कान में दर्द होने के कारण और प्रभावी घरेलू उपचार

कान में दर्द की समस्या किसी को भी हो सकती है। कान में दर्द होने पर आपका मन किसी काम में नहीं लगता है और आप बेचैन हो जाते हैं। कई बार ये दर्द इतना बढ़ जाता है कि खाना-पीना, उठना-बैठना यहां कि आराम से सोना तक दूभर हो जाता है। कान में दर्द होने के कई कारण हो सकते है जैसे इन्फेक्शन, कान में फुंसी निकलने, कान पर चोट लगने और सर्दी के कारण आदि। अगर बच्चे या छोटे शिशु के कान में दर्द होता है तो वह हर समय जोर-जोर से रोता रहता है। इस पोस्ट में कान दर्द होने के प्रमुख कारण तथा कान में दर्द से फ़ौरन राहत पाने के घरेलू नुस्खे बताये गए है जिससे आपको निश्चित रूप से लाभ मिलेगा | तो आइये सबसे पहले जानते है मुख्य कारण |

कान में दर्द क्यों होता है ? कान का दर्द के कारण :

Ear Pain Causes:

  • कान में दर्द होने के अनेक कारण हो सकते हैं, लेकिन सबसे अधिक कान में दर्द सर्दी लगने से होता है। सर्दियों में घर से बाहर जाने पर स्कूटर या बस में यात्रा करने पर कान में ठंडी हवा लगती है तो कान में दर्द होने लगता है।
  • नहाते समय या बारिश के कारण कान में पानी भर जाने से भी कान में दर्द होने लगता है।
  • किसी कीड़े मकोड़े के कान में घुस जाने से |
  • कान में वैक्स (गंदगी) जमा होने से जो अक्सर साबुन या शैम्पू जाने से धीरे धीरे जमा होने लगती हैं | जिससे कान में भारीपन, कान की खुजली , ऊँचा सुनना आदि की समस्याए देखने को मिलती हैं |
  • किसी चीज से एलर्जी या कान में फुंसी तथा bacterial Infection से भी कानदर्द हो सकता हैं |
  • कुछ लोगो की आदत होती है बार-बार कान में कोई नुकीली चीज डालने की जैसे पेन, पेंसिल या लकड़ी की कोई स्टिक इससे कान के अंदर घाव बन जाते है जो संक्रमित हो कर और भी ज्यादा दर्द देने वाले हो जाते है | कान साफ़ करने के लिए Ear Cleaning Buds ( Ear Wax Cleaner Removal ) का ही उपयोग करे इसके किनारों पर रुई लगी होती है जिससे घाव बनने का खतरा नहीं होता है | सबसे कम खराब बस यही तरीका है कान साफ़ करने का |
  • चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार कान में दर्द वात, पित्त, कफ की खराबी के कारण भी हो सकता है।
  • जब किसी को तेज जुकाम हो जाता है और दो-तीन दिन तक जुकाम का प्रकोप बना रहता है तो कान में दर्द होने लगता है।
  • कान में एक्जिमा या सोरायसिस के कारण भी लगातार खुजली और ज्यादा कान खुजाने से घाव होने लगते है जो अंत में कान में दर्द का कारण बन जाते हैं | जैतून का तेल डालने से कान में खुजली से राहत मिलती है। इसलिए इसका नियमित प्रयोग करें |
  • कान में दर्द की उत्पति दांतों में दर्द होने के कारण भी हो सकती है।
  • कान पर कोई चोट लगने से कान से रक्त निकलने पर भी कान में दर्द होने लगता है।
  • एक करवट लगातर लंबे समय तक सोने से भी रक्त के दबाव के कारण कान में दर्द हो जाता है |
  • कई बार देर तक तैरने से कान में पानी भर जाने से भी कान में दर्द हो जाता है।
  • इसलिए अगर आप तैराकी के शौक़ीन है तो तैरने से पहले Swimming Headband & Swimming Ear Plugs जरुर लगा ले | नहीं तो कुछ बुँदे जैतून के तेल डाल लें |

बच्चों के कान में दर्द होने के मुख्य कारण :

  • स्तनपान करते समय शिशु के कान में दूध चला जाए तो कान में दर्द होने लगता है। ऐसे ही बच्चे को नहलाते समय भी शिशु के कान में पानी भर सकता है जो कानदर्द का कारन बन जाता है ।
  • कान में दर्द होने पर शिशु बार-बार कान की ओर हाथ को ले जाता है और कान का स्पर्श करते ही जोर से रोने लगता है। शिशु की इस हरकत से उसके दर्द का पता करके दवा की जाती है |
  • किसी स्त्री द्वारा अधिक ठंडे खाद्य-पदार्थों का सेवन करने अथवा स्तनपान करने पर वातविकार के कारण शिशु के कान में दर्द हो सकता है।
  • छोटे बच्चे अक्सर खेल-खेल में कागज के टुकड़े, बीज, मिट्टी, चाक के टुकड़े, या माचिस की तीलियों के टुकड़े कान में डाल लेते हैं जो कान में दर्द का कारण बन जाते हैं |

कान दर्द का घरेलू इलाज के उपाय : कान में दर्द का उपचार 

Home Remedies for Ear Pain Relief:

kaan dard ke gharelu upay ear pain cure कान में दर्द होने के कारण और प्रभावी घरेलू उपचार

कान में दर्द का प्रभावी घरेलू उपचार

  • कान में दर्द का इलाज के लिए सबसे आसान उपाय सरसों का तेल गर्म करके, हल्का गर्म बूंद-बूंदकर कान में डालना होता है | लहसुन को इस तेल में जलाकर उस तेल की छानकर बूंद-बूंद से तुरंत दर्द बंद हो जायेगा।
  • अदरक का रस 5 ग्राम, शहद 5 ग्राम, सेंधा नमक 5 ग्राम को तिल के 10 ग्राम तेल में मिलाकर 25 मि.ली पानी के साथ आग पर गर्म करें। पानी के ठंडे हो जाने पर उस तेल की बूंद-बूंद कान में डालने से कानदर्द ठीक होती है। अदरक के फायदे और 40 घरेलू नुस्खे
  • सरसों का तेल 10 ग्राम लेकर उसमें हींग 3 ग्राम मिलाकर गर्म करें। फिर इस तेल को बूंद-बूंद कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता है।
  • सूरजमुखी फूलों का रस 5 ग्राम, शहद 5 ग्राम, तिल का तेल 5 ग्राम और सेंधा नमक 3 ग्राम मिलाकर कान में बूंद-बूंद डालने से कान के दर्द का निवारण होता है।
  • सूरजमुखी के पत्तों का रस निकालकर और तेल में मिलाकर कान में डालने से कान का दर्द दूर हो जाता है |
  • सुदर्शन के पत्तों का रस हल्का गर्म करके कान में बूंद-बूंद डालने से भी कान में दर्द होने से राहत मिलती है |
  • लहसुन की 10 ग्राम कलियां, तिल का तेल 20 ग्राम और सेंधा नमक 5 ग्राम, तीनों को आग पर पकाकर, किसी कपड़े द्वारा छानकर, हल्का गर्म बूंद-बूंद डालने से कान का दर्द ठीक होता है। लहसुन खाने के फायदे और 12 बेहतरीन औषधीय गुण
  • हींग, सोंठ और तुबरू प्रत्येक 50-50 ग्राम लेकर 300 ग्राम सरसों के तेल में पकाएं। इस तेल को छानकर बूंद-बूंद इस्तेमाल करने से कान में दर्द ठीक होता है।
  • एलोवेरा के 10 ग्राम रस को हल्का गर्म करके, कान में दर्द के विपरीत कान में बूंद-बूंद टपकाने से कान का दर्द ठीक होता है।
  • अगर सर्दी में घूमने-फिरने से कान में दर्द हुआ है तो अदरक के 5 ग्राम रस को हल्का गर्म करके, कपड़े से छानकर बूंद-बूंद डालने से कान में दर्द ठीक होता है।  सिरदर्द दूर करने के घरेलू उपाय
  • सर्दी लगने से कान में दर्द होने पर पान के रस को गर्म करके कान में बूंद-बूंद डालें।
  • अगर कान में जमा वैक्स यानि गाढ़ी गंदगी के कारण दर्द है तो सबसे पहले कान पर एक गर्म पानी की बोतल लगाकर वैक्‍स को दूर करने के कोशिश करें। इससे पैदा गर्मी से वैक्‍स पिघलकर आसानी से कान से बाहर निकल जाती है।
  • गिलोय के पत्तो का रस हल्का गर्म करके बूंद-बूंद डालने से कान में दर्द से मुक्ति मिलती है।
  • चंदन का तेल कान में बूंद-बूंद टपकाने से कान में दर्द ठीक होता है।
  • कान के पीछे सूजन होने पर तुलसी के 10 ग्राम पत्ते और एरंड की 10 ग्राम कोंपलें पीसकर हल्का गर्म करके, सेंधा नमक 5 ग्राम मिलाकर लेप करने से सूजन ठीक होता है।
  • अलसी के तेल को हल्का गर्म करके कान में एक-दो बूंद टपकाने से कान में दर्द ठीक होता है।
  • मूली के पत्तों को कूट-पीसकर उसका रस निकालें। 50 ग्राम रस को 150 ग्राम तिल के तेल में देर तक पकाएं जब रस भाप बनकर उड़ जाये तब इस तेल को कपड़े से छानकर शीशी में भरकर रखें। कान में दर्द होने पर उस तेल को हल्का गर्म करके बूंद-बूंद कान में डालने से बहुत लाभ होता है।
  • प्याज की गांठ को गर्म राख में सेंककर उसका रस निकालकर कान में डालने से कानदर्द में तुरंत आराम मिलता है।
  • कान को Hydrogen Peroxide (झाग वाली दवा) से भी कान का इन्फेक्शन और वैक्स साफ़ होकर कान में दर्द की बीमारी ठीक हो जाती है |
  • ताजा पुदीने के रस की दो तीन बूंदे कान में डालने से भी कान में दर्द से तुरंत राहत मिलती है | पुदीने के लाभ: पुदीना के बारे में जानना है तो पढ़ें यह पोस्ट |

इनमे आप चाहे जो भी उपाय अजमाए लेकिन दो बातों का ख्याल अवश्य रखे की एक तो तेल ज्यादा गर्म ना हो और दुसरे कोई भी ठोस चीज कान में ना जाने पाए, इसलिए तेल को कान में डालने से पहले छलनी से जरुर छान लें और ड्रॉपर की मदद से डालें  |

अन्य सम्बंधित पोस्ट 

सोशल मीडिया पर इस पोस्ट को शेयर करें

Email this to someonePin on PinterestShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *