Lauki Soup लौकी की खिचड़ी और तेल बनाने की विधि

Lauki Soup या घिया का सूप बहुत स्वादिष्ट और सेहत के लिए बहुत गुणकारी होता है | “लौकी के बेहतरीन गुण” नाम से प्रकाशित पिछले पोस्ट में हमने लौकी के लगभग 29 औषधीय गुणों को बताया था और साथ ही यह भी बताया था की एक बहुत बड़ा वर्ग लौकी को और सब्जियों की अपेक्षा कम स्वादिष्ट मानता है और इसी अवधारणा के चलते बहुत सारे लोग लौकी के लाभकारी गुणों से वंचित रह जाते है| इस पोस्ट में स्वादिष्ट Lauki Soup बनाने की विधि ,लौकी का तेल और लौकी की खिचड़ी बनाने की विधि बतायी गयी है साथ ही अच्छी लौकी की गुणवत्ता की पहचान कैसे करे यह भी बताया गया है |

अच्छी लौकी की गुणवत्ता की पहचान/ Tips for Selecting the Perfect & Good Quality Bottle Gourd (Lauki)

  • जो लौकी हरी, नरम, चिकनी, छूने पर मुलायम लगती हो, जिसके बीज कच्चे मुलायम, उंगलियों से दबाने पर दब जायें, कठोर नहीं हों, वह अच्छी होती है।
  • प्राय: सब्जी का छिलका उतार कर सब्जी को पानी से धोया जाता हैं, जिससे उनके सारे प्रोटीन, विटामिन और रेशे निकल जाते हैं। साबुत सब्जियों को पहले धोकर, फिर काटें। सभी सब्जियाँ बिना छिलका उतारे बनाने से ज्यादा लाभदायक होती हैं।

लौकी का सूप बनाने की विधि / How To Make Lauki Soup (Bottle Gourd Soup / Dudhi Soup)

  • सामग्री-लौकी-200 ग्राम;
  • आलू, प्याज-2-2
  • पत्तागोभी (कटी हुई)-1 कप
  • मूंगफली (कच्चे दाने)-1/4 कप
  • कॉर्नफ्लार (मक्के का आटा)-1 बड़ा चम्मच
  • मक्खन-1 बड़ा चम्मच
  • लौंग (पाउडर)—1/4 छोटा चम्मच
  • दालचीनी (पाउडर)—1/4 छोटा चम्मच
  • कालीमिर्च (पाउडर)-1/4 छोटा चम्मच
  • नमक स्वादानुसार
bottle gourd lauki soup recipe in hindi

lauki soup recipe

विधि -(Lauki Soup Process) -लौकी, आलू, प्याज व पत्तागोभी को बारीक काट लें। एक गिलास पानी डालकर उबालें। ठण्डा होने पर पीसकर छान लें। कटी सब्जियों का स्टॉक तैयार हो गया है | उसके पश्चात मूंगफली को बारीक पीस लें और गर्म करें। फिर इसमें कॉर्नफ्लार (मक्के का आटा) डालकर चलाएँ। अब सब्जियों का स्टॉक इसमें डाल दें। लगातार चलाएँ। उबाल आने पर पिसी मूंगफली, लौंग, दालचीनी, कालीमिर्च व नमक डालें। थोड़ी देर उबालकर परोसे।

लाभ (Lauki Soup benefits )- यह सूप प्रोटीन, मिनरल्स व विटामिन्स से भरपूर तथा कृमिनाशक है। बार-बार प्यास लगना, बेचैनी, रक्तस्राव, खाँसी, दमा आदि रोगों में लौकी का सूप पीना लाभदायक है। लौकी का रस और खिचड़ी तथा सब्जी भी रोगी के लिए लाभदायक है।

लौकी का तेल बनाने की विधि / How To Make Lauki Ka Tel (Bottle Gourd Oil Making Process )

  • एक कप देशी घी या तिल या नारियल का तेल किसी भी एक प्रकार के तेल में 3 कप लौकी का रस डालकर मंद-मंद आंच पर इतना उबालें कि सारा पानी जलकर केवल तेल ही रहे।
  • इसे ठण्डा करके छानकर बोतल में भर लें। यह भी पढ़ें – लौकी जूस के बेहतरीन 29 औषधीय गुण
  • इसे रोजाना सिर में लगायें। चाहें तो शरीर पर मालिश भी कर सकते हैं। खुजली, दाद पर भी लगा सकते हैं। इससे त्वचा की खुश्की , जलन दूर होगी। सिर तथा आँखें स्वस्थ रहेंगी। नींद अच्छी आयेगी। शरीर में ताजगी, स्फूर्ति रहेगी। मानसिक दुर्बलता दूर होती है।

लौकी की खिचड़ी बनाने की विधि / Bottle Gourd Mush Recipe

  • विधि- साबुत मूंग दाल 6 ग्राम, पुराना बासमती चावल 60 ग्राम, घी 30 ग्राम, कददू कस की हुई लौकी 500 ग्राम, हरा धनिया और नमक, पानी में इन सबको उबाल कर खिचड़ी बनायें। घी और जीरे में तड़का लगाकर भी खा सकते है। इसे प्रतिदिन गर्म-गर्म खायें। आप इस खिचड़ी को और भी स्वादिष्ट बनाने के लिए अपनी पसंद अनुसार अन्य चीजें भी डाल सकते हैं। एक नजर इस पोस्ट पर भी डालें – ह्रदय रोग में लौकी के बेहतरीन फायदे

लौकी की खिचड़ी के फायदे/ Bottle Gourd Mush benefits

  • इससे पेट के सभी रोग दूर हो जाते है। यह बहुत ही स्वादिष्ट और पाचक खिचड़ी होती है। लौकी की खिचड़ी खाते रहने से कब्ज दूर हो जाती है। इसके अलावा ज्यादा कब्ज होने पर लौकी की खिचड़ी सुबह-शाम दोनों समय एक सप्ताह तक खाने से लाभ होता है।
  • Lauki Soup ,खिचड़ी आदि बहुत स्वादिष्ट और पोष्टिक होती है अगर आप यहाँ बताई विधि अनुसार इसे तैयार करेंगे तो |

यह भी पढ़ें

 



शेयर करें

Comments

  1. By Ritu

    Reply

    • Reply

  2. By Laxmipat Kochar

    Reply

    • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.