शहद के फायदे और इसके 35 घरेलू नुस्खे

शहद के फायदे और औषधिय गुणों को न केवल आयुर्वेद में बल्कि अन्य चिकित्सक पद्धतियों में भी सराहा गया गया है | आयुर्वेद में तो इसकी तुलना अमृत से की गयी है जो अब वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित भी हो गया है | आजकल स्वास्थ्य से जुडी कई बहुराष्ट्रीय कम्पनियां शहद से काफी सारी दवाइयां बना रही है | खासतौर से मोटापे को कम करने के लिए और प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) को बढाने के लिए दालचीनी और शहद (Cinnamon & Honey) के द्वारा बहुत सारे Herbal Health Supplement बनाये जा रहे है जो इस बात का प्रमाण है की सदियों पहले भारतीय आयुर्वेदिक ज्ञाताओ ने शहद के जिन गुणों को जान लिया था वो शत प्रतिशत कामयाब थे |

शहद विटामिन ए, बी, सी, सोडीयम, फास्फोरस, आयोडीन, आयरन, कैल्शियम, कॉपर, मैगनीशियम, पोटैशियम जैसे खनिजो और अन्य पोषक तत्वों भंडार है | इसलिए शहद के इस्तमाल करने के अनुरूप वह शरीर पर अलग अलग प्रभाव डालता है | वैसे तो एक ही पोस्ट में शहद के सभी नुस्खो और फायदों को बताना काफी मुश्किल है पर फिर भी हम कोशिश करेंगे की शहद के लगभग सभी उपयोग और शहद खाने के फायदे और विभिन्न रोगों के उपचार की विधि तथा रोग ना हों (preventive healthcare) इसके लिए शहद आपकी कैसे मदद कर सकते है बताएँगे |

तो आइये विस्तारपूर्वक जानते है इस गुणकारी अमृत यानि शहद के फायदे

 

benefits-of-honey /शहद के फायदे

शहद के फायदे

Honey Benefits :

  • शहद के सेवन से खून में हिमोग्लोबिन का स्तर बढाता है |
  • शहद शरीर में रक्त परिसंचरण blood circulation को बढ़ाता है |
  • शहद चीनी के मुकाबले एक बढ़िया विकल्प है क्योंकि शहद के रासायनिक तत्वों में सिंपल शुगर होती है जिसमे ग्लूकोस की मात्र कम होती है और मिठास चीनी जितनी ही होती है |
  • शहद अपनी एंटीऑक्सीडेंट क्षमता के कारण एक अच्छा एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक होता है जिससे संक्रमण और घावो को ठीक होने में मदद मिलती है |
  • शहद अपनी अम्लीय संरचना के कारण पेट की बिमारियों जैसे कब्ज, पेट फूलने और गैस में लाभकारी होता है|

दालचीनी और शहद के लाभ (Honey And Cinnamon benefits)

  • मानसिक तनाव और गठिया के दर्द में दालचीनी और शहद बराबर मात्र में मिलाकर पीने से आराम मिलता है |
  • शहद और मोटापा- मोटापे को कम करने के लिए भी दालचीनी और शहद काफी फायदेमंद होता है | सुबह खाली पेट आधा चमम्च दालचीनी का पाउडर और एक चमम्च शहद मिलाकर पिए |
  • दालचीनी में इन्सुलिन बढाने वाले तत्व होते है इसलिए मधुमेह के रोगियों के लिए शहद और दालचीनी वाला यह नुस्खा काफी उपयोगी होता है अगर वो मोटापे की समस्या से भी जूझ रहे हो तो |

शहद के औषधीय गुण और 35 घरेलू नुस्खे / 35 Honey Natural Remedies

 

35 honey-home-remedies -in-hindi /शहद के फायदे

शहद के फायदे और 35 घरेलू नुस्खे

  • खाँसी में शहद के फायदे(Cough)- (1) एक नींबू पानी में उबालें फिर निकालकर काँच के गिलास में निचोड़ें। इसमें एक 30 ml ग्लिसरीन और 90 ml शहद मिलाकर अच्छी तरह से मिलाएं । इसकी एक एक चम्मच चार बार लेने से खाँसी बन्द हो जाती है। (2) या 12 ग्राम शहद दिन में तीन बार लेने से कफ़ निकल जाता है, और खाँसी ठीक हो जाती है। काली मिर्च और शहद मिलकर पीने से खांसी और कफ से निजात मिलती है |
  • पेट के रोगों जैसे –कम भूख लगना, कब्ज अपच आदि को दूर करने के लिए तीन चम्मच पिसा हुआ आंवला रात को एक गिलास पानी में भिगो दें। सुबह: उसे छानकर चार चम्मच शहद मिलाकर पियें।
  • थकावट-शहद के प्रयोग से शक्ति, स्फूर्ति और स्नायु को शक्ति मिलती है। समुद्र में काम करने वाले जिनको बहुत समय तक पानी में रहना पड़ता है, वे शहद से यह शक्ति प्राप्त कर सकते हैं। शहद का सबसे बड़ा गुण थकावट दूर करना है। शक्कर से पाचन अंग खराब होते हैं, पेट में गैस पैदा होती है लेकिन शहद गैस बनने से रोकता है। यह मानसिक और शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है। आप सारे कामकाज करने के बाद रात को या जब भी थकावट हो तो दो चम्मच शहद आधे गिलास गर्म पानी में नीबू का रस निचोड़कर पी लें, सारी थकावट दूर हो जायेगी और पुन: ताजगी महसूस करने लगेंगे।
  • हिचकी (hiccup) -दो चम्मच प्याज के रस में इतना ही शहद मिलाकर खाने से हिचकी बन्द होती है। केवल शहद लेने से भी हिचकी बन्द हो जाती है।
  • कब्ज दूर करने के लिए दूध और शहद के फायदे – प्रात: व रात को सोने से पहले 50 ग्राम शहद ताजा पानी या दूध में मिलाकर पियें। शहद का पेट पर संतोष जनक प्रभाव पड़ता है।
  • मधुमेह (Diabetes) या sugar– में मीठा खाने की तीव्र इच्छा होने पर शक्कर के स्थान पर बहुत कम मात्रा में शहद लेने से चीनी की तुलना में कम नुकसान होगा |
  • चेहरे के लिए शहद के फायदे – नींबू, शहद, बेसन और तिल के तेल का (उबटन) scrub लगाने से त्वचा में प्राकृतिक निखार आकर सौन्दर्य बढ़ता है। शहद त्वचा को कोमल बनाता है।
  • हृदय शक्तिवर्धक (Heart Tonic)- शहद हृदय को शक्ति देने के लिए विश्व की समस्त औषधियों से सर्वोतम है। जहाँ यह रोगग्रस्त हृदय को शक्ति देता है वहाँ स्वस्थ हृदय को मजबूत और शक्तिशाली बनाता है। शहद की एक चम्मच गर्म पानी में डालकर पियें। एक चम्मच शहद प्रतिदिन लेने से हृदय सबल बनता है। एक चम्मच शहद में 100 कैलोरी होती है।
  • हृदय के लिए अन्य उपाय -अनार के ताजे जूस में शहद मिलाकर खाली पेट पियें इससे दिल की कार्य क्षमता बढती है |
  • गर्भावस्था– शहद में प्रोटीन होता है। प्रोटीन का सेवन गर्भावस्था में करने से लाभ होता है | शहद में कुछ हारमोन होते हैं जो गर्भस्थ महिला के रंग-रूप को बनाए रखते हैं। गर्भावस्था में रक्त की कमी आ जाती है। इस दौरान रक्त को बढ़ाने वाली चीजों का सेवन अधिक किया जाना चाहिए। महिलाओं को दो चम्मच शहद प्रतिदिन पिलाते रहने से रक्त की कमी नहीं होती|
  • साँस की तकलीफ – जिनके फेफड़ों में कफ की वजह से साँस लेने में कठिनाई होती है उनको दो चम्मच प्याज़ का रस या एक प्याज को पीसकर, इसे दो चम्मच शहद में मिलाकर देना चाहिए । दमा और फेफड़े के रोग शहद का सेवन करने से दूर होते हैं। शहद फेफड़ों को बल देता है, खाँसी, गले की खुश्की तथा स्नायु कष्ट दूर करता है। छाती में कफ की खराश जैसी आवाज दूर होती है। केवल शहद भी ले सकते हैं।
  • फोड़े फुंसी –नीम की कोपलो को पीसकर उसमे शहद मिलाकर पीने से फोड़े फुंसी ठीक होते और खून भी साफ़ होता है |
  • सर्दी, खाँसी, बुखार होने पर एक चम्मच शहद में चौथाई चम्मच पिसी हुई पीपल मिलाकर रोजाना  तीन बार खायें।
  • जुकाम, खाँसी-एक चम्मच शहद और चौथाई चम्मच नमक मिलाकर, लगातार तीन बार लें ।
  • अगर आपको प्यास अधिक लगती हो तो 2 चम्मच शहद मुँह में भरकर 10 मिनट रखें, फिर पानी से कुल्ला कर लें। इस से बार-बार अधिक प्यास लगना ठीक हो जायेगा।
  • त्वचा पर काले दाग –धब्बे हटाने के लिए नींबू शहद के फायदे -एक चम्मच शहद में चौथाई चम्मच नींबू का रस मिलाकर काले धब्बों पर लेप करें। एक घंटे बाद धोयें। कुछ सप्ताह में काले दाग मिट जायेंगे।
  • एड़ी फटने (heel cracks) और (वर्षा के पानी से पैरों में खुजली, फुसियाँ) होने, अँगुलियों की त्वचा खराब होने , नाखून उतर जाने पर तीन बार शहद लगाना चाहिए।
  • पीलिया (Jaundice)- प्रतिदिन तीन बार एक-एक चम्मच शहद को पानी के गिलास में मिलाकर पीने से लाभ होता है।
  • बच्चों के पेट में दर्द हो तो एक गिलास पानी में दो चम्मच सौंफ उबालें। आधा पानी रहने पर स्वादानुसार शहद मिलाकर पिलायें। यदि दर्द रह-रह कर उठता हो तो पोदीने का रस चार चम्मच और एक चम्मच शहद मिलाकर पिलायें।
  • फेफड़ों के रोग जैसे-ब्रोन्काइटिस, निमोनिया, टी.बी.,दमा आदि में शहद लाभदायक है। रूस में फेफड़ों के रोगों में शहद अधिक प्रयोग किया जाता है।
  • घावों के लिए शहद के फायदे -(1) शहद की पट्टी बाँधने से आराम होता है। (2) एक भाग पीला मोम, चार भाग शहद की मरहम से पट्टी बाँधे। मोम को गर्म करके उसमे शहद मिलायें। एंटीबायोटिक मरहम बन जायेगा। जो घाव ठीक नहीं होते वे इससे ठीक हो जाते हैं।
  • जले हुए अंगों पर शहद का लेप करने से जलन कम होती है, घाव होने पर भी जब तक ठीक न हो, शहद लगाते रहें। घाव ठीक होने पर जले हुए के सफेद दाग बने रहते हैं। इन पर शहद लगाकर पट्टी बाँधते रहें। दाग मिट जायेंगे।
  • गठिया (Rheumatism)-गठिया ग्रस्त लोगों को लम्बे समय तक शहद बहुतायत में खाना चाहिए। इससे बहुत लाभ होता है। जोड़ों का दर्द कम होता है।
  • लम्बी आयु-शहद शरीर को ताकतवर और लम्बी आयु प्राप्त करने के लिए लाभदायक है। वृध्दावस्था में शहद उत्तम भोजन है। यह वृध्दावस्था में होने वाले आम शारीरिक कष्टों से बचाता है।
  • (आँखों के लिए शहद शहद के फायदे ) काले मोतियाबिन्द (Black glaucoma) से बचाव– सवाई मानसिंह अस्पताल, जयपुर के नेत्र विशेषज्ञ डॉ. आर जी शर्मा ने बताया है कि प्रतिदिन एक बूंद शहद डालने से लोग इस रोग से बच सकते हैं। उन्होंने बताया कि इतना ही नहीं, जिन लोगों के मोतियाबिन्द हो गया हो यदि वे प्रारम्भिक अवस्था में तीन-चार , सप्ताह तक शहद का उपयोग करें तो उन्हें निश्चित रूप से लाभ होगा।
  • (आँखों के लिए शहद शहद के फायदे ) रतौंधी (Night blindness)- आँखों में काजल की तरह सोते समय शहद लगाने से रतौंधी दूर होती है। इससे आँखों की कमजोरी भी दूर हो जाती है।
  • आधे सिर में दर्द (Migraine)- (1) यदि सिर दर्द सूर्योदय से शुरू हो, जैसे-जैसे सूर्य ढलने लगे, सिरदर्द बन्द हो जाए, ऐसे आधे सिर के दर्द में जिस ओर सिर में दर्द हो रहा हो उसके विपरीत दिशा वाले दूसरे नाक के नथुने (Nostrils) में एक बूंद शहद डाल दें, दर्द में आराम हो जाएगा। रोजाना भोजन के समय दो चम्मच शहद लेते रहने से दर्द नहीं होता। कभी दर्द हो भी जाए तो उसी समय दो चम्मच शहद ले लेने से ठीक हो जाता है। यह भी पढ़ें – लहसुन खाने के फायदे और 12 बेहतरीन औषधीय गुण
  • गले के लिए शहद के फायदे – गले में सूजन हो तो एक चम्मच शहद दिन में तीन बार लेने से लाभ होता है।
  • गले को आवाज बैठ गई हो तो एक कप गर्म पानी में एक चम्मच शहद डालकर गरारे करने से आवाज खुल जाती है।
  • क्षय 25 ग्राम शहद, 100 ग्राम मक्खन में मिलाकर देना चाहिए। एक चम्मच शहद, दो चम्मच देशी घी मिलाकर सेवन करने से शरीर का क्षय होना रुक जाता है, बल बढ़ता है।
  • पेट के (Worms)- दो भाग दही, एक भाग शहद मिलाकर लेने से पेट के वार्म्स मर जाते है |
  • विसर्प (Erysipelas)- आयुर्वेदिक उपचार के अनुसार बार-बार शुद्ध शहद लगाने या कपड़े पर शहद लगाकर लगाने से विसर्प ठीक हो जाते हैं। क्योंकि शहद रक्त साफ करता है। और नया रक्त बनाता है।
  • (cold burn or Frost Bite)-यदि ज्यादा सर्दी के कारण शरीर में लगातार दर्द होता रहे तो उस पर शहद लगाये |
  • आयुर्वेदिक रामबाण औषधि (शहद और तुलसी )- आधा चम्मच तुलसी के पत्तों का रस या सौ पते तुलसी के पीसकर तीन चम्मच शहद, दो चम्मच पानी में मिलाकर एक महीना पियें। लगभग सभी छोटे मोटे रोगों में लाभ मिलेगा 

शहद सेवन की विधि और सावधानियां –HONEY: Usage ,Precautions and Warnings

  • शहद से कोई हानि प्रतीत हो तो नींबू का सेवन विकारों को दूर कर रस, नींबू किसी भी वस्तु में मिलाकर ले सकते हैं। सर्दियों में गर्म पेय के साथ, गर्मियों में ठण्डे पेय के साथ और वर्षा ऋतु में प्राकृतिक रूप में ही सेवन करना चाहिए।
  • इनमे से आप कोई भी नुस्खा अजमाए पर शहद शुद्ध होना चाहिए | बाजार में मिलने वाले शहद में अक्सर चीनी की मिलावट होती है जिससे आंख या नाक में डालने पर चिपचिपाहट की समस्या हो सकती है |
  • शहद को आग पर कभी गर्म नहीं करना चाहिए। अधिक गर्म चीज में मिलाने से शहद के गुण नष्ट हो जाते हैं। अत: इसे हल्के गर्म दूध, पानी में ही मिलाना चाहिए। घी, तेल, चिकने पदार्थ के साथ शहद समान मात्रा में कभी नहीं लेना चाहिए ।

अन्य लेख 



शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.