वजन कम करने के 20 घरेलू उपाय तथा नुस्खे

वजन कम करने के तरीके – शरीर में कोई भी बीमारी मुँह से घुसती है। हम सब भी यह जानते हैं कि भोजन लेने का गलत ढंग कई तरह की बीमारियाँ पैदा कर देता है। दरअसल मोटापा (Obesity) और ज्यादा वजन पोषक पदार्थों की अधिकता की एक गड़बड़ी है। जरूरी पोषक तत्वों का जरूरत से ज्यादा सेवन मोटापे को जन्म देता है। यह भी सही है कि जरूरी पोषक तत्वों को लेना हम रोक नहीं सकते लेकिन उनकी मात्रा को हम तय कर सकते हैं। यहाँ कुछ नुस्खे बताये जा गये है जिन्हें अपनाने पर आपको अपना वजन कम करने में सहायता मिलेगी और आप बड़ी सहजता से शरीर का अतिरिक्त वज़न कम कर पायेंगे।

वजन कम करने के आसान तरीके / Best Home Remedies for Obesity & Weight Loss.

  • वजन कम करने के लिए हल्के गर्म पानी में एक नींबू निचोड़कर आप सुबह लें। इसमें मिठास के लिये आप एक चम्मच शहद डाल सकते हैं। इसे आप सुबह उठते ही खाली पेट लें। दोपहर को आप ऐसा ही हलका गरम पानी, जिसमें शहद की जगह थोडा सा काला नमक पड़ा हो ले सकते हैं।
  • वजन कम करने के लिए एक और बेहद असरकारक नुस्खा दो चम्मच त्रिफला रात को दो पानी के भरे गिलासों में डालें। सुबह उठकर इन्हें धीमी आँच पर गरम करें। जब आधा रह जाये तो उसमें नींबू, अदरक का रस तथा शहद मिला लें। जैसे गरम चाय पीते हैं, वैसे ही पी लें। वज़न कम करने का यह शर्तिया तरीका है। इससे आपका वज़न तो कम होगा ही साथ में पेट भी साफ होगा। अगर जोड़ों में दर्द हो तो नींबू न लें।
Wazan vajan kam karne ke upay & Tips /वजन कम करने के आसान तरीके

वजन कम करने के आसान तरीके

  • तुलसी के पत्तों के जूस की 10 बूंदे दो चम्मच शहद के साथ पानी में मिलाकर एक महीने तक लेते हैं, तो वज़न कम कर सकते हैं।
  • Weight को कम करने के लिए सबसे अच्छा है, कच्चा टमाटर + प्याज और नींबू का रस। अपनी डाइट में अवश्य शामिल करें |
  • वजन कम करने के लिए ताजा लौकी का रस का सेवन भी लाभकारी होता है।
  • नाश्ते में उबला अथवा भूना हुआ आलू लें ।
  • मक्खन निकाली हुई पतली लस्सी पियें ।
  • नाश्ते में रात को भिगोये हुए 100 ग्राम काले चने लें ।
  • सेब का सिरका (Unfiltered Apple Cider Vinegar) इसको आप पानी में मिलाकर सुबह खाली पेट पी सकते है |
  • एलोवेरा और संतरे का जूस पीने से भी एक महीने में ही Weight में कमी आने लगती है |
  • वजन कम करने के लिए अश्वगन्धा के ताजे पत्ते एक सुबह एक दोपहर और एक शाम को गरम पानी के साथ लें। दिन में गरम पानी पीयें। इस तरह एक महीने में 5 से 15 किलो तक वज़न कम कर सकते हैं। जहाँ तक सम्भव हो, नमक तथा चीनी का प्रयोग कम से कम करें। यह भी अवश्य पढ़ें – मोटापा कम करने के उपाय |
  • वजन कम करने के लिए आप आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्श से ‘मेदोहर वटी’ (Medohar Vati) ले सकते हैं। इससे वज़न भी कम होगा तथा कोई कमजोरी भी नहीं आयेगी। और आप अधिक क्षमता से काम कर सकेंगे ।
  • गेहूँ, चावल, बाजरा व साबुत मूंग 500-500 ग्राम सेंक कर दलिया बना अंकुरित अनाज, फल व बिना मलाई का दूध लें , इनमें 20 ग्राम अजवाइन व 50 ग्राम तिल मिला लें। अब आप 50 ग्राम दलिया को 400 ग्राम पानी में मिलाकर पकायें। स्वाद के लिए हरा धनिया, अदरक, हरी मिर्च मिला दें। इससे मधुमेह तथा मोटापा दोनों कम होते हैं। साथ ही यह वजन कम करने में भी मदद करता है |
  • खाने को चबाकर खायें यह भी एक चमत्कारी प्रयोग है। आप अपने भोजन को चबा-चबाकर खायें। हमारे 32 दाँत होते हैं और अगर हम खाने के हर कौर (ग्रास) को 32 बार चबा लेते हैं, तो निश्चित है कि वज़न कम होगा ही। यह बात अमेरिका को Horace Fletcher के शोधों के बाद पता चली तथा इसे “Fletcherizing – The Chewing Diet” के नाम से जाना गया। जब हम खाने को अच्छी तरह से चबाते हैं, तो इसमें सलाइवा (लार) अच्छी तरह से मिल जाता है, जो कि खाने को हजम होने में काफी मदद करता है।
  • इन सबके अलावा वजन कम करने के लिए आपको नियमित रूप से (Green Tea) ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए |
  • आयुर्वेद के अनुसार रोजाना दस (Curry Leaves) करी पत्ते खाने से मोटापे के साथ साथ मधुमेह रोग में भी लाभ मिलता है | लेकिन ध्यान रखे करी पत्ते की तासीर थोड़ी गर्म होती है | इसलिए मात्रा धीरे-धीरे बढ़ाये |
  • वजन कम करने के लिए अन्य महत्वपूर्ण बात यह है की जिस समय हमारा दिमाग या मूड ठीक न हो, हमें खाना नहीं खाना चाहिए, क्योंकि आवश्यक पाचक एंजाइम और रसों का उत्सर्जन उस समय नहीं होता है, जब हम परेशान हों। एक खुशमिजाज माहौल तथा मूड खाने को हजम कराने में मदद करता है।
  • सबसे जरूरी बात यह भी है कि जब तक भूख न हो खाना न खायें। भूख लगने पर खाना खायें तथा एक निश्चित समय पर ही खाना खायें

वजन कम करने के लिए कुछ आधुनिक ट्रीटमेंट / Modern treatments for weight loss.

महिलाओं को अक्सर यह शिकायत रहती है कि उनके नितंबों पर चबी इकट्टी हो गई है। जब व्यायाम करने पर भी कोई फर्क न पड़े तो Liposuction के द्वारा शरीर की अतिरिक्त वसा या चर्बी को शरीर से अलग कर दिया जाता है। चर्बी त्वचा के बिल्कुल नीचे होती है, यह त्वचा और मांसपेशियों के बीच अपनी जगह बना लेती है।

  • किशोरावस्था में चर्बी की कोशिकाएं अपनी अधिकतम संख्या तक पहुंच चुकी होती हैं। एक उम्र होने के बाद शरीर के मोटा या पतला होने पर ये कोशिकाएं सिकुड़ती व फैलती हैं। कुछ भागों में कोशिकाओं की लोचपूर्णता (Elasticity) इतनी ज्यादा होती है कि पतले होने पर भी कोशिकाएं सिकुड़ती नहीं हैं। यही कारण है कि अत्यधिक व्यायाम या फिर डायटिंग के बाद भी पेट, स्तनों, जांघों या नितंबों पर जमी चर्बी कम नहीं होती। इस चर्बी को Liposuction द्वारा शरीर से अलग किया जाता है।
  • इस पद्धति में वजन कम करने के लिए डॉक्टर जिस भी भाग की चर्बी हटानी हो वहां चीरा लगाकर उसमें पतली खोखली नली डाली जाती है। नली का दूसरा सिरा वैक्यूम से जुड़ा होता है, जिसके जरिए अतिरिक्त वसा को वैक्यूम द्वारा निकालने की क्रिया की जाती है।
  • इस क्रिया से पहले शरीर में एंजाइम चर्बी को पिघलाकर ढीला करने में मदद करते हैं और वैक्यूम के दबाव में चर्बी फटकर नली द्वारा बाहर आ जाती है। इस प्रकार के उपचार में एक बार में 2 लीटर चर्बी पिघलाकर निकाली जा सकती है।
  • वजन कम करने की इस क्रिया में किसी प्रकार का रक्तस्राव नहीं होता। डॉक्टरों के अनुसार त्वचा के खिंचाव व संकुचन पर ही Liposuction की सफलता निर्भर करता है। देखें – पेट की गैस की अचूक दवा|
  • जितना संकुचन त्वचा में होगा उतना ही अच्छा Liposuction होगा। शरीर के अलग-अलग भागों का Liposuction कुछ समय बाद कराया जा सकता है। 24 घंटे आराम करने और 10 दिनों तक सावधानी बरतने के बाद व्यक्ति बिल्कुल फिट हो जाता है।

अन्य सम्बंधित पोस्ट 



शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.