एलोवेरा के नुस्खे : दाद, खुजली, घाव, फोड़े-फुंसियों और जली त्वचा के लिए

एलोवेरा (aloe vera) एक औषधीय पौधा है इसमें एक जड़ी-बूटी की तरह कई गुण होते हैं | एलोवेरा को हम बहुत से नामो से जानते है – ग्वारपाठा, चित्र कुमारी , धृत कुमारी आदि | बहुत से फायदों की वजह से तुलसी और नीम की तरह ही एलोवेरा को भी एक चमत्कारी पौधा कहा जाता है | एलोवेरा का पौधा बिना तने का या बहुत ही छोटे तने का एक गूदेदार और रसीला पौधा होता है | आज कल बड़ी-बड़ी कम्पनियां ग्वारपाठा के उपयोग कर कई प्रकार के सौन्दर्य प्रसाधन व आयुर्वेदिक औषधियां बना रही है | एलोवेरा त्वचा रोगों को ठीक करने के अलावा, गैस, कैंसर, बड़ी आंत का संक्रमण, यौन रोग, कब्ज, जोड़ों का दर्द आदि बीमारियों में लाभप्रद है। इसीलिए एलोवेरा के नुस्खे जानकार आप भी इसके औषधीय गुणों का लाभ उठाये |

इस पोस्ट में आज हम एलोवेरा के नुस्खे बतायेंगे जो इन बीमारियों ठीक करने में सक्षम है – त्वचा जलने या कटने पर, जली त्वचा के दाग दूर करने के लिए, दाद , खाज , खुजली , खारिश , फफोला, फोड़े-फुंसी, घाव, मोच, सूजन, नासूर इत्यादि |

तो आइए जानते हैं एलोवेरा के गुणों और घरेलू उपायों के बारे में |

त्वचा जल जाने और जलने के दाग मिटाने के लिए एलोवेरा के नुस्खे :

aloe vera ke upay dad khaj khujli fode funsi skin burn एलोवेरा के नुस्खे : दाद, खुजली, घाव, फोड़े-फुंसियों और त्वचा जलने का इलाज

एलोवेरा के नुस्खे : दाद, खुजली, घाव, फोड़े-फुंसियों के लिए

  • त्वचा जल जाने पर एलोवेरा का रस और नारियल का तेल मिलाकर लगा दें। इस एलोवेरा के नुस्खे से दाग और जलन दोनों से राहत मिलेगी |
  • एलोवेरा के रस में जायफल घिसकर लगाने से त्वचा पर जले के निशान दूर हो जाते हैं।
  • बरगद के पत्ते को दही में पीसकर एलोवेरा के गूदे के साथ जलने वाले स्थान पर लेप करें, जलन से राहत मिलेगी और ठंडक का अनुभव होगा और साथ ही घाव भरने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।
  • किसी ऐसे स्थान पर जल जाए कि वह अंग पानी के अंदर आसानी से डुबोया जा सके तो जलने पर सादा या ठण्डे जल में वह हिस्सा जलन मिटने तक डुबोकर रखें, उसके तुरंत बाद एलोवेरा का गूदा लेप करें। इस तरीके से न तो छाला होगा और न घाव बनता है।
  • आग से त्वचा जल जाने पर नमक और एलोवेरा का रस मिलाकर मलें। जले का दाग नहीं पड़ेगा, फफोला नहीं होगा तथा जलन तुरंत कम हो जाएगी।
  • जीरा पीसकर एलोवेरा के गूदे में मिला लें और जलने वाले अंग पर लेप करें तो जलन तुरंत शांत हो जाती है।
  • आग में त्वचा ज्यादा देर तक जलने पर भी हल्दी और एलोवेरा का गूदा अत्यंत प्रभावकारी कार्य करता है जिससे त्वचा को बिल्कुल नुकसान नहीं होता। यदि त्वचा ज्यादा जली है तो एलोवेरा का रस और हल्दी मिलाकर नियमित लगायें इस एलोवेरा के नुस्खे से घाव तुरंत भरने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है।
  • गुलाब के रस में एलोवेरा का गूदा मिला लें, साथ ही शुद्ध चंदन का बुरादा मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे त्वचा पर लगाएँ तो जलने से होने वाला दाग, जलन , त्वचा की परत की कमजोरी और जलने से होने वाले अन्य नुकसान कम हो जाता है।
  • आम की गुठली को एलोवेरा के गूदे के साथ पीसकर पुराने जलने वाले निशान पर लगाएँ, निशान त्वचा के रंग में बदल जाते हैं तथा जलने से उत्पन्न सलवटें घुलकर त्वचा पहले जैसी सामान्य हो जाती है।
  • जौ को जलाकर उसकी राख और एलोवेरा का गूदा तुरंत जले स्थान पर लेप करें, इससे फफोला नहीं बनता एवं इस एलोवेरा के नुस्खे से जलन शांत हो जाती है।
  • एलोवेरा गूदे या जेल में नारियल का तेल, कपूर और गेरू मिलाकर शरीर पर मालिश करने से चर्मरोग, दाद, खाज और खुजली से छुटकारा मिलता है |

फोड़े फुंसियों का इलाज के लिए एलोवेरा के नुस्खे :

  • एलोवेरा (ग्वारपाठा ) के गूदे में उड़द को मिलाकर (प्रलेप) Poultice बाँधने से पीप वाला फोड़ा फूटकर ठीक हो जाता है।
  • एलोवेरा से फोड़ा पकाने के उपाय -अलसी की पुल्टिस में हल्दी मिला लें। साथ में एलोवेरा का गूदा गरम करके फोड़े पर बाँध दें। फोड़ा पक कर फूट जाएगा और रोगी को राहत मिलेगी।
  • तुलसी के पौधे के पाँचों अंग (फूल, बीज, पत्र, छाल और जड) को पीसकर एलोवेरा का गरम गूदा मिलाकर त्वचा पर लेप करें तो वहाँ होने वाले दाद, खाज, खुजली, फोड़े के घाव शीघ्र भर जाते हैं।
  • नारियल के तेल में तुलसी के पत्तों का रस बराबर मात्रा में मिलाकर मंदी आंच पर पकाएँ। जब तेल तैयार हो जाए तब मोम का कुछ भाग मिला लें। साथ ही एलोवेरा का गूदा भी हल्का गरम कर लें। इन चारों चीजों से तैयार मलहम को फोड़े-फुंसी और जली हुई त्वचा पर लगाने से जल्द ही आराम मिलता है।
  • मेथी और जौ बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। इसमें एलोवेरा का गूदा मिला लें। दिन में 3 बार इसका लेप लगाएँ। इस एलोवेरा के नुस्खे से त्वचा पर मौजूद गाँठ सूखकर ठीक हो जाती है।
  • बरगद के पत्तों पर एलोवेरा का गूदा लगाकर गरम-गरम फोड़े पर बाँधने से फोड़ा जल्दी पक कर फूट जाता है और रोगी को राहत मिलती है। यह भी पढ़ें एक्जिमा : कारण, लक्षण और मुक्ति के उपाय
  • फोड़ा पकने में आ रहा हो, भयंकर तेज दर्द कर रहा हो तो एलोवेरा का गूदा हल्का गर्म करके पान के पत्ते पर लगाकर उसे फोड़े पर बाँध दें। रात को ऐसा करके सो जाएँ। इस एलोवेरा के नुस्खे से सुबह तक फोड़ा फूटकर मवाद निकल जाएगी और 3 या 4 दिन में ही फोड़ा ठीक होकर निशान तक नहीं मिलेगा।

एलोवेरा के नुस्खे : दाद, खाज, खुजली का इलाज :

  • नीला थोथा तथा फिटकरी को समान मात्रा में लेकर एलोवेरा के गूदे के रस के साथ मिला लें, इसे पुराने दाद पर मलें तो दाद में खुजली कम हो जाती है।
  • नौसादर, नीबू और एलोवेरा का गूदा मिलाकर दाद पर कुछ दिन लगाने से दाद मिट जाता है।
  • अमलतास के पत्तों का रस एलोवेरा के गूदे में मिलाकर लेप करने से दाद मिट जाता है।
  • पुराने दाद हो गए हों तो अनार के पत्तों का रस और ग्वारपाठा मिलाकर दाद पर हल्के हाथ से मलें- इस एलोवेरा के नुस्खे से दो सप्ताह में यह त्वचा रोग दूर हो जाता है। एलोवेरा जूस बनाने की विधि और फायदे |
  • लहसुन का रस और एलोवेरा का रस मिलाकर गरम करें और पुराने दाद पर मलें, दाद जरुर मिट जाते हैं।
  • फिटकरी, आंवला, गंधक, कत्था, सुहागा और एलोवेरा का रस मिलाकर इसका पेस्ट बना लें। बारीक होने पर बड़े चने के बराबर गोलियाँ बना लें। दाद जैसे चर्म रोग इस गोली पानी में घिसकर कई दिनों तक लगाये ।
  • बबूल के फूलों को पीसकर, एलोवेरा के रस में मिलाकर त्वचा पर धीरे-धीरे मलें तो दाद होना ठीक हो जाता है।

एलोवेरा के नुस्खे : त्वचा के घाव और नासूर का इलाज :

  • एलोवेरा का गूदा और गाजर की लुगदी बनाकर गरम करें, इसे घाव पर लगाने से घाव जल्दी भरने लगता है।
  • तुलसी के पत्तों को सुखाकर एलोवेरा के गूदे में मिलाकर घाव पर लेप करें इस एलोवेरा के नुस्खे से घाव में भराव जल्दी ही शुरू हो जाता है। त्वचा की देखभाल से जुड़े 22 जरुरी टिप्स
  • चोट, घाव आदि पर अंजीर, हल्दी और एलोवेरा का गूदा गरम करके बाँधने से आराम हो जाता है।
  • आधा गिलास एलोवेरा का रस, 2 चम्मच हल्दी मिलाकर पीने से घाव भरना ठीक हो जाता है।
  • हल्दी को तवे पर गरम करें और उसमें एलोवेरा का रस भी मिला लें, इस तैयार लेप को घाव पर भरने से घाव 2 या 3 बार की पट्टी में ही ठीक हो जाते हैं।  एलोवेरा से हटाएं चेहरे की झुर्रियाँ, पिम्पल
  • छोटी मधुमक्खी का शहद, हल्दी और एलोवेरा का रस घावों को ठीक करने में उपयोगी होते हैं। इसका लेप लगाएँ।
  • नासूर हो जाने पर हल्दी, हींग और एलोवेरा का गूदा मिलाकर नासूर पर लगाना चाहिए, इससे नासूर जड़ से दूर हो जाता है।
  • निर्गुण्डी की जड़ का चूर्ण एलोवेरा के गूदे में मिलाकर नासूर पर लगाने से नासूर भरने लग जाता है। इस एलोवेरा के नुस्खे से पुराने से पुराना नासूर ठीक हो जाता हैं |
  • आक का दूध, हल्दी, थूहर का दूध लेकर उसमें एलोवेरा का गूदे का चूर्ण घोलकर रुई की बत्ती तर करें और नासूर में रखें। रोज बत्ती बदलते रहें। नासूर जड़ से खत्म हो जाएगा।
  • नीम की पत्तियों को जला लें। उसकी राख और एलोवेरा का रस मिलाकर नासूर या भगंदर या अर्श पर लगाने से भी लाभ मिलता है।
  • जख्म हो जाने पर तुरंत एलोवेरा का रस लगाने से और पीने से रक्त का बहना रुक जाता है।

एलोवेरा के नुस्खे : शरीर पर चोट लगने पर :

  • शरीर के चोटग्रस्त अंग पर रक्त निकल रहा हो तो आंवले का चूर्ण एलोवेरा के रस के साथ लगाने से लाभ होता है।
  • हाथों में या पैरों में चोट, सूजन या हड्डी आदि टूटने पर अंगुलियाँ नहीं चल रही हों तो हाथ एवं तलवों पर एलोवेरा का रस एवं सेंधा नमक मिलाकर लेप करें, शीघ्र आराम मिलता है।
  • किसी दुर्घटना में आप गिर गए हों, अन्दरूनी चोट हो तो 1 गिलास गर्म दूध के साथ 10 ग्राम हल्दी मिला हुआ एलोवेरा का गूदा खा लें इस एलोवेरा के नुस्खे से शरीर के अंदर खून का थक्का नहीं बनने पाएगा और दर्द में भी आराम रहेगा।
  • चोट लग जाने पर केले का छिलका गरम करके एलोवेरा के गूदे के साथ बाँधने से लाभ मिलता है।

यह भी पढ़ें

सोशल मीडिया पर इस पोस्ट को शेयर करें

Email this to someonePin on PinterestShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on Facebook

Comments

  1. By Bhaskar kushwaha

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *