झाइयों से छुटकारा पाने के लिए आजमाएं ये उपाय

झाइयों से चेहरे की ख़ूबसूरती तो खराब होती ही है पर साथ ही ये कई बार खराब सेहत की निशानी भी होती है | बढती उम्र के साथ चेहरे पर झाइयां होना आम बात है लेकिन आजकल यह समस्या हर उम्र की महिलाओं में देखी जाती है। तेज धूप और हार्मोन में असंतुलन से चेहरे पर झाइयां हो जाती हैं। इससे गालों पर काले और नीले निशान पड़ जाते हैं | वैसे तो चेहरे पर लगने वाले ये दाग कई प्रकार के होते हैं, जिसमें से एक आम प्रकार है…पिग्मेंटेशन यानी झाइयों का | ये समस्या किसी भी कारण से उत्पन्न हो सकती है, जैसे हार्मोनल असंतुलन, गैस की आंच, सूरज की रोशनी, कंप्यूटर स्क्रीन, ट्यूबलाइट व सीएफएल आदि से निकलने वाली पराबैंगनी किरणें चेहरे के रोग झाइयों की समस्या बढ़ जाती है | 20-25 वर्ष की महिलाएं चेहरे और हाथों पर होने वाली झाइयों से ज्यादा पीड़ित होती हैं | धूप में उपस्थित सूरज की हानिकारक किरणें, शरीर में किसी जरूरी तत्व की कमी या मानसिक तनाव। इसके लिए सबसे पहले रक्त की जांच करवानी चाहिए और फिर चिकित्सक के परामर्श अनुसार ही दवाओं का सेवन कीजिए। मानसिक तनावों से मुक्ति के लिए योग का सहारा ले सकती हैं। इसके साथ ही धूप में निकलते वक्त सनस्क्रीन जरूर लगाएं। आइए, नजर डाले झाइयों को दूर करने के कुछ आधुनिक और घरेलू उपायों पर। वैसे हमने पिछले पोस्ट में झाइयों को दूर करने के कई कारगर घरेलू बताए थे इस पोस्ट में भी जानिए कुछ और उपाय |

झाइयों को हटाने के उपाय :

Freckle jhaiyon ka ilaj hindi mein झाइयों से छुटकारा पाने के लिए आजमाएं ये उपाय

झाइयों से छुटकारा

  • त्वचा पर झाइयां पड़ना शरीर में अंदरूनी कारणों से भी संभव है। खून की कमी भी एक कारण हो सकती है। खून की जांच करवाएं और खून बढ़ाने वाले फल सब्जियों का सेवन करें। आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस और प्रोटीन युक्त आहार का विशेष रूप से सेवन करना चाहिए ।
  • अण्डा, दूध, टमाटर, पालक, पत्तागोभी, पपीता आदि से भी लाभ मिलेगा। मानसिक तनावों से मुक्ति के लिए योग का सहारा लेना चाहिए । धूप में जाने से पहले चेहरे पर सनस्क्रीन का प्रयोग अवश्य करें। दरअसल सूर्य से निकलने वाली किरणें-यूवीए और यूवीबी त्वचा में समाकर कई तरह की समस्याएं, जैसे- सनबर्न, झुर्रियां, काले धब्बे आदि को पैदा कर देती हैं। यहां तक कि इनसे त्वचा कैंसर तक होने का खतरा भी रहता है, इसलिए आप जब भी सनस्क्रीन खरीदें, हमेशा जांच लें कि उसके लेबल पर यूवीए और यूवीबी प्रोटेक्शन या फिर ब्रॉड स्पेक्ट्रम छपा है या नहीं, क्योंकि ये हमें बहुत हद तक इन किरणों के प्रभाव से बचाता है। इसलिए बाहर निकलने से पहले अपने चेहरे व अन्य खुले भागों पर एसपीएफ और पी.ए. युक्त सनस्क्रीन लगाकर अपनी त्वचा को यू.वी.ए और यू.वी.बी किरणों से बचाएं।
  • इसके साथ ही धूप में आते-जाते वक्त छतरी का भी इस्तेमाल करें, ऐसा करने से झाइयां और बढ़ेगी नहीं।

घरेलू उपचार के तौर पर यह फेस पैक प्रयोग करें

  • इसके लिए चोकर को रात भर थोड़े से दूध (रूखी त्वचा होने पर) या (तैलीय त्वचा होने पर) दही में भिगो दें। सुबह उस गाढ़े पेस्ट में थोड़ा कैलेमाइन पाउडर, चुटकीभर दालचीनी पाउडर मिलाएं और अपने चेहरे पर लगाएं। इस स्क्रब को लगाने से आपको काफी फायदा होगा।
  • इसके साथ ही झाइयों को दूर करने के लिए घर पर आप एक और पैक बना सकती हैं। एक चम्मच पानी में मसूर के दाने जितनी रसौंध, चुटकीभर पिसा कपूर डालकर घोल लें। फिर इसमें एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी और कुछ बूंदें शहद की मिलाकर चेहरे पर लगाएं और सूख जाने पर धो दें। रात को सोने से पहले चेहरा अच्छे से साफ कर लें और फिर ए.एच.ए. क्रीम से चेहरे व गर्दन की मालिश करके सो जाएं।
  • लेज़र और “Dermabrasion” तकनीक की मदद से भी इसका इलाज संभव है। यह उपचार कई सिटिंग्स के बाद पूरा होता है। इसकी मदद से त्वचा की ऊपरी सतह निकल जाती है, जिससे दाग-धब्बे कम होते हैं। इस उपचार को करवाने के बाद त्वचा पर लगाए जाने वाली दवाएं ज्यादा असरकारी होती हैं। इसके अलावा आप किसी अच्छे कॉस्मेटिक क्लीनिक से यंग स्किन मास्क भी लगवा सकते हैं।
  • चेहरे पर काले धब्बे भी खूबसूरती पर दाग के समान होते हैं। चेहरे पर काले धब्बे हार्मोनल असंतुलन के कारण होते है। इस समस्या से निजात पाने के लिए आप होम्योपैथिक या आयुर्वेदिक उपचार का सहारा ले सकती हैं।
  • इसके अलावा चेहरे के दाग-धब्बों को दूर करने के लिए फ्रूट बायोपील उपचार ले सकती हैं। इसमें पपीते के एंजाइम्स का इस्तेमाल किया जाता है, जो दाग-धब्बों को दूर करता है। वैसे घर पर इन दाग-धब्बों को मिटाने के लिए स्क्रब भी कर सकती हैं।
  • इसके लिए 1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी, आधा चम्मच चंदन पाउडर में एलोवेरा पल्प व खसखस मिलाकर पेस्ट बनाएं और अपने चेहरे पर लगाकर स्क्रब करें। इस स्क्रब में शामिल एलोवेरा से त्वचा से कालापन कम होगा, जिससे दाग-धब्बे भी दूर होंगे।
  • हाइपो-थायराइड से पीड़ित स्त्रियों के चेहरे, गाल तथा माथे पर अकसर काले-काले निशान हो जाते हैं ऐसी स्थति में जब तक थायराइड नियंत्रित नहीं होगा, तब तक कोई भी दवा या घरेलू उपचार बेअसर ही साबित होता है। यदि आप घरेलू उपाय के साथ-साथ थायराइड को नियंत्रित करने की भी दवा लें, इससे निशानों पर जल्दी फर्क पड़ेगा। इसके साथ ही घर पर 1 चम्मच चोकर को कुछ घंटों के लिए गुलाबजल में भिगो दें, इसके बाद उसमें थोड़ा केओलीन पाउडर, चुटकी भर दालचीनी और पाइनएप्पल जूस मिलाकर चेहरे पर लगाएं। 5-7 मिनट बाद हल्के हाथों से स्क्रब करके पानी से धो लें। दवाइयों के साथ किए गए इस उपचार से काफी फायदा होगा।
  • प्रसव के बाद हार्मोन्स में बदलाव होना आम है और इस कारण से भी झाइयों की समस्या उत्पन्न हो सकती है। बच्चा होने के बाद एक मां को अपने लिए समय निकाल पाना बहुत मुश्किल हो जाता है और इसी कारण वह ठीक से अपना आहार भी ठीक से नहीं ले पाती है, जिस कारण शरीर में किसी अपने खान-पान पर पूरा ध्यान दें और आहार में संतुलित नट्स, बंदगोभी, गाजर जैसी चीजों को शामिल करें।
  • इसके अलावा यदि खून की कमी है, तो चुकंदर का सेवन भी आपके लिए लाभदायक होगा । ऐसे में आप सबसे पहले अपने रक्त की जांच करवाएं और फिर चिकित्सक के परामर्शानुसार दवाइयों का सेवन करें। क्लीनिकल उपचार के तौर पर कुकून या ए.एच.ए. यानी अल्फा हायड्रॉक्सी एसिड उपचार लिया जा सकता हैं, जिसके अंदर लेज़र लाइट का इस्तेमाल किया जाता है और जिसकी मदद से झाइयों की समस्या काफी हद तक समाप्त हो जाती है।
  • गालों पर झाइयां खत्म करने के लिए घर पर रसदार नींबू के छिलके पर नमक और चुटकीभर हल्दी डालकर हल्के-हल्के से प्रभावित स्थान पर मलें। ऐसा करने से जल्द लाभ मिलेगा। वैसे घरेलू उपायों से पुरानी झाइयों को पूरी तरह खत्म कर पाना संभव नहीं है। लेज़र और डर्माब्रेशन तकनीक की मदद से इसका इलाज संभव है।
  • झाइयों की समस्या से बचने के लिए विटामिन सी व ई युक्त आहार, जैसे- खट्टे फल, अपने आहार में शामिल करें इससे दाग-धब्बे कम होते हैं। यह भी पढ़ें – झाइयां दूर करने के घरेलू उपाय -Jhaiya On Face
  • कई बार जब तक चेहरे पर झाइयों की क्रीम लगाते रहते है तभी तक असर रहता है, लेकिन फिर कुछ दिनों बाद चेहरा फिर से वैसे ही नजर आने लग जाता है। इसका मुख्य कारण यह होता है की झाइयों के निशानों को जल्द कम करने के लिए उन पर स्ट्रेऑयड्स का इस्तेमाल करने को दिया जाता है, ऐसा करने से निशान तुरंत गायब तो हो जाते हैं, लेकिन जैसे ही स्ट्रेऑयड्स का इस्तेमाल बंद कर दिया जाता है झाइयाँ वे फिर से वापस नजर आने लगती हैं। लेकिन ऐसा करने से त्वचा स्थाई रूप से खराब हो सकती है आगे चलकर इसको किसी दवा या क्रीम से ठीक कर पाना मुश्किल हो जाता है। फिर लेजर द्वारा उपचार ही आखरी उपचार बचता है। इसकी मदद से त्वचा के नये (सेल्स) का पुनर्निर्माण होता है।

अन्य सम्बंधित लेख 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *