हेयर कलर कैसे करें- जानिये बाल कलर करने का तरीका

बालों को नई लुक देने के लिए हेयर कलर से बाल रंगने के अलावा और कोई विकल्प नहीं होता है पर हर बार ब्यूटी सलून में जाकर हेयर कलर करवाना भी मुमकिन नहीं होता है | क्योंकि इससे पैसों के साथ ही समय की भी बर्बादी होती है | ऐसे में घर पर ही बाल कलर करने का तरीका जानकर आप आपने बालों को पार्लर जैसा इफेक्ट दे सकते हैं |

कई बार यह देखने में आता है की कम उम्र के लड़के-लड़कियों के बाल असमय ही सफेद होने लगते हैं और ऐसी स्थिति में उनके पास बालों को रंगने के सिवा और कोई उपाय नहीं होता। कुछ लोगो के लिए बाल रंगना एक आवश्यकता है, जबकि यूरोप के देशों में यह एक फैशन है। वहां की महिलाएँ अपने बाल ब्लीच करके मनपसन्द रंगों में रंगती हैं और भारतीय महिलाएँ स्वाभाविक रंग यानी काला या ब्राउन रंग से ही बाल कलर करती हैं।

आज बाल केवल इसलिए कलर नहीं किए जाते कि वे सफेद हो गए हैं, बल्कि आज बालों में काले हेयर कलर के अतिरिक्त ग्रे, गोल्डन, ब्राउन, ब्रॉन्ज आदि रंग भी होते हैं जो फैशन का सिंबल बन गए हैं । हेयर कलर के तीन मुख्य रूप हैं— टेम्परेरी हेयर कलर, सेमी परमार्नेट डाई तथा परमानेंट डाई। हेयर कलर एक अस्थायी पद्धति है जो एक शैम्पू तक ही टिकती है। सेमी परमानेंट 4-6 सप्ताह तक चलती है। परमानेंट डाई का असर लंबे समय तक बना रहता है। भारत में सबसे अधिक सेमी परमानेंट डाई का प्रचलन है।

बालों पर रंग का घोल लगा लेना ही पर्याप्त नहीं होता। बालों को रंगना भी एक कला है। हेयर कलर जितनी सफाई से की जाये उतनी ही आकर्षक लगती हैं | बालों की रंगाई तीन प्रकार से की जाती है कलर शैम्पू अथवा कलर तेल द्वारा, हर्बल चीजो से और रासायनिकों द्वारा।  हमारे देश में कलर शैम्पू का ज्यादा प्रयोग नहीं किया जाता, क्योंकि यह अस्थायी रंग होता है। इसी प्रकार हमारे यहाँ रंगदार तेल का भी कम प्रयोग किया जाता है। प्राकृतिक हेयर कलर बालों को सुरक्षित रखती है तथा सिर की त्वचा को भी नुकसान नहीं पहुंचाती, जबकि रासायनिक डाई बालों की सेहत और संरचना के लिए नुकसानदायक होती है। परंतु फिर भी रासायनिक विधि द्वारा बालों को रंगने की विधि सबसे ज्यादा पोपुलर है। इस विधि से रंगे हुए बालों का रंग लंबे समय तक चलने के साथ-साथ बाल देखने में भी प्राकृतिक लगते हैं। इन पर मौसम, पानी और साबुन का प्रभाव नहीं पड़ता। इन पर स्थायी सेटिंग भी सही तरह हो सकती है। बालों को रंगने के लिए बाजार में अनेक रासायनिक हेयर कलर और डाई मिलते हैं। इससे सफेद बाल तो पूरी तरह से काले हो जाते हैं, पर इसमें नुकसान यह है कि सिर के सारे बाल जल्दी सफेद हो जाते हैं। किसी-किसी को डाई सूट नहीं करती। इस लेख में हम दोनों को लगाने की सही और इफेक्टिव विधि बतायेंगे |

हेयर कलर करने से पहले जान लें ये जरुरी बातें और टिप्स  :

हेयर कलर hair color karne ka tarika

Hair color karne ka tarika

  • हेयर कलर करने से पहले: कलर करने से पहले बालों को अच्छी तरह शैम्पू से धो लें, लेकिन कंडीशनर न लगाएं | कलर करने के वक्त कंडीशनर की ज़रूरत नहीं होती है इसके साथ ही कलर करने से पहले कलर पैक पर लिखे सारे निर्देशों को अच्छी तरह से पढ़ें और समझ लें, उसके बाद ही कलर का इस्तेमाल करें.
  • सलेक्ट करें परफेक्ट शेड : अगर आप चाहती हैं कि रंगने के बाद बालों का कलर नेचुरल दिखे, तो हेयर कलर का वह शेड चुनें, जो आपके बालों के रंग से एक-दो शेड कम या ज़्यादा हो, जैसे- अगर आपके बालों का रंग ब्राउन (भूरा) है तो ब्राउन कलर का डार्क या लाइट शेड चुनें ब्लैक कलर लगाने की गलती न करें |
  • बालों को रंगने के लिए लंबाई का भी ख्याल रखें, जैसे अगर आपके बाल छोटे हैं तो छोटा बॉक्स, मीडियम हैं तो बड़ा बॉक्स खरीदें | यदि आपके बाल ज़्यादा लंबे हैं तो हेयर कलर के दो बड़े बॉक्स ख़रीदें | इससे यदि हेयर कलर बीच में ख़त्म हो जाता है, तो आप तुरंत दूसरे बॉक्स का इस्तेमाल कर सकती हैं |
  • रेड शेड से बचें : हेयर कलर के लिए लाल रंग का इस्तेमाल करने से बचें, क्योंकि न सिर्फ़ इन्हें बहुत ज़्यादा केयर की ज़रूरत होती है, बल्कि इनका रंग भी बहुत जल्दी उतरने लगता है | अगर आप लाल शेड का इस्तेमाल करना चाहती हैं, तो लंबे और अच्छी लुक के तो ऐसे शैम्पू व कंडीशनर को चुने जो खास तौर पर लाल रंग के लिए ही बनाए गए हों |
  • त्वचा पर हेयर कलर ना लगे इस बात का भी खास ख्याल रखें, इसके लिए बालों में हेयर कलर करने से पहले हेयर लाइन के आसपास और के कान के पीछे अधिक मात्रा में पेट्रोलियम जेली लगाएं | अगर त्वचा पर हेयर कलर लग चुका है, तो रूई में बेबी ऑइल या नींबू का रस लगाकर जंहा कलर लगा है उस पर लगाये इससे दाग निकल जायेगा |
  • हेयर कलर लगाने के बाद 24 घंटो तक बालों को शैम्पू ना करें क्योंकि इस दौरान हेयर कलर सेट हो रहा होता है | इसी तरह हेयर कलर करने के बाद बालों को स्टीम न करें बालों को सूखने दें, नहीं तो कलर हल्का हो सकता है और यह भी ध्यान रहे की बालों को गरम पानी में से न धोएं |
  • हेयर कलर लगाने के लिए ब्रश इस्तेमाल करना चाहिए।
  • उँगलियों पर हेयर कलर के निशान न पड़े, इसके लिए हाथों में रबड़ के पतले दस्ताने पहनने चाहिए।
  • जहाँ तक हो सके हेयर कलर केवल बालों पर ही लगाये, सिर की त्वचा पर न लगने दें।
  • बाल बढ़ने के कारण दो सप्ताह में बालों को पन्द्रह दिन बाद फिर थोड़ा हेयर कलर से रंगना पड़ता है।
  • बालों में एक साथ दो हेयर कलर भी किए जा सकते हैं या बालों की कुछ लटों को रंगकर भी व्यक्तित्व निखारा जा सकता है।
  • पार्टी या समारोह के मौके पर आप अपनी पर्सनेलिटी के हिसाब से टचअप करें दूसरो की नकल ना करें ।
  • गेहुंए रंग तथा मेच्योर व्यक्तित्व पर स्वाभाविक ब्लैक या ब्राउन रंग ठीक लगते हैं।
  • सांवली व गहरे रंग की त्वचा पर काले बाल शोभा देते हैं।
  • गोरी त्वचा पर गोल्डन, ब्रॉन्ज आदि हेयर कलर सुंदर लगते हैं।
  • हेयर कलर में चमक लाने के लिए कलर ग्लॉस का प्रयोग किया जा सकता है।
  • बाल यदि बेहद रूखे या बेजान हैं तो हेयर कलर करने से पहले बालों को कडीशनिंग व प्रोटीन उपचार दिया जाना चाहिए।
  • परमानेंट कलरिंग के बाद “Shampoo For Gloss” का प्रयोग किया जा सकता है। परमानेंट कलरिंग कुशल हेयर ड्रेसर से ही करानी चाहिए। खुद न करें |
  • प्लास्टिक, कांच या चीनी मिटटी के बर्तन में ही हेयर कलर डालें किसी मेटल या धातु के बर्तन का प्रयोग कभी ना करें |

हेयर कलर से बालों को कैसे रंगें ?  बाल कलर करने का तरीका :

  • सबसे पहले क्लिप की सहायता से बालों को चार अलग-अलग भागो में बाँट लें ताकि कलर ठीक से सभी बालों में लग सके

 

    हेयर कलर hair color karne ka tarika in hindiक्लिप की सहायता से बालों को भागो में बाँटना
  • एक दो क्लिप फालतू भी रख लें ताकि कलर लगाने के बाद जब बाल कड़े हो तब उनको ठीक से बांधा जा सके |
  • अगर हेयर कलर या डाई वाले पैकेट पर बाल गीले रखने के लिए कहा गया है तो आप अपने बाल गीले कर सकते हैं नहीं तो ज्यादातर ब्रांड सूखे बालों पर ही कलर लगाने के लिए निर्देशित करते हैं
  • कलर को आपस में मिलाने से पहले निर्देशों को ध्यान से पढ़ लें | घोल बनाने की प्रक्रिया सभी ब्रांड की अलग- अलग हो सकती है |
  • अब अपने सिर के अगले भाग यानि माथे के ठीक ऊपर वैसलीन की परत चढ़ा दे ताकि कलर के दाग आपकी त्वचा पर ना पड़े चेहरे या गले पर उन सभी जगहों पर वैसलीन लगा ले जहाँ भी कलर का दाग लगने की संभावना हो |
  • अब बालों के एक भाग की क्लिप को हटा लें और ब्रश की मदद से बालों की जडो से शुरू करके ऊपर तक कलर लगाये मतलब नीचे से उपर की ओर | टिप -हाथ में पकड़ने वाला शीशा लेकर बालों की जड़ों को देखें |
हेयर कलर hair color karne ka tarika

बालों की जडो से शुरू करके ऊपर तक कलर लगाये

  • अब अन्य भागो को भी ठीक इसी प्रकार से रंगे | लेकिन याद रखे बालों का कोई भी हिस्सा बिना कलर के ना छूटे |
हेयर कलर hair color karne ka tarika

बचे हुए बालों ऐसे लगाए कलर

  • अब एक घड़ी में टाइम देखकर कुछ देर इंतजार करें | कितने समय इंतजार करना है यह हेयर कलर के पैकेट पर देख लें | इसी बीच माथे या चेहरे पर लगे हुए फालतू कलर को पोंछ ले |
  • याद रखें कभी भी ज्यादा समय तक बालों में कलर या डाई ना लगा कर रखे इससे त्वचा पर एलर्जी के दाने हो सकते है | कुछ लोग कलर लगा कर सो जाते है पर यह बिलकुल गलत तरीका होता है |
  • अपने कंधो पर कोई कपड़ा या पुराना तौलिया अवश्य डाल लेना चाहिए |
  • बाल सूखने के बाद अब अपने बालों को हल्के गुनगुने पानी से तब तक धोए जब तक की फालतू कलर या डाई आपके बालों से ना निकल जाये |
  • ज्यादातर हेयर कलर के साथ कंडीशनर का पैकेट भी आता है उसे अंत में लगाये |
  • कंडीशनर को बालों की जड़ो से शुरू करके उपर तक लगाये आप चाहे तो किसी चौड़े दांतों वाली कंघी का प्रयोग भी कर सकते है ताकि कंडीशनर एक समान सभी जगह पर फ़ैल सके | यह भी पढ़ें – सफेद बालों से छुटकारा पाने के लिए आसान घरेलू नुस्खे

घरेलू हर्बल चीजो से बाल कलर करने का तरीका : Natural Hair Dye

  • वनस्पति पदार्थों के रंग अधिक टिकाऊ नहीं होते और इन्हें लगाने में भी काफी समय भी लगता है।
  • वनस्पति पदार्थों से बालों को रंगने के लिए मेंहदी, अखरोट के छिलके और चाय-पत्ती के रंगों का प्रयोग किया जाता है।

मेंहदी से बाल कलर करने का तरीका :

  • मेंहदी का रंग काफी प्रयोग में आता है, यह बहुत अच्छा कंडीशनर है, इससे कोई नुकसान नहीं है बालों को ठण्डक पहुँचती है और धीरे-धीरे रंग पकड़ते हैं लेकिन इससे बाल स्याह काले नहीं होते।
  • मेंहदी की पत्तियों को पीस कर पानी में पतला घोल कर बालों में लगा कर सूखने देते हैं और फिर ठण्डे पानी से धो डालते हैं। एक बार में मेंहदी लगाने से अच्छा रंग नहीं आता, इसलिए दो बार लगाना चाहिए।

मेंहदी से बाल कलर करने का दूसरा तरीका :

  • 200 gm मेहंदी
  • 2 बड़े चम्मच चायपत्ती
  • 2 छोटे चम्मच कॉफी पॉउडर
  • 2 नींबू, एक अण्डा अगर डाई कर रहे हैं तो 50 gm आंवला और conditioner कर रहे हैं तो मेंहदी के अन्दर तेल या दही डाल दें।
  • सबसे पहले आँवले को लोहे की कढ़ाई में 4-5 घण्टे भिगो दें फिर मसलकर छान लें उसी में चाय और कॉफी उबाल लें। Conditioner कर रहे हैं तो पानी में चाय और कॉफी उबाल कर छान लें
  • अब मेहंदी को इस छने हुए पानी में 2 से 3 घंटे भिगो दें फिर उसमें अण्डा और नींबू रस डाल दें।
  • थोड़े-थोड़े बालों को लें तथा जड़ों से शुरू करते हुए सिर तक मेहंदी लगा दें सिर के बीचों-बीच उसको लपेट दें। इसी प्रकार पूरे सिर पर मेंहदी लगायें यदि बाल डाई कर रहे हैं तो 3 घण्टे मेंहदी बालों में लगाए रखें और कंडीशनर कर रहे हैं तो 1-2 घण्टे रखें। पढ़े यह भी कंडीशनर का उपयोग कैसे करे |
  • बालों में तेल नहीं होना चाहिए। बाल शैम्पू से तुरन्त धुले हों। यदि बाल घने हैं तो अलग-अलग भागों में बाँट लें। पीछे के बालों के दो हिस्से करें। देखें यह भी – आंवला से बनाये बालों को काला घना और मुलायम |

अखरोट के छिलके से बाल कलर करने का तरीका :

  • अखरोट के छिलके पानी में भिगो दें। लगभग बारह घण्टे बाद उसे छान लें और उसमें थोड़ा-सा अमोनिया मिला दें। इसे बालों पर लगाने से नसवारी रंग आता है, जो आकर्षक नहीं लगता।

चाय की पत्ती से बाल कलर करने का तरीका :

  • चाय की पत्ती से बाल रंगने के लिए चाय की पत्ती को पानी में काफी देर तक उबालते हैं और ठण्डा करके इसे बालों में लगाते हैं। चूँकि यह रंग अस्थायी होता है, इसलिए यह विधि अधिक प्रचलित नहीं है।

हेयर कलर करते समय कुछ सावधानियां अवश्य रखें :

  • अगर आपके बाल अस्वस्थ है तो कलरिंग से पहले उसका उपचार करवाएं।
  • यदि एलोपेशिया या बाल झड़ने की गंभीर समस्या है तो कलरिंग नहीं करवानी चाहिए।
  • बालों में रूसी होने पर पहले उसका निदान करें, फिर कलरिंग करें।
  • सिर में खुजली, फोड़े-फुंसी की शिकायत हो तो कलरिंग न करें।
  • बालों में मेहंदी का लेप लगा है तो कलरिंग न करें।
  • अस्थमा रोग और सांस से संबंधित अन्य रोगों से पीड़ित होने पर कलरिंग न करें। अधिक जानकारी के लिए पढ़ें यह पोस्ट हेयर डाई और कलर करने से पहले जाने ये 25 जरुरी टिप्स |

माऊज का प्रयोग

यह फोम के रूप में आता है। इसे गीले और सूखे बालों पर इस्तेमाल किया जा सकता है। माऊज में कडीशनिंग तत्व होते हैं। ये बालों को पोषण देने के साथ ही उनकी रक्षा भी करते हैं।

  • इसे बालों को ब्लो ड्राइ, स्क्रचिंग और डिफ्यूज ड्राइंग करते समय इस्तेमाल करें।
  • माऊज की जड़ों में लगाते हुए नीचे तक आएं।
  • अपने बालों की प्रकृति के अनुरूप ही माऊज चुनें।
  • नॉर्मल माऊज प्राय: सभी हेयर स्टाइल के लिए ठीक रहता है।

सीरम का प्रयोग

  • सीरम ग्लॉसर्स, पॉलिश और शाइन लाने वाले स्प्रे तेल या सिलिकॉन से बने होते हैं। ये बालों में चमक और सौम्यता लाते हैं। सीरम का प्रयोग ज्यादा न करें, क्योंकि ये बालों को चिपचिपा बनाते हैं।

हेयर कलर हटाने की विधि : How To Remove Hair Colour

आपने जो हेयर कलर किया है अगर आप उससे संतुष्ट नहीं है तो कोई बात नहीं आप उसको आसानी से हटा भी सकते है |

  • एक कप नारियल के तेल में दो तीन लोंग डाल कर धीमी आंच पर गर्म करें फिर इस तेल को अपने बालों में लगाये अगले दिन सुबह इसे धो लें हफ्ते में दो बार ऐसा करने से इससे बालों का रंग हल्का होकर निकल जायेगा |
  • ऑलिव ऑयल की हल्का-सा गरम कके या इसमें कुछ बूंदें नींबू का रस मिलाएं अब इसे बालों में अप्लाई करें और कुछ समय बाद बाल धो लें हफ़्ते में दो-चार बार यही प्रक्रिया दोहराए | यह भी पढ़ें – दही से सवारें त्वचा और बालों को 22 टिप्स |
  • बाढ़ाम का तेल को गरम करके हफ्ते में दो बार बालों में लगाएं ऐसा करने से बालों पर लगा  अनचाहा हेयर कलर उतर जायेगा |

अन्य सम्बंधित लेख 

सोशल मीडिया पर इस पोस्ट को शेयर करें

Email this to someonePin on PinterestShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *