बादाम के तेल के फायदे तथा बेहतरीन औषधीय उपयोग जानिए

पोषक तत्वों से भरपूर बादाम को सेहत का खजाना भी कहा जाता है। इसीलिए आप बादाम के तेल का इस्तेमाल आप सेहत और खूबसूरती दोनों के लिए कर सकते हैं, बादाम के तेल को बादाम रोगन भी कहते हैं यह कच्चे बादाम से निकाला जाता है। बादाम का तेल ठंडा, वात और पित्तनाशक तथा हल्का होता है। बादाम तेल का सेवन आधा चम्मच गर्म दूध के साथ रात को सोते समय करना चाहिए। बादाम के तेल में एण्टी ऑक्सीडेन्ट, विटामिन ए, बी, ई, मिनरल्स, प्रोटीन, कार्बनिक तत्व, लोहा, कैल्शियम, फॉस्फोरस, वसा होते हैं जो शारीरिक शक्ति बढ़ाते हैं।

बादाम भिगोकर छिलका हटाकर, पीसकर भी आप इसका सेवन कर सकते हैं या तेल के रूप में भी ले सकते हैं। प्रायः कहा जाता है कि बादाम का छिलका पचता नहीं है, इसलिए छिलका हटाकर ही काम में लें। बादाम खाने से पहले भिगोना तथा छीलना चाहिए, इस बात के पीछे कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। सच्चाई यह है कि फाइबर तत्वों का महत्वपूर्ण भाग बादाम की बाहरी यानि त्वचा में ही होता है, जो अच्छी पाचन-क्रिया के लिए बहुत जरुरी है। कागजी बादाम सबसे अच्छा होता है। बादाम की तासीर तरगर्म होती है इसलिए यह सर्दी, गर्मी दोनों ही मौसमो में इसका प्रयोग किया जा सकता है। पतले छिलके वाले बादाम ज्यादा उपयोगी माने जाते हैं। इन्हें कागजी बादाम कहा जाता है। कड़वे बादाम नहीं खाने चाहिये।

जानते है बादाम के तेल के क्या फायदे होते है ?

बादाम के तेल के फायदे तथा बेहतरीन औषधीय उपयोग जानिए badam ke tel ke fayde baare mein bataye

बादाम का तेल

  • बादाम के तेल से शारीरिक और मानसिक शक्ति बढती है। बुढ़ापे में या आजकल मानसिक तनाव व प्रदूषण बढ़ने की वजह से याद रखने की शक्ति कमजोर होती जा रही है। बादाम का तेल स्मरण-शक्ति को तेज बनाये रखने में सहायक होता है। यह गर्भवती औरतों के लिए भी लाभदायक है। बादाम का तेल शारीरिक स्फूर्ति और नई ताजगी देता है। बादाम में पोषक तत्व माँस से अधिक होते हैं।
  • बादाम तेल में ऑलिन की मात्रा बहुत होती है। बादाम तेल की मालिश सिर में करने से दिमाग ठंडा और हल्का रहता है बालों की ज्यादातर बीमारियाँ हमेशा दूर रहती है। दिमाग ताजा रहता है तथा शरीर में धातु की वृद्धि होती है। इससे सिरदर्द भी ठीक हो जायेगा। बादाम का तेल निमोनिया में लाभ करता है। कब्ज़ दूर करता है। लगातार लम्बे समय तक सेवन करने से हिस्टीरिया रोग में भी लाभ करता है।
  • बादाम का तेल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है |
  • बादाम विटामिन ‘ई’, फैट्स तथा प्रोटीन जैसे पौष्टिक तत्वों से भरपूर है। बादाम का कोलेस्ट्रोल के स्तर को घटाने, दिल से जुड़े रोगों का जोखिम कम करने और सेहत बनाए रखने में सक्षम है।
  • एनीमिया की वजह से यदि रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा कम हो गई है तो बादाम के तेल का सेवन शुरू कर दें क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में आयरन होता है, जो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने का काम करता है |
  • हृदय रोग- बादाम के तेल को अन्य तेलों की जगह उपयोग करने से हृदय रोग दूर रहते हैं। बादाम कोलेस्ट्रोल कम करके माँसपेशियों और कोशिकाओं की शक्ति बढ़ाता है।
  • नार्मल डिलीवरी –गर्भावस्था के नवें महीने में एक चम्मच बादाम का तेल गर्म दूध से सुबह-शाम पिलायें। इससे प्रसव आसानी से होगा। गर्भावस्था में पेट पर पड़ने वाली लाइनें (स्ट्रेच मार्क्स) पर बादाम रोगन की मालिश करने से निशान मिट जाते हैं।
  • पथरी–गर्म दूध में सुबह-शाम बादाम का तेल आधा चम्मच मिलाकर पीते रहने से पथरी निकल जाती है। मूत्राशय के अन्य रोग भी ठीक हो जाते हैं। पेशाब खुलकर आता है, पेशाब की रुकावट ठीक हो जाती है।
  • फटे होठों पर बादाम का तेल लगायें आराम मिलेगा |
  • बादाम का तेल आंत्र संक्रमण को दूर करता है और आंतों के कार्यों को बेहतर बनाता है इसके लिए आप रोजाना 5 मिली बादाम के तेल का सेवन कर सकते है |
  • माइग्रेनयानि आधे सिर के दर्द से छुटकारा पाने के लिए रोजाना सुबह-सुबह नाक के दोनों छेदों में बादाम रोगन की दो-दो बूंदें डालें। इसके बाद उसी मुद्रा में 2 से 3 मिनट के लिए आराम से  बैठ जाएं आधे सिरदर्द से छुटकारा मिलेगा। मौसम बदलने के कारण अक्सर व्यक्ति इंफैक्शन का शिकार हो जाता है जिससे साइनस की समस्या बढ़ जाती है। इस परेशानी से राहत पाने के लिए भी यह नुस्खा बहुत कामयाब है |
  • अनिद्रा– नाक के दोनों नथुनों में 2-2 बूंद बादाम का तेल डालकर सोयें। ऐसा करने से नींद जल्दी और अच्छी आयेगी।
  • मधुमेह (Diabetes)—बादाम में शुगर बहुत कम होती है। मधुमेह के मरीज भी बादाम के तेल का सेवन कर सकते हैं। मधुमेह के रोगियों के लिए यह लाभदायक है।
  • बादाम के तेल में विटामिन डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो की बच्चो और बुजर्गो की हड्डियों को मजबूत बनता है।
  • कान दर्द —बादाम का तेल हल्का सा गर्म करके रात को सोते समय कुछ दिन डालें। इससे दर्द मिटेगा।
  • कमर दर्द – दर्द वाले स्थान पर बादाम तेल की मालिश करें। यदि बादाम का तेल नहीं हो तो बादाम पीसकर दर्द वाले स्थान पर लेप करें। इससे नसों के दर्द में भी लाभ होता है।
  • रूसी तथा बाल गिरना- बादाम सिर की त्वचा का पोषण करता है। अँगुली के पोरवों से सिर में बादाम रोगन तेल की हल्की-हल्की मालिश करें और बादाम के तेल का सेवन करें। इससे रूसी दूर होगी, बालों की जड़ें मजबूत होकर बाल गिरना बन्द होगा।
  • अगर आप बादाम तेल से बालों की मसाज करें तो बालों की चमक बढने के साथ ही साथ दो मुंहे बालों की परेशानी से भी छुटकारा मिलता है |

त्वचा के लिए बादाम रोगन तेल के लाभ

  • त्वचा रोग–व्यक्ति की उम्र के साथ त्वचा की कार्यप्रणाली कमजोर पड़ती जाती है, त्वचा का लचीलापन कम हो जाता है। कई कोशिकाओं का निर्माण कार्य धीमा पड़ जाता है। मृत कोशिकाओं की अधिकता के कारण त्वचा में झुर्रियाँ पड़ने लगती हैं। त्वचा की इस कार्य-प्रणाली को ठीक से चलाने के लिये विटामिन ‘ई’ की आवश्यकता होती है। विटामिन ‘ई’ त्वचा का लचीलापन बनाये रखता है। विटामिन ‘ई’ त्वचा रोगों में लाभप्रद के अलावा सौंदर्यवर्धक भी है। विटामिन ‘ई’ त्वचा को कोमल, चिकनी और सुन्दर बनाये रखता है। त्वचा का रूखापन दूर करके जवानों जैसी चमक पैदा करता है। बादाम ब्लीचिंग की तरह काम करता है। इसलिए रंग निखारने के लिए भी इसे फेस पैक में काम लिया जाता है। बादाम में विटामिन ‘ई’ होता है जो बुढ़ापे तक त्वचा की सुन्दरता बनाये रखता है। महिलाओं की त्वचा के लिए किसी भी मॉश्चुराइजिंग क्रीम की तुलना में अधिक गुणकारी है | बादाम रोगन के सेवन के साथ-साथ रात को सोते समय चेहरे व त्वचा पर मालिश करें।
  • अखरोट खाने के फायदे तथा खाने के तरीके (रेसेपी) : Walnuts Nutrition Facts
  • बादाम खाने के फायदे तथा बादाम के बेहतरीन औषधीय गुण
  • त्वचा की कोमलता- बादाम का तेल त्वचा को कोमल बना देता है। बादाम का तेल और ग्लिसरीन (1:4) भाग मिलाकर त्वचा पर मलें। इससे त्वचा बहुत कोमल रेशम जैसी हो जायेगी।
  • घाव होने पर – रगड़ खाकर बने घावों पर बादाम का तेल लगाने से ठीक हो जाते हैं।
  • समान मात्रा में शहद और बादाम तेल का मिश्रण मलने से रुखी त्वचा को पोषण मिलता है। खुश्की और झुर्रियों से सुरक्षा होती है।
  • बादाम तेल से रक्त-संचार ठीक रहता है, यह यकृत और गॉल-ब्लेडर की क्रिया ठीक करती है। रमणियों व धमनियों को खोलती है। मोटापा कम करती है। त्वचा में झुर्रियाँ नहीं पड़तीं। त्वचा में कसावट आती है।
  • डार्क सर्कल्स से राहतः आंखें भले ही कितनी भी खूबसूरत क्यों न हों, लेकिन डार्क सर्कल्स हों तो उन की खूबसूरती में कमी आ जाती है. ऐसे में बादाम के तेल में विटामिन ई की मौजूदगी डार्क सर्कल्स को कम करती है |
  • डैड स्किन सैल्स हटाएं: गंदगी, पसीने के कारण त्वचा पर डैड स्किन सैल्स इकट्टे होने के कारण त्वचा डल सी दिखती है. बादाम में मौइश्चराइजिंग होने के कारण डैड स्किन खत्म होती है |
  • स्तन विकास–रोजाना रात को सोते समय बादाम के तेल की स्तनों पर मालिश करें। एक, दो महीना इस मालिश से स्तनों का आकार बढ़ जायेगा तथा ढीलापन दूर हो जायेगा। बादाम का तेल पियें। इससे स्तनों में दूध भी बढ़ता है।

Leave a Reply