खांसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए : सूखी खांसी में भोजन

खांसी के बारे में कहा जाता है कि यह अपने आपमें कोई रोग नहीं है, बल्कि दूसरे रोग का लक्षण होता है। ये रोग हैं- सर्दी-जुकाम, निमोनिया, टीबी, दमा, एलर्जी, अस्थमा और जिगर में खराबी। खाँसी यदि लंबे समय तक बनी रहे तो अन्य रोग पैदा …

पसीना रोकने के उपाय अधिक पसीने से छुटकारा पाने के उपाय

पसीना (Sweat) “स्वेट ग्लेंड्स’ में बनता है, जो हमारे शरीर की त्वचा के नीचे विशेष रूप से हाथों की हथेलियों, पैरों के तलवों तथा सिर की त्वचा के नीचे स्थित होती हैं। एक इन्सान में इनकी संख्या 20 से तीस लाख तक होती है। स्त्रियों में …

टीबी की बीमारी में भोजन : जानिए लाभदायक फल और सब्जियां

क्षय रोग, तपेदिक, या टी.बी से सब एक ही बीमारी के अलग-अलग नाम हैं | क्षय का मतलब होता है गल जाना और इस रोग में वास्तव में यही होता है, जहाँ भी टी.बी होता वह हिस्सा खोखला हो जाता है, खराब हो जाता है। टीबी …

मधुमेह में आहार प्रबंधन की विधि : Dietary Guidelines for Diabetics

मधुमेह यानि डायबिटीज के रोगी के लिए संतुलित आहार लेना सबसे जरुरी है। मधुमेह के रोगी संतुलित आहार लेकर रक्त में बढ़ी हुई शुगर की मात्रा को काफी हद तक नियंत्रित रख सकते है और ज्यादा मात्रा में दवाई लेने से भी बच सकते है इस …

कुष्ठ रोगियों के लिए आदर्श भोजन तालिका : कोढ़ की बीमारी में खानपान

कुष्ठ रोग या कोढ़ (Leprosy) यह दो प्रकार का होता है संक्रामक और असंक्रामक। संक्रामक कोढ़ को ‘लेप्रोमेटस लेप्रासी’ कहते हैं। ऐसे कुष्ठ रोगियों के नाक, गले, त्वचा से कोढ़ के कीटाणु निकलते रहते हैं। रोगी के चेहरे, कान व अन्य जगह की त्वचा मोटी हो …

हाइपोग्लीमिया में भोजन : खून में शुगर की कमी के मरीजो का डाइट चार्ट

खून में शुगर की कमी का कारण है शर्करा के चयापचय की क्रिया में गड़बड़ी। यह एक ऐसी अवस्था है, जिसमें अग्न्याशय (पाचक ग्रंथि) द्वारा ज्यादा मात्रा में इंसुलिन का निर्माण होता है, जिसकी वजह से रक्त में शर्करा (ग्लूकोज) की मात्रा कम हो जाती है। …

जानिए आँखों के चारों पड़ने वाले निशानों के क्या कारण है ?

आँखों को सुंदर व आकर्षक दिखाने के लिए ज्यादातर लोग आँखों के नीचे लगाने वाली क्रीमों, झुर्रियाँ हटाने वाली क्रीमों, और कई सारे ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तमाल करते हैं, जो विज्ञापनों में आँखों की चमक को वापस लाने का दावा करती हैं। लेकिन हम ये नहीं …

टाइफाइड बुखार के आयुर्वेदिक उपचार तथा इस बीमारी से जुड़े कुछ सवालों के जवाब

दूषित पानी और दूषित खाना खाने से टाइफाइड बुखार (आंत्रिक ज्वर) होता है। टाइफाइड बुखार को मियादी बुखार, मोतीझरा आदि अनेक नामों से भी जाना जाता है। टाइफाइड बुखार से पीड़ित रोगी शारीरिक रूप से बहुत कमजोर हो जाता है। यदि समय पर उचित इलाज न …

हींग का उपयोग तथा हींग के औषधीय गुणों के फायदे

हींग (Asafoetida) कोई फल या फूल नहीं होता है,यह तो पेड़ के तने से निकली हुई एक गोंद होती है। इसका पेड़ 5 से 9 फीट ऊंचा होता है। इसके पत्ते 1 से 2 फीट लम्बे होते हैं। हींग का प्रयोग भोजन को स्वादिष्ट व सुगंधित …

खुश रहने के तरीके : हमेशा खुश रहने और सकारात्मक सोच के उपाय

“खुश रहने” के लिए किस्मत, पैसा, ताकत या किसी और भौतिक चीज (जैसे सामान या मशीन ) की जरुरत  नहीं होती। बिना किसी कारण भी खुश रहना संभव है; क्योंकि खुशियाँ उसी तरह हमारे भीतर हैं, जिस तरह से आकाश हमारे बाहर — – सिकजेंट  आदतों …

हाइट बढ़ाने के लिए योग बाबा रामदेव : लंबाई (कद) बढ़ाने के 9 योगासन

हाइट बढ़ाने के लिए योग यानि कद की लंबाई बढ़ाने के लिए शारीरिक व्यायाम और खासतौर पर योगासन का बहुत महत्त्व है | आज के वैज्ञानिक युग ने भी योगासन के अच्छे प्रभावों को स्वीकार किया है। पश्चिमी देशों में योग एक नई विचारधारा के रूप …

अजमोद (पार्सले) के फायदे तथा इसके बेहतरीन औषधीय गुणों का उपयोग

अजमोद (Celery Seeds) या पार्सले को संस्कृत में ‘अजमोदा’, ‘बस्तमोदा’, ‘ब्रह्मकुशा’ आदि नामों से भी जाना जाता है। यह पंजाब और बंगाल में विशेषरूप से बोई जाती है। इसके पौधे छोटे-छोटे अजवायन के पौधों की तरह होते हैं ये 1 फीट से 3 फीट तक ऊंचे …

विटामिन ए की कमी से होने वाले रोग तथा विटामिन ए के मुख्य स्रोत और खुराक

शरीर के लिए विटामिन की जरुरत तथा उपयोगिता से भला कोई इनकार कैसे कर सकता है | 1910 के आस-पास जब विटामिन पहचाने जाने लगे, तब सबसे पहले विटामिन ए की पहचान की गई थी। इसे ही कैरोटीन कहा जाता है। विटामिन ए पानी में घुलनशील …

वात नाशक भोज्य पदार्थ जो वायु रोग (वात दोष) का करे निवारण

आयुर्वेद में फलों, सब्जियों और मसालों का उपयोग वात नाशक की तरह प्रयोग करने का बहुत पुराने समय से होता आया है। जो कि वायु को बाहर निकालते हैं और पेट की तकलीफ से राहत दिलाते हैं। इसके लिए पौधों में उपस्थित तेल सबसे उपयोगी माना …

पथरी का इलाज आयुर्वेदिक उपायों द्वारा तथा जानिए पथरी का दर्द कैसे रोके

पेशाब से जुड़े रोग हो या पथरी रोग, सब कुछ गुर्दो (किडनी) की खराबी से पैदा होते है। पथरी का इलाज जानने से पहले जरा किडनी की कार्य प्रणाली को समझ लेते है और यह भी जान लेते है की यह रोग आखिर क्यों और कैसे …

कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाना चाहिए : 18 फल, सब्जियां और ड्राई फ्रूट्स

कोलेस्ट्रॉल एक पीले रंगीय का वसीय पदार्थ होता है, यह एक तरह का कवच होता है जो तंत्रिकाओं और हारमोंस प्रमुखत: एस्ट्रोजन और एंड्रोजन में पाया जाता है। यह लाल रक्त वाहिकाओं की सुरक्षा और शरीर की मांसपेशियों की झिल्ली की सुरक्षा जैसे काम करता है। …

मानसून में बालों की देखभाल के टिप्स : बारिश में बालों की देखरेख के नुस्खे

मानसून न सिर्फ चेहरे पर मुस्कान लाता है, बल्कि बालों से जुड़ी कुछ समस्याएं भी लेकर आता है इसलिए मानसून में बालों की देखभाल बहुत जरुरी हो जाती है | इस मौसम में अकसर बालों की चमक खो जाती है, बालों में चिपचिपापन होता है, बाल …

जटामांसी हर्ब के फायदे तथा 24 बेहतरीन औषधीय गुण जो कई रोगों को करे दूर

आयुर्वेद में जटामांसी का प्रयोग अनेक बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है खासतौर पर बालों से जुडी समस्याओं के निवारण के लिए | यह औषधि दिमाग तेज करने में रामबाण उपाय है यह याद रखने की क्षमता बढ़ती है साथ ही यह तनाव, …