इन्द्रायण की जड़,फल तथा तेल के फायदे तथा घरेलू नुस्खे जानिए

इन्द्रायण की बेल पूरे भारत में पाई जाती है यह एक लता होती है जो पूरे भारत के बलुई क्षेत्रों (रेगितानी मिटटी) में पायी जाती है यह खेतों में अपने आप ही उग आती है। इसकी लंबाई 20 से 30 फुट होती है। इसके तरबूज के …

ब्राह्मी के औषधीय गुण, घरेलू नुस्खे तथा ब्राह्मी का सेवन कैसे करें

ब्राह्मी का पौधा हिमालय की तराइयों में बहुतायत में मिलता है, जो बहुत अच्छी किस्म का होता है। यूँ तो ब्राह्मी सारे भारत में गीली तर भूमि या जलाशय के किनारों पर आमतौर पर पाई जाती है। ब्राह्मी एक औषधीय पौधा है। इसके पत्ते, फूल,फल, बीज …

शंखपुष्पी के फायदे सेवन विधि तथा बेहतरीन औषधीय गुण जानिए

आयुर्वेद में शंखपुष्पी को उत्तम रसायन माना गया है। कई रोगों को ठीक करने में शंखपुष्पी के नतीजे काफी सकारात्मक आए हैं। शंखपुष्पी मस्तिष्क के स्नायुओं को ताकत देती है। दिमागी कमजोरी और स्मरण शक्ति बढ़ाने में यह बहुत कामयाब हर्ब है। शंखपुष्पी को एक nootropic …

पिप्पली के औषधीय गुण तथा पीपलामूल के फायदे तथा आयुर्वेदिक नुस्खे

पिप्पली छोटी और बड़ी दो प्रकार की होती है जो आमतौर पर दवा के रूप में प्रयोग की जाती है। पिप्पली के फूल 3 इंच लंबे होते हैं। गुच्छों में फल 1 से डेढ़ इंच लंबे, गोल, हरे रंग के शहतूत के समान दिखते हैं। पकने …

मोबाइल रेडिएशन से बचाव के 22 उपाय तथा फोन रेडिएशन चेक कोड

मोबाइल ने आजकल हमारे जीवन को बहुत ही सरल बना दिया है। मोबाइल से आज हम लगभग हर काम कर सकते है, लेकिन मोबाइल हमारे लिए जितना अच्छा है, उतना ही इससे पैदा होने वाला रेडिएशन खतरनाक भी है। मोबाइल के अधिक प्रयोग से इससे निकलने …

अर्जुन छाल के आयुर्वेदिक नुस्खे कोलेस्ट्रॉल और दिल की बिमारियों के लिए

आचार्य बाणभट्ट ने सबसे पहले हृदय रोग यानि दिल की बिमारियों में अर्जुन पेड़ के औषधीय गुणों की खोज की थी । उसके बाद से इस पर बराबर शोध होते रहे और अब यह हृदय रोगों की महौषधि बन गया है। बहुत पुराने जमाने से ही …

अर्जुन की छाल के फायदे, तासीर तथा आयुर्वेदिक औषधीय उपयोग

अर्जुन एक सदाबहार वृक्ष है, जिसकी ऊंचाई 60-80 फुट तक होती है। इसका तना मोटा एवं शाखाएं तने के चारों ओर फैली रहती हैं। इसके पत्ते 10-15 से.मी. लम्बे, 47 से.मी. चौड़े तथा विपरीत क्रम में लगे होते हैं। फूल सफेद तथा फल, 1-2 इंच लम्बे …