सिरदर्द दूर करने के घरेलू उपाय – Headache Remedies

इसमें कोई संदेह नहीं कि आजकल की अत्यधिक व्यस्त दिनचर्या, तनाव युक्त जीवन और गलत आहार-विहार के कारण आए दिन सिरदर्द होना आम बात हो गई है। आधुनिक जीवन शैली  में स्त्री-पुरुष, बच्चे व  बूड़े सभी सिरदर्द से पीड़ित होते रहते हैं। ऑफिस में अधिक काम करने, देर तक टेलीविजन देखने, कंप्यूटर पर देर तक काम करने, तेज धूप में चलने-फिरने और सर्दियों में ठंडी हवा  के कारण सिरदर्द होता है।

सिर दर्द होने के कारण :

सिरदर्द होने के कई कारण हो सकते है | अधिक देर तक किताब पढ़ने, बिस्तर पर लेटकर टेलीविजन देखने, धूप में अधिक चलने-फिरने ,मानसिक तनाव , ऑंखें कमजोर होना , सिर में कम रक्त प्रवाह, कब्ज होने से भी सिरदर्द हो सकता है। गुस्सा करने और चिल्लाने से भी सिरदर्द होता है। स्त्रियों व लड़कियों में माहवारी की समस्या के कारण अधिक सिरदर्द होता है। कई बार दूसरे रोगों के कारण भी सिरदर्द होने लगता है। आंत्रिक बुखार, इंफ्लूएंजा, जुकाम आदि में सिरदर्द होता है। गैस से पीड़ित स्त्री-पुरुष सिरदर्द से अधिक प्रभावित होते हैं। पाचन क्रिया की विकृति भी सिरदर्द की उत्पत्ति करती है। पौष्टिक भोजन के अभाव में जब कोई व्यक्ति अधिक मानसिक श्रम करता है तो सिर दर्द से पीड़ित होता है। दुखी रहना, ईष्यां, हीनभावना, गर्भाशय विकार, ज़रूरत से ज़्यादा सोचना , कमजोरी, नशीली चीजें खाना, ब्लड प्रेशर का हाई या लो होना आदि प्रमुख कारण हैं।

सिरदर्द होने अपर अपनी मर्जी से कोई भी पेन किलर दवाई का सेवन ना करें फोरी तौर पर राहत पाने के लिए यानि की First Aid के लिए घरेलू नुस्खो का सहारा लें जो इस पोस्ट में बताये गए हैं | अगर बार-बार सिर दर्द होता है तो उसका कारण जानने के लिए किसी चिकित्सक से सलाह लें

सिरदर्द दूर करने के लिए घरेलु नुस्खे :

sar dard headache ka gharelu ilaj in hindi सिरदर्द दूर करने के घरेलू उपाय

सिरदर्द दूर करने के घरेलू उपाय

  • लहसुन की कलियां पीसकर कनपटी पर लेप करने से सिर दर्द से छुटकारा मिलता है।
  • अगर गर्मी से सिरदर्द हुआ है तो 3 चम्मच गुलाब जल और 1 चम्मच सिरका लेकर किसी कपड़े की पट्टी को इसमें भिगोकर माथे पर रखें यह भी सिर दर्द की दवा की तरह काम करता है |
  • हरे पोदीने का रस निकालकर उसको सिर पर मलने से सिरदर्द ठीक होता है।
  • छोटी इलायची को पीसकर उसका पेस्ट माथे पर लगाने से सिर दर्द में ठंडक पहुंचकर आराम मिलता है |
  • गर्मियों में धूप में घूमने-फिरने के कारण सिरदर्द होने पर सूखा धनिया 10 ग्राम, आंवला 5 ग्राम मिलाकर हल्का-सा पीसकर रात की किसी मिट्टी के बर्तन में रखकर 200 मि.ली पानी में मिलाकर रखें। सुबह उठकर सबको कपड़े द्वारा छानकर पीने से सिरदर्द दूर होता है।
  • गर्मी से सिरदर्द होने पर धनिए को पीसकर, सिर पर लेप करने से बहुत जल्दी सिरदर्द ठीक होता है।
  • गर्मियों में धूप के प्रकोप से सिरदर्द होने पर भृंगराज का तेल ठंडा करके सिर में मलने से सिरदर्द ठीक हो जाता है।
  • गर्मी के कारण होने वाले सिरदर्द में तुलसी के पत्तो का रस, थोड़ा सा कपूर पत्थर पर चन्दन के साथ घिसें। इस लेप को मस्तक पर लगाने से सिरदर्द दूर हो जाता है ।
  • तरबूज के रस में मिसरी मिलाकर पीने से सिरदर्द दूर होता है।
  • सर्दी से सिर में दर्द होने पर थोड़ी-सी हींग पानी में घोलकर माथे पर लेप करने से कुछ मिनटों में सिर दर्द दूर हो जाता है।
  • अदरक 3 ग्राम, तुलसी के पत्ते 7-8 और काली मिर्च के चार दाने, हल्का-सा कूटकर पानी में उबालकर चाय बनाएं। इस चाय को पीने से सर्दी के कारण पैदा होने वाला सिरदर्द दूर होता है।
  • तुलसी के सूखे पत्तो को पीसकर शहद में मिलाकर लेने से भी सिर दर्द में आराम मिलता हैं |
  • सुबह-सुबह गाय का घी नाक के नथुनों में तीन-चार बूंदें टपकाने से सिर दर्द दूर हो जाता है।
  • धनिया और काली मिर्च को पानी के साथ पीसकर माथे पर लेप करने से जल्दी ही सिर दर्द का निवारण होता है।
  • खसखस के बीज का पेस्ट बनाकर माथे पर लगाए |
  • एक चम्मच देसी घी में एक चुटकी केसर डालकर धीमी आंच पर रखें कुछ देर के बाद हल्का धुआं निकलना शुरू हो जाएगी अब सावधानी से इस धुंए को नाक से सूंघे | यह भी अवश्य पढ़ें – जाने क्या है ब्रेन वेव जो बढ़ाये मानसिक शांति और शक्ति?
  • असली चंदन घिसकर माथे पर लगाने से भी सिरदर्द दूर होता हैं |
  • लौंग, तुलसी के पत्ते और काली मिर्च पानी के साथ पीसकर मस्तक पर लेप करने से सिर दर्द दूर होता है।
  • छोटी पीपल के दो-तीन दाने पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को शहद में मिलाकर खाने से सिर दर्द दूर हो जाता है।
  • षडबिंदु तेल (Shadbindu) या Eucalyptus Oil (नीलगिरी का तेल) नाक के नथुनों से सूंघें । षडबिंदु तेल एक आयुर्वेदिक तेल है जिसे कई तरह की जड़ी-बूटियाँ मिलाकर पकाया जाता है | किसी भी पंसारी या आयुर्वेदिक शॉप पर मिल जायेगा |
  • दालचीनी को पानी में पीसकर बने लेप को माथे व कनपटियों पर लगाएं।
  • अगर पेट में गैस की बीमारी के कारण सिरदर्द होता हो तो हल्के गर्म पानी में थोड़ा-सा नीबू का रस निचोड़कर पीने से बहुत लाभ होता है। पढ़ें यह लेख – पेट की गैस की रामबाण दवा तथा अचूक आयुर्वेदिक इलाज
  • सेब को छिलके सहित काटकर उस पर हल्का-सा सेंधा नमक डालकर खाएं |

आधा सिर दर्द का इलाज :

  • आधा सिर दर्द को आधा सीसी दर्द (माइग्रेन) नाम भी पुकारा जाता है। आधे सिर के दर्द की तकलीफ कुछ इस प्रकार की होती हैं | यह अनुवांशिक रोग की केटेगरी में आता है यानि अगर माता-पिता में से किसी एक को माइग्रेन है तो उनके बच्चों को भी यह समस्या हो सकती है।
  • यह दर्द पूरे सिरदर्द के मुकाबले ज्यादा पीड़ादायक होता है।
  • यह दर्द दाएं बाएं सामने या पीछे सिर के किसी एक हिस्से में हो सकता हैं |
  • आधे सिर का दर्द जिस तरफ के हिस्से में होता है, इसके साथ ही साथ उस भाग के चेहरे या गरदन में भी दर्द होने लग जाता है। और उल्टी भी हो सकती हैं |
  • आधा सिर दर्द होना एक प्रकार का दौरा माना जाता है। यह भी पढ़ें – चक्कर आने का कारण तथा घरेलू उपचार
  • आधा सिर दर्द का इलाज – राई को पानी में पीसकर पेस्ट बना ले अब इस पेस्ट को माथे और दोनों कनपटियो पर लगाये आधा सिर दर्द में आराम मिलेगा |
  • माइग्रेन का आयुर्वेदिक इलाज – लगभग 11 ग्राम नौसादर 5 ग्राम कपूर बारीक़ पीसकर इस पाउडर को कपड़े से छान लें | जब भी आपको आधा सिरदर्द हो तब इस पाउडर को एक चुटकी की मात्रा में नाक के एक छेद से सूंघे | जरुरत पड़ने पर कभी भी इसका प्रयोग किया जा सकता है |
  • जिस तरफ दर्द हो उस और की नाक में लहसुन का रस डालें |
  • जिस ओर आधे सिर का दर्द हो उसकी विपरीत दिशा के नथुने में शहद डालने से भी आधे सर के दर्द में लाभ मिलता हैं |

सिरदर्द होने पर क्या खाना चाहिए :

  • हलका भोजन नियमित समय पर खाएं।
  • चावल, छिलका युक्त मूंग की दाल, दूध, पुराना घी, हलुआ, रबड़ी, मक्खन, मलाई, छाछ आदि का सेवन करें।
  • फलों में आंवला, अनार, आम, कच्चा नारियल, अंगूर एवं सेब खाएं।
  • सब्जी में करेला, बथुआ, नीबू, टमाटर, अदरक, लहसुन, परवल सेवन करें।

सिरदर्द होने पर क्या नहीं खाना चाहिए :

अन्य सम्बंधित पोस्ट 



शेयर करें

Comments

  1. Reply

  2. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.