउडर

इस सूखे मिश्रण को सिर पर लगाएं तथा कुछ मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें। फिर ब्रश से बाल साफ कर लें। यह ऑयली हेयर की देखभाल के लिए काफी असरकारक सूखा शैम्पू है। लेकिन इसे रात भर या देर तक न लगाए रखें तथा ब्रश से अच्छी तरह झाड़ लें।

इसी प्रकार टैलकम पाउडर में जई का आटा मिलाकर भी आप ऑयली हेयर के लिए शैम्पू तैयार कर सकते हैं। इसे भी ऊपर बताई गई विधि से प्रयोग करें। यह सूखा शैम्पू तैलीय बालों के लिए विशेष लाभकारी है क्योंकि यह बालों का अतिरिक्त तेल साफ कर देता है। यह उन लोगों के लिए भी बेहद फायदेमंद है जिनके पास शैम्पू से बाल धोने का समय नहीं रहता।

ड्राई रूट पाउडर फॉर ऑयली हेयर

  • अरारोट= 1 बड़ा चम्मच
  • ओरिस रूट पाउडर = 1 बड़ा चम्मच दोनों का मिश्रण बनाकर बालों पर छिड़कें। इसे पूरे सिर तथा बालों की जड़ तक अच्छी तरह लगाएं। कुछ देर लगाने के पश्चात बारीक ब्रश की सहायता से पाउडर का कण-कण साफ कर ले।
  • जवाकुसुम के फूल तथा पत्तियां– जवाकुसुम के फूल तथा पत्तियां चुनकर साफ कर लें। इसके बाद इन्हें पीसकर बारीक पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को बालों पर अच्छी तरह लगाकर 2-3 घंटे के लिए छोड़ दें। फिर बालों को भली-भांति रगड़े। जवाकुसुम के फूल बालों की बढोत्तरी तो करते ही हैं। साथ ही ऑयली हेयर में निखार भी लाते हैं।
  • आंवला, शिकाकाई तथा रीठा–तीनों को समान मात्रा में लेकर रात भर भीगने के लिए छोड़ दें। इस मिश्रण को छानकर ऑयली हेयर धोएं। बाल लम्बे, सूखे तथा चमकदार होने लगेंगे।

यदि आप ऑयली हेयर की देखभाल के लिए बने बनाए शैम्पू प्रयोग करना चाहते है तो इनमे से कोई भी शैम्पू का इस्तमाल कर सकते है :- Biotique Bio Green Apple Shampoo, Himalayan Protein Shampoo, Nutrijena Clean Replenishing Shampoo.

{Tags. – Oily Hair care Tips, Best herbal shampoo for oily hair, How To Treat Oily Scalp & Greasy Looking Hair, how to take care of oily hair with dandruff }

अन्य सम्बंधित लेख 

Leave a Reply