घर पर फेशियल मसाज करने की विधि तथा फेशियल के फायदे

बढ़ती उम्र में भी त्वचा की खूबसूरती को बनाए रखना सभी के लिए मुश्किल होता है खासकर महिलाओं के लिए तो यह विशेषतौर से चुनौती भरा काम होता है. खासतौर पर उम्र के 30 वें पड़ाव पर पहुंच चुकी महिलाएं अपनी त्वचा में होने वाले ढीलेपन और झुर्रियों से काफी परेशान रहती हैं. दरअसल, 30 की उम्र के बाद त्वचा में प्राकृतिक मॉइश्चराइजर बनना बंद हो जाता है, जिस की वजह से त्वचा में वह कसाव नहीं रहता है जो 30 की उम्र से पहले रहता है, फेशियल मसाज इसी समस्या के समाधान का तरीका है क्योंकि यह त्वचा पर चढ़ी डैड सैल्स की परत को निकाल देती हैं और त्वचा पर कसाव के साथ-साथ निखार और चमक भी लाती हैं | चेहरे की खूबसूरती बनाए रखने के लिए फेशियल एक अच्छा उपाय है। फेशियल फैशन के अनुरूप कोई मेकअप नहीं, बल्कि यह चेहरे पर किया जाने वाला एक प्रकार का मसाज है। फेशियल मसाज से त्वचा में रक्त संचार अच्छी तरह होने लगता है जिससे चेहरे पर एक नई चमक आ जाती है। उम्र के हिसाब से पड़ने वाली झुर्रियां फेशियल मसाज करवाते रहने से कम हो जाती हैं। त्वचा सुंदर तथा मुलायम बनी रहती है। तनाव के कारण चेहरे की त्वचा में आया खिंचाव दूर होता है। रजोनिवृत्ति के बाद त्वचा में आए परिवर्तन के लिए भी फेशियल काफी लाभदायक सिद्ध होता है।

घर पर फेशियल मसाज करने की विधि

 घर पर फेशियल मसाज करने की विधि तथा फेशियल के फायदे facial massage steps fayde hindi

facial massage steps at home

  • घर में फेशियल मसाज करने के पहले हाथों को ठीक से साफ कर लें।
  • चेहरा साबुन से धो डालें। गर्दन की सफाई भी करें।
  • यदि साबुन सूट न करे तो क्लींजर से साफ करें।
  • क्लींजर के बाद फ्रेशनर में रूई भिगोकर उसे चेहरे पर फिराएं ताकि क्लींजर भी एकदम से साफ हो जाए।
  • सफाई करने के बाद विटामिन युक्त कोई अच्छी क्रीम, ऑयल परपज क्रीम या कोल्ड क्रीम माथे, गाल, नाक, ठोड़ी और गर्दन पर लगाएं।
  • सूखी त्वचा पर विटामिन युक्त क्रीम तथा तैलीय त्वचा पर ऑयल परपज क्रीम या कोल्ड क्रीम से मालिश करें।
  • फेशियल मसाज करने के दौरान क्रीम लगाने के बाद दोनों हाथों की उंगलियों के पोरों से गालों पर दबाव डालते हुए अंदर से बाहर की ओर मालिश करें।
  • दोनों हाथों की उंगलियों को कैंची बनाते हुए अंदर से बाहर की ओर दबाव डालते हुए मालिश करें।
  • दोनों हाथों को गले पर एक के बाद एक आगे की ओर चलाएं।
  • हाथ को हल्के से ठुड्डी से होंठों तक ले जाएं।
  • नाक पर दोनों अंगूठे से ऊपर से नीचे की ओर दबाव देकर मालिश करें।
  • माथे पर उंगलियों को ऊपर की ओर सीध में एक के बाद एक चलाएं।
  • आंखों के आसपास हल्के हाथों से धीरे-धीरे मालिश करें।
  • गर्दन, ठुड्डी, भौंहों तथा कान के आसपास हल्के हाथों से मालिश करें।
  • फेशियल मसाज करने के बाद भाप लें।
  • भाप लेने के लिए किसी चौड़े मुंह के बर्तन में उबलता पानी लें।
  • इस बर्तन के ऊपर कुछ दूरी पर चेहरा रखें। ऊपर से टॉवल से मुंह ढक लें।
  • भाप लेने के बाद फेस पैक बनाकर चेहरे और गर्दन पर लगाएं। इसे आंखों के आसपास न लगाएं।
  • कच्चे दूध या गुलाबजल में रूई भिगोकर आंखों पर रखें अथवा खीरे के स्लाइस रखें।
  • आराम से लेटी रहें। 20-30 मिनट बाद पैक को ठीक से छुड़ा लें। चेहरा और गर्दन को थपथपाकर सुखाएं।

क्लीनिकल फेशियल मसाज

  • ब्यूटी पार्लर में विशेषज्ञों द्वारा कराया जाने वाला फेशियल मसाज क्लीनिकल फेशियल कहलाता है।
  • क्लीनिकल फेशियल और घरेलू फेशियल मसाज में काफी अंतर होता है। क्लीनिकल फेशियल में अल्ट्रासॉनिक मशीन द्वारा ए.एच.ए. (अल्फा क्लीनिकल फेशियल का दृश्य हाइड्रॉक्सी एसिड) क्रीम और सीरम को त्वचा के अंदर पहुंचाया जाता है।

फूट पील फेशियल मसाज

  • यदि क्लीनिकल फेशियल मसाज करवाएं तो साथ में फ्रूट पील या वेजीटेबल पील अवश्य करवाएं।
  • चेहरे की झांइयां हटाने तथा त्वचा को तरोताजा बनाने के लिए फूट पील या वेजीटेबल पील अच्छा उपाय है। इसके द्वारा मृत कोशिकाएं ठीक से साफ हो जाती हैं। त्वचा में रक्त संचार सही तरीके से होता है तथा त्वचा को गहराई तक पोषण मिलता है।
  • इससे ब्लैक हेड्स भी दूर हो जाते हैं। चेहरे पर मुंहासे के दाग-धब्बे समाप्त होते हैं। त्वचा मुलायम और चमकदार बनती है।
  • फेशियल के बाद त्वचा के रोम छिद्र खुल जाते हैं, इसलिए पैक का प्रयोग फेशियल के बाद जरूर करना चाहिए। पैक का प्रयोग बिना फेशियल के भी किया जा सकता है, लेकिन कम उम्र में ज्यादा टाइटनिंग पैक का प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  • साधारण तौर पर अगर त्वचा में कोई समस्या भी नहीं है तो 35 वर्ष से पूर्व माह में एक बार ठीक है।
  • 35 से 40 वर्ष में 20 दिन में तथा 40 वर्ष के बाद 15 दिन में फेशियल मसाज कराना ठीक रहता है
  • फेस पैक त्वचा को निखारते हैं तथा साफ करते हैं, साथ ही त्वचा का पोषण भी करते हैं।
  • फेस पैक का प्रयोग अक्सर फेशियल मसाज के बाद किया जाता है, लेकिन पैक हम बिना फेशियल के भी प्रयोग कर सकते हैं, साथ ही पैक हम घर पर बनाकर भी लगा सकते है |
  • पैक में फलों और अरोमा ऑयल का प्रयोग करना अच्छा रहता है। अच्छे पार्लर में यंग स्किन मास्क का प्रयोग किया जाता है, जिसमें कोलेजन होता है।
  • पैक कई प्रकार के होते हैं- वेजीटेबल, हर्बल, चंदन इत्यादि।
  • पैक का प्रयोग त्वचा के अनुसार भी किया जाता है। त्वचा की जरूरत के अनुरूप उसमें जिनसिंग, अरोमा ऑयल या कोलेजन ड्राप डालते हैं।
  • अगर फेशियल के बाद पैक का प्रयोग करना हो तो पूरी किट होती है।
  • गोल्ड फेशियल के पैक में गोल्ड डस्ट का प्रयोग किया जाता है।
  • पार्लर में एंजाइम और ग्लो पैक भी प्रयोग किया जाता है, जिसमें कुछ खास एंजाइम के साथ चंदन और हर्ब का प्रयोग किया जाता है।
  • इससे त्वचा साफ तो होती ही है, चमकदार और खिली-खिली, एकदम जीवंत हो जाती है।
  • जिनकी त्वचा तैलीय तथा रोमछिद्र खुले हुए हों, उसके लिए साइट्रस फल या टमाटर का पैक अच्छा होता है।
  • थोड़ा टमाटर का गूदा, एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी, एक चम्मच चंदन का पाउडर, थोड़ी-सी हल्दी मिलाकर पैक बनाकर चेहरे पर लगाएं।
  • खुले रोमछिद्र के लिए टमाटर का टुकड़ा चेहरे पर थोड़ी देर मल कर छोड़ दें, फिर सूखने पर धो लें।

फेशियल मसाज से जुड़े कुछ सुझाव तथा सावधानियां 

  • फेशियल मसाज हमेशा सधे हाथों द्वारा करें। हड़बड़ी या जल्दबाजी में फेशियल कभी न करें।
  • यदि दूसरों से फेशियल मसाज करवाएं तो ध्यान रखें कि फेशियल करने वाला कुशल हो। क्योंकि फेशियल के दौरान नाक, आंख, गाल, होंठ, गर्दन, माथा आदि का मसाज थोड़ी-सी गलती से आपको परेशानी में डाल सकता है।
  • फेशियल मसाज करने वाले को चेहरे के प्रेशर प्वॉइंट के बारे में अच्छी तरह जानकारी होनी चाहिए।
  • कहां अधिक दबाव देना है और कहां कम दबाव देना है-इस बारे में सही जानकारी न होने पर परेशानी उत्पन्न हो जाती है।
  • चेहरे पर चलने वाले हाथों की दिशा का भी ज्ञान होना चाहिए।
  • अकुशल हाथों द्वारा किए गए फेशियल से अनेक प्रकार के साइड इफेक्ट्स दिखाई देने लगते हैं।
  • फेशियल मसाज करवाने के तुरंत बाद चेहरे में निखार नहीं आता। इसका असर दूसरे दिन दिखाई देता है।
  • यदि आप विशेष अवसर पर शामिल होना चाहती हैं तो एक दिन पहले फेशियल करवाएं।
  • त्वचा पर किसी प्रकार का संक्रमण हो तो फेशियल मसाज न करवाएं।
  • एक्टिव मुंहासों से चेहरा भरा होने पर फेशियल हानिप्रद होता है। से त्वचा बहुत अधिक संवेदनशील हो तो भी फेशियल न करवाएं।

अन्य सम्बंधित आर्टिकल 

Leave a Reply