पुदीने के लाभ: पुदीना के बारे में जानना है तो पढ़ें यह पोस्ट

पुदीने के लाभ – पुदीने की तेज महक और स्वाद से भला कौन परिचित नहीं होगा। हरे पत्तों वाले पुदीने का इस्तेमाल सब्जियों में मसालों के रूप में अधिक किया जाता है। हरे धनिए और पुदीने की चटनी बनाकर भी खाई जाता है। पुदीने में गुणकारी रासायनिक तत्वों का पर्याप्त मात्रा में समावेश होने के कारण इसके रस का सेवन करने से कई रोगों से मुक्ति मिलती है।

चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार पुदीना स्वादिष्ट, पाचन करने वाला, ठंडी तासीर का तथा पेट को साफ़  करने वाला और भूख को बढ़ाने वाला होता है। पुदीने के सेवन से हृदय को बहुत लाभ होता है। आंत्रशोध (पेचिस) में भी पुदीने का रस बहुत लाभ पहुंचाता है।

बदहजमी, जी मिचलाना, पेचिश और हैजे में पुदीना औषधि के रूप में लाभकारी है। पुदीने के सेवन से कफ से होने वाली परेशानियाँ भी दूर होती हैं। पुदीने का रस, प्याज का रस और निम्बू का रस मिलाकर पीने से हैजे की बीमारी में खास लाभ मिलता है। पुदीने की जड़ को जमीन में बोकर पुदीने की उत्पति की जाती है। पुदीना किसी भी मौसम में उगाया जा सकता है। आप घरों के बाहर लॉन में बड़े गमलों में पुदीने को उगा सकते हैं। पुदीने के पत्तो से भीनी-भीनी सुगंध आती है। बरसात के मौसम के अंत में पुदीना उगाने से गर्मियों में अधिक गुणकारी पुदीना मिलता है। अगर आपको पुदीने के औषधीय गुण और पुदीना के बारे में जानना है तो आपको इसे नीचे बताये हुए नुस्खो के अनुसार इसका प्रयोग करें तो आप पाएंगे की कैसे एक मामूली से दिखने वाली सब्जी चुटकियो में छोटी मोटी बीमारियों को दूर भगाती है |

पुदीने के लाभ और गुणकारी औषधीय गुण :

Mint pudina ke fayde in hindi पुदीने के लाभ और पुदीना के बारे में जानना है तो पढ़ें यह पोस्ट

पुदीने के लाभ

  • पुदीने की चटनी भोजन की अरुचि को खत्म करके भूख को बढ़ाती है। चटनी के सेवन से पेट जलन की बीमारी दूर होती है। चटनी बनाने के लिए – पुदीना, जीरा, हिंग, कालीमिर्च, नमक डालकर चटनी की तरह पीसें। मात्रा भी जैसे चटनी में लेते हैं, उतनी ही लें। इस चटनी को एक चम्मच मी मात्रा में एक गिलास पानी में उबालकर पी जायें। इससे बदहजमी और पेट दर्द से राहत मिलेगी |
  • सिरदर्द, जुकाम में पुदीने के पत्तों को सूंघने से लाभ होता है।
  • जुकाम, न्यूमोनिया होने पर पुदीने के रस की तीन बूंदें नाक के दोनों नथुनों में डालें तथा पुदीने व अदरक के रस की 1-1 चम्मच, एक चम्मच शहद में मिलाकर हर रोज दो बार लम्बे समय तक पीने से लाभ होता है।
  • गैस- पुदीने का रस दो चम्मच, शहद एक चम्मच और एक चम्मच पानी मिलाकर पीने से लाभ होता है।
  • दो चम्मच पुदीने के रस में जरा-सा काला नमक मिलाकर पीने से भी गैस में लाभ होता है।
  • पुदीने के पत्ते चाय की तरह उबालकर, छानकर एक कप पानी में स्वादानुसार चीनी मिलाकर गर्म-गर्म रोजाना तीन बार पियें। इससे बुखार उतर जायेगा।
  • अगर पेट में कीड़े हैं तो -30 ग्राम पुदीना और दस कालीमिर्च पीसकर एक गिलास पानी में घोलकर पीने से पेट में कृमि मरकर निकल जाते हैं।
  • पेशाब खुलकर नहीं आता हो तो पुदीना और मिश्री पीसकर एक गिलास ठण्डे पानी में मिलाकर पिये।
  • Benefits of pudina for face -अगर चेहरे पर मुँहासे हो तो, हरा पुदीना पीसकर इसमें 5 बूंद नीबू का रस मिलाकर मुँहासों पर लेप करें। दस मिनट आँखें बन्द रखें। आधे घण्टे बाद ऑंखें बन्द करके चेहरा धोयें। कुछ सप्ताह प्रयोग करने से मुँहासे मिट जायेंगे। लेकिन यह भी याद रखें की पुदीने का रस आँखों में नहीं जाये।
  • पुदीने के रस को मुलतानी मिट्टी में मिलाकर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की झाइयां नष्ट होती हैं और सुंदरता विकसित होती है।
  • झाइयां दूर करने के घरेलू उपाय  |
  • छाती में कफ जमा हो, तो दो चम्मच पुदीने का रस एक कप गर्म पानी में मिलाकर रोजाना तीन बार पिलाने से कफ बाहर निकल जाता है।
  • अगर आपके मुंह से बदबू आती है तो पुदीने की कुछ पत्त‍ियों को चबा लें | तथा निय‍म से इसके पानी से कुल्ल करने पर भी बदबू चली जाएगी |
  • पेट के छोटे मोटे रोगों में -हरा पुदीना पीसकर रस निकाल लें। पुदीने का रस दो चम्मच, दो चम्मच शहद, आधा नीबू निचोड़ लें। उसमें एक कप पानी मिलाकर, घोलकर पियें। पेट की गैस की रामबाण दवा तथा अचूक आयुर्वेदिक इलाज
  • पुदीने, प्याज और नीबू का रस 10–10 ग्राम मिलाकर थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पिलाने से हैजे के रोग में बहुत लाभ होता है।
  • शरीर के किसी भाग में दाद होने पर पुदीने का रस लगाने से बहुत लाभ होता है। दिन में दो-तीन बार रस अवश्य लगाएं।
  • पुदीने का रस 5 ग्राम और अदरक का रस 5 ग्राम मिलाकर, थोड़ा-सा सेंधा नमक डालकर सेवन करने से पेट का दर्द ठीक हो जाता है।
  • पुदीने और अदरक को पानी में उबालकर क्वाथ बनाकर, छानकर दिन में दो बार पीने से जुकाम ठीक हो जाता हैं |
  • हरा धनिया, पुदीना, काली मिर्च, अंगूर या अनार की चटनी बनाकर नीबू का रस मिलाकर सेवन करने से भूख ज्यादा लगती है।
  • चेहरे की त्वचा अधिक तैलीय होने पर प्रतिदिन पुदीने का रस रुई के साथ चेहरे पर लगाने से लाभ होता है। त्वचा का तैलीयपन कम होता है और चेहरे का सौंदर्य विकसित होता है। दही से सवारें त्वचा और बालों को 22 टिप्स |
  • घर के चारों ओर पुदीने के तेल का छिड़काव कर दिया जाए, तो मक्खी-मच्छर आदि भाग जाते हैं।

पुदीने को सुखा कर इस्तमाल करें साल भर :

  • पुदीने की हरी पत्तियों को पेपर में लपेटकर फ्रिज में कुछ दिन के लिए रखें। जब यह पूरी तरह सूख जाए, तो अलग डिब्बे में रख पैक करें। जब चाहे सूखा पुदीना इस्तेमाल चटनी या सब्जियों को गार्निश करने के लिए कर सकते हैं।

पुदीने की चाय भी हैं गुणकारी :

पुदीने की चाय के और फ़ायदे तलाशने के लिए दुनियाभर में रिसर्च किए जा रहे हैं, कई अध्ययनों से यह भी पता चला है कि यह पेट की गैस जैसे रोगों के लिए रामबाण औषधि है, जिससे पेट साफ़ रहता है | जो लोग अपने आहार में पुदीने की चाय को नियमित रूप से शामिल करते हैं उनके शरीर कई रोगों से दूर रहता है जब तनाव से शरीर में कोलेस्ट्रोल का स्तर बढ़ने लगता है, तब फैट बढ़ने से वजन भी बढ़ने लगता है | वजन कम करने की कोशिश में मेटाबॉलिज़्म पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है | पुदीने की चाय की खुशबूदार चुस्की मन को शांत करके तनाव को दूर कर देती है, जिससे वज़न भी कम करने में सहायता मिलती है | इस तरह से हमने देखा कि पुदीने की चाय में अहम् किरदार निभा सकती है| पुदीने की चाय शरीर के शुगर लेवल को संतुलित रखने में भी मदद करती है | वैसे तो पुदीने की चाय बनाने की कई विधियाँ हैं जो हम अगले पोस्ट में आपसे जरुर साझा करेंगे | फ़िलहाल पुदीने की चाय की एक प्रचलित विधि नीचे दी गई है | पढ़ें यह पोस्ट –वजन कम करने के 20 घरेलू उपाय तथा नुस्खे |

तो आइये जानते हैं पुदीने की चाय बनाने की विधि :

अदरक और पुदीने के चाय :

चार से पांच लोगो के लिए :-

  • एक लिटर पानी
  • एक चम्मच चाय की पत्ती
  • 4-5 बर्फ़ के टुकड़े
  • 5-6 पुदीने के हरे पत्ते
  • एक चम्मच मोटा पिसा हुआ अदरक
  • चीनी ­- स्वादानुसार

विधि :

  • एक पैन में 2 कप पानी (400 मिली) डालकर उबालें।
  • आंच बंद करके उसमें चाय की पत्ती, अदरक, पुदीने के पत्ते और चीनी मिलाएं इसे 4-5 मिनट रहने दें फिर छानकर ठंडा करें।
  • बचे हुए पानी को चाय के पानी में मिलाकर कुछ देर के लिए फ़िज में रखें।
  • सर्व करते समय ग्लास में बर्फ़ के टुकड़े डाले फिर चाय का पानी डाले।
  • पुदीने के पत्तों से सजाकर सर्व करें।

अन्य सम्बंधित पोस्ट 

Leave a Reply

Ad Blocker Detected

आपका ad-blocker ऑन है। कृपया हमे विज्ञापन दिखाने की अनुमति दें। पूरा कंटेंट पढ़ने के लिए अपना ऐड-ब्लॉकर www.healthbeautytips.co.in के लिए अनब्‍लॉक कर दें। धन्यवाद Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please check your Anti Virus settings /Browser settings to turn on The Pop ups.

Refresh