जानिए मुँहासे क्यों होते है तथा मुँहासे ठीक के घरेलू आयुर्वेदिक उपाय

मुँहासे टीनएज की एक ऐसी समस्या है जिससे प्राय: सबको जूझना पड़ता है | जब युवक-युवतियां किशोरावस्था से युवावस्था की ओर बढ़ते हैं तो उनके चेहरे पर कील-मुंहासों की उत्पत्ति होने लगती है। मुंहासों में तेज खुजली होने पर जब जोर से खुजलाते हैं तो मुंहासों के छिल जाने से जख्म बन जाते हैं। मुंहासों में संक्रमण होने से पूय निकलती है और बहुत दर्द होता है। मुँहासे ठीक करने के लिए घरेलू उपायों की मदद ली जा सकती है तथा इस परेशानी से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है |

मुँहासे क्यों होते है ?

मुँहासे (Acne) के रूप में हमारे शरीर में उत्पन्न दूषित तत्त्व निष्कासित होते हैं। भोजन में तेल-मिर्च, गर्म मसालों और खूब अम्लीय खाद्य-पदार्थों का सेवन अधिक करने से उदर में अम्लता अधिक बनने से कील-मुंहासों की उत्पत्ति अधिक होती है |

युवावस्था में शारीरिक विकास के दौरान शरीर में कुछ ऐसे हारमोनों का निर्माण होता है जो लड़के-लड़कियों के शरीर को विकसित करते हैं इससे शरीर में गर्मी भी पैदा होती है। वसायुक्त पदार्थों के सेवन से ग्रंथियां अधिक मात्रा में उत्पादन करती हैं। त्वचा के रोम छिद्रों द्वारा उनको निकाला जाता है। ऐसे में चेहरे पर मुँहासे उभर आते हैं और उनमें संक्रमण होने पर पूयस्राव होता है। युवावस्था में मुँहासे प्राकृतिक रूप से निकलते हैं, लेकिन जो लड़के व लड़कियां अधिक छोले-भटूरे, गोलगप्पे, चाट-पकौड़ी, चाउमीन, फास्टफूड व चाइनीज खाद्य-पदार्थों का सेवन करते हैं, उनके अधिक कील-मुँहासे निकलते हैं। रक्त दूषित होने पर भी मुंहासों की अधिक उत्पत्ति होती है। कब्ज के कारण भी रक्त दूषित होने पर अधिक मुँहासे निकलते हैं।

लड़कियों में ऋतुस्राव की रूकावट और ऋतुस्राव की अन्य विकृतियों के कारण चेहरे पर निकल आते है। मुंहासों को नाखूनों से छीलने पर चेहरे पर मुंहासों के निशान बन जाते हैं। मुँहासे वर्ष में कई बार निकल सकते हैं। ये लंबे समय तक चेहरे पर बने रह सकते हैं। मुंहासों के इलाज में यदि देर की जाए और गलत खानपान की आदत से अधिक मुँहासे निकलते हैं। कील-मुंहासों के घरेलू उपचार से पहले यदि आपको कब्ज है तो सबसे पहले उसको ठीक करना चाहिए । पेट साफ़ रहने से मुंहासों का निकलना कम हो जाता है।

कृपया याद रखें ये घरेलू नुस्खे केवल सामान्य शुरुवाती मुहांसों के उपचार के लिए है, यदि आपके चेहरे पर ज्यादा लम्बे समय से और बहुत बड़ी मात्रा में मुहांसे है तो इसका कारण रक्त की खराबी या हारमोंस का असंतुलन हो सकता है | ऐसी दशा में घरेलू नुस्खे ना आजमायें इसके बल्कि फ़ौरन किसी त्वचा रोग विशेषज्ञ से इलाज करवाये, नहीं तो त्वचा पर स्थाई दाग-धब्बे  तथा गड्ढे पड़ सकते है जो आपके सौन्दर्य को लंबे समय तक खराब करेंगे |

मुँहासे ठीक करने के लिए घरेलू नुस्खे

muhase ki ghrelu dawa ilaj karan जानिए मुँहासे क्यों होते है तथा मुँहासे ठीक के घरेलू आयुर्वेदिक उपाय

मुँहासे की समस्या से छुटकारा

  • संतरों के छिलके छाया में सुखाकर, पीसकर बारीक पाउडर बनाकर रखें। इस पाउडर में गुलाब पानी मिलाकर चेहरे पर मलने से मुँहासे ठीक होते हैं।
  • मुँहासे होने पर बोरिक पाउडर मिले हल्के गर्म पानी से दिन में कई बार मुंह धोएं। इससे मुंहासों की जलन ठीक होती है।
  • तुलसी के पत्ते और नींबू के रस को पीसकर चेहरे पर लगाने से मुँहासे ठीक होते हैं।
  • नारंगी के सूखे छिलकों को पानी के साथ पीसकर मुंहासों पर लेप करने से बहुत लाभ होता है।
  • पीली सरसों, सेमर के कांटे, मसूर की दाल, चिरौंजी और बादाम की गिरी सब बराबर मात्रा में लेकर पीसकर रात को थोड़े-से दूध में मिलाकर चेहरे पर लेप करने से मुँहासे ठीक होते हैं।
  • नीम की छाल को पानी के साथ पीसकर या पत्थर पर घिसकर लेप करने से मुँहासे प्राकृतिक रूप से ठीक होते हैं। चेहरे पर निशान भी नहीं रहते।
  • मुंहासों में पूय पड़ने पर दिन में कई बार चेहरे को पानी में डिटॉल मिलाकर धोने से मवाद के संक्रमण ठीक होता है तथा मुंहासों में जलन भी नहीं होती।
  • चंदन के तेल को साफ़ रुई से लगाने पर जीवाणुओं द्वारा विषक्रमण की संभावना ठीक होती है। मवाद के विषक्रमण को भी चंदन का तेल ठीक करता है।
  • तुलसी के पत्तों को पीसकर या उनका रस निकालकर मक्खन में मिलाकर चेहरे पर लेप करने से मुँहासे ठीक होते हैं।
  • काली मिर्च को गुलाब जल में पीसकर चेहरे पर लेप करने से मुँहासे ठीक होते है |
  • अजवायन को दही के साथ पीसकर चेहरे पर लेप करके लगाने और एक-दो घंटे बाद हल्के गर्म पानी से धोने से कुछ दिनों में मुँहासे ठीक हो जाते है |
  • नींबू का रस, गुलाब जल, भुना हुआ सुहागा और ग्लिसरीन को मिलाकर चेहरे पर लगाने से मुँहासे ठीक होते है और चेहरे का सौंदर्य विकसित होता है।
  • मसूर की दाल पीसकर हल्दी के साथ नींबू के रस में मिलाकर चेहरे पर लेप करने से मुँहासे ठीक होते हैं।
  • मसूर की दाल को रात को पानी में डालकर रखें। सुबह दाल के छिलके अलग करके उसी पानी में दाल को पीसकर कर्पूर चेहरे पर लगाने से मुँहासे ठीक होते है |
  • मसूर की दाल को रात को पानी में डालकर रखें। सुबह दाल के छिलके अलग करके उसी पानी में दाल को पीसकर कपूर मिलाकर चेहरे पर लगाने से मुँहासे ठीक होते हैं।
  • हरी मटर, मसूर की दाल, सरसों, संतरे के छिलके पीसकर चेहरे पर लेप करने से मुँहासे जल्दी ही ठीक होते हैं।
  • गिलोय के रस में नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर मलने से मुंहासों से छुटकारा मिलता है |
  • नींबू के रस में कलौंजी के पाउडर को पीसकर चेहरे पर लेप करने से मुंहासों की समस्या से छुटकारा मिलता है |
  • मेथी के पत्तों को पीसकर चेहरे पर लेप करके कुछ देर सूखने दें। ऐसा कुछ दिनों तक करने से मुँहासे ठीक हो जाते हैं। इससे त्वचा का सूखापन भी ठीक होता है।
  • काली तुलसी के पाउडर को हल्दी के पाउडर में मिलाकर उबटन बना लें। उस उबटन को नहाने से पहले अपने चेहरे पर मलें। इससे चेहरे के मुँहासे ठीक हो जाएंगे।
  • जायफल दूध में घिसकर रात में सोने से पहले चेहरे पर लगायें । सवेरे गरम पानी से धो डाले। कुछ ही दिनों में मुहाँसे ठीक होकर चेहरा साफ हो जाएगा। यह भी पढ़ें – नींबू से कील-मुंहासे हटाने के 10 बेहतरीन उपाय
  • नीम के पत्तों एवं छाल का रस रोजाना चेहरे पर रात को लगाया जाए तो एक महीने में मुहाँसे दूर हो जाते हैं।
  • उड़द एवं मसूर की छिलका रहित दाल को दूध में सुबह भिगो दें। शाम में बारीक से बारीक पीसकर नींबू रस और शहद की कुछ बूंदें डाल कर अच्छी तरह मिलाकर चेहरे पर लगाने योग्य लेप (Paste) तैयार करें। रोजाना रात को लेप करें सुबह गरम पानी से धो लिया करें। ऐसा कुछ दिनों तक करने से मुहाँसे के दाग तक मिट जाएंगे।
  • पपीते का दूध मुहाँसे में लगाने से मुँहासे ठीक होते हैं। प्रतिदिन रात को चेहरे पर लगाकर सवेरे धो लें।

मुँहासे ठीक करने के लिए आयुर्वेदिक उपाय

  • कुष्ठ, वटांकुर, लोध, मंजीठ, मसूर की दाल, हल्दी और लाल चंदन सभी चीजें बराबर मात्रा में लेकर पीसकर रात को गाय के दूध में पीसकर चेहरे पर लेप करके सो जाएं तथा सुबह उठकर हल्के गर्म पानी से चेहरा धोने से कुछ ही दिनों में मुँहासे ठीक होते हैं।
  • अर्जुन की छाल, मंजीठ और वासा की छाल को पीसकर शहद में मिलाकर लेप करने से मुँहासे ठीक होते हैं।
  • अमलतास की छाल, अनार की छाल, लोध्र, हल्दी और नागरमोथा को बारीक पीसकर पानी में मिलाकर चेहरे पर लेप करने से कुछ ही दिनों में मुहांसों से छुटकारा मिलता हैं।
  • कुलिंजन से सिद्ध तेल मुहाँसे में लगाने से लाभ होता है।
  • उन्नाव का शर्बत 20 से 40 ग्राम पानी में मिलाकर रोजाना 2 से 3 बार सेवन करने से मुहाँसे में लाभ होता है।

मुँहासे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए कब्ज को इन उपायों से ठीक करें  

  • अधिक कब्ज रहने से मुंहासों की उत्पत्ति होने पर, प्रतिदिन रात में 6-7 मुनक्का को पानी में डालकर रखना चाहिए। सुबह मुनक्का के बीज निकालकर खाने से कब्ज ठीक होने पर कील मुंहासे निकलने की तेजी भी कम होती है |
  • रात को सोते समय गुलाब के फूलों से बना गुलकंद दूध के साथ सेवन करने से कब्ज ठीक होने से मुंहासों का प्रकोप कम होता है।
  • त्रिफला के पाउडर को रात में सोने से पहले दूध या गर्म पानी से सेवन करने पर कब्ज ठीक होने से मुंहासों की तीव्रता कम होती है।

केवल ऊपरी उपचार की सहायता से मुहांसों की समस्या से पूरी तरह नहीं निपटा जा सकता इसके लिए अपनी खुराक यानि भोजन का विशेष रूप से ध्यान रखें  | मूली का सेवन करें | गाजर, मौसमी का जूस तथा हरी पत्तेदार सब्जियां खाएं | खासकर फरवरी-मार्च में तो नीम की कोपले जरुर खाएं |

अन्य सम्बंधित पोस्ट 

Leave a Reply