चेहरे के दाग धब्बे हटाने तथा त्वचा खूबसूरत बनाने के लिए आसान घरेलू नुस्खे

चेहरे के दाग चाहे जैसे भी हों, सौंदर्य पर एक धब्बे की तरह ही होते है। इसलिए सभी इनसे पीछा छुड़ाने की कोशिश में लगे रहते है| चेहरे पर दाग कई प्रकार के होते हैं, जैसे कि आँखों के नीचे काले गड्ढे होना, ब्लैक हेड्स, तिल, सफेद दाग और चेचक के दाग। आँखों के नीचे काले गड्ढे हों, तो महिलाएँ अपनी वास्तविक आयु से काफी बड़ी दिखती हैं। आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी और तनाव का सबसे अधिक खराब प्रभाव चेहरे की त्वचा व आँखों पर होता है। आँखें दिनों-दिन गड्ढों में उतरती चली जाती हैं गड्ढों की त्वचा काली पड़ती जाती है और साथ ही इनमें झुर्रियाँ भी दिखने लगती हैं। अब सवाल उठता है, चेहरे के दाग , काले धब्बे व झुर्रियाँ सबसे पहले आँखों के आस-पास ही क्यों होते हैं ? आँखों के आस-पास की त्वचा अत्यन्त नाजुक होती है और इसमें वसा के सूक्ष्म कणों की चादर-सी बनी होती है। यदि त्वचा के अन्दर सूक्ष्म कण स्वस्थ रहें, तो आँखों के आस-पास काले गड्ढे नहीं होते। काले गड्ढे कुछ हद तक छिपाये जा सकते हैं, लेकिन इसके स्थायी उपचार के लिए जरूरी है कि मनोवैज्ञानिक कारणों पर नियन्त्रण रखें, तनाव-ग्रस्त स्थिति से बचें, विटामिन ‘सी’ का सेवन जरुर करें |

चेहरे के दाग से बचाने के लिए इन बातों रखे ख्याल  

चेहरे के दाग कैसे हटाए chehre ke daag dhabbe hatane nuskhe

चेहरे के दाग कैसे हटाए

  • नींबू, सन्तरा और हरी सब्जियाँ विटामिन ‘सी’ के विशाल भण्डार हैं, जो शरीर के अन्दर रक्तवाहिनियों को साफ कर, त्वचा की कान्ति बनाये रखते हैं।
  • श्रृंगार उतना ही करना चाहिए, जिससे चेहरा स्वाभाविक लगे। रात को सोने से पहले चेहरे का मेकअप अच्छी तरह साफ करना चाहिए अन्यथ त्वचा के छेद बन्द हो जाने से आन्तरिक-स्राव की प्रक्रिया रुक जाती है। रुकावट के कारण शरीर की गन्दगी अन्दर ही अन्दर त्वचा को अनाकर्षक बना देती है।
  • आँखों के आस-पास के काले गड्ढों से बचने के लिए आँखों के आस-पास की त्वचा को न रगड़ें, इससे त्वचा सिकुड़ जाने का डर रहता है। बायें हाथ की तीसरी ऊँगली से धीरे-धीरे थपथपा कर आँखों की मालिश कीजिए |
  • आँखों में गुलाब जल और खीरे का रस मिलाकर डालने से आँखों के आस-पास की त्वचा कसी हुई रहती है।
  • आँखों के नीचे झुर्रियाँ व धब्बे पड़ने लगें, तो एण्टी रिंकल क्रीम या हारमोन क्रीम इस्तेमाल की जा सकती है।
  • इसके लिए एक घरेलू उपचार इस प्रकार है :-
  • चाय का पानी उबाल कर छान लें और गरम कहवे से आँखों के नीचे की त्वचा को सेंकिए।
  • रात को सोते समय बादाम रोगन से त्वचा की हल्की मालिश करने से विशेष लाभ होता है। मालिश हमेशा अन्दर से बाहर कनपटियों की ओर करनी चाहिए।
  • त्वचा पर से झाइयाँ साफ करने के लिए एक अन्य घरेलू उपचार इस तरह है :-
  • रूमाल में जौ का आटा और चन्दन का चूरा बाँध कर कच्चे दूध या गुलाब जल में भिगो कर त्वचा पर रगड़ना चाहिए।

चेचक से बने चेहरे के दाग के लिए उपाय

  • स्त्रियों के चेहरे पर चेचक के दागों का होना अभिशाप समझा जाता है। इन स्थायी दागों को श्रृंगार द्वारा घटाया अथवा छिपाया जा सकता है। चेचक के दाग दो विधियों से ठीक हो सकते है -सैण्ड पेपर सर्जरी द्वारा अथवा स्किन पीलिंग द्वारा।
  • सैण्ड पेपर सर्जरी द्वारा आमतौर पर विदेशों में उपचार किया जाता है। यह उपचार अत्यन्त महंगा होने के कारण हमारे देश में इसका विशेष प्रचलन नहीं है।
  • चेहरे की त्वचा पर छोटे-छोटे अनेक आपरेशन होने के कारण रोगी को काफी तकलीफ सहनी पड़ती है। यह उपचार हमेशा किसी योग्य सर्जन से ही करवाना चाहिए।
  • स्किन पीलिंग विधि द्वारा उपचार करने के लिए रोगी के चेहरे पर अनेक प्रकार के लेप लगाये जाते हैं। हर लेप लगाने के बाद त्वचा पर से एक परत उतर जाती है, अत: हर परत के उतरने के बाद दाग की गहराई कम होने लगती है। इस क्रिया को कई बार दोहराने के बाद त्वचा बेदाग हो जाती है।
  • बचपन से किशोरावस्था के दौरान उम्र और शरीर के विकास के समय चेचक के दाग कम होने लगते हैं।
  • फेशियल क्रिया द्वारा भी यह दाग हल्के किये जा सकते हैं। बाजार में उपलब्ध लैनोलीन क्रीम लगाने से भी चेचक के दाग फीके होने लगते हैं।
  • इस प्रकार के चेहरे के दाग को सोयाबीन के लेप से भरा जा सकता है। सप्ताह में तीन बार सोयाबीन का लेप चेहरे पर लगाकर लगभग पन्द्रह बीस मिनट तक सूखने दें, फिर गुनगुने जल से चेहरा धो डालें।

चेहरे के दाग (सफेद)

  • शरीर पर जहाँ-तहाँ सफेद दाग होना वास्तव में त्वचा का एक क्रियाशील विकार है। देशी इलाज में सफेद धब्बों को सफेद कुष्ठ और डाक्टरी भाषा में ल्यूकोडर्मा कहते हैं। यह कोई छूत का रोग नहीं है।
  • आयुर्वेद में बावची के तेल से मालिश करने का परामर्श दिया जाता है और नियमित मालिश से कई बार दागदार त्वचा धीरे- धीरे सामान्य त्वचा का रूप ले लेती है। प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा भी सफेद धब्बों का उपचार सम्भव है, लेकिन भारत में यह चिकित्सा अत्यन्त महँगी है।
  • श्रृंगार द्वारा यह दाग थोड़ी देर के लिए छिपाये जा सकते हैं। त्वचा अच्छी तरह साफ करके पहले फाउण्डेशन लगाये, परन्तु फाउण्डेशन का रंग त्वच के रंग से थोड़ा गहरा होना चाहिए। अब फेस-पाउडर लगा कर इच्छानुसार रूज द्वारा मेकअप करें। रात को सोने से पहले श्रृंगार पूर्णतया साफ कर कैलामाइन लोशन लगाने से विशेष लाभ होता है। धब्बे और शेष सामान्य त्वचा के जुड़े हुए भाग पर कैलामाइन लोशन द्वारा मालिश करनी चाहिए।

सन बर्न के दाग

  • सूर्य की किरणें जहाँ त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी होती हैं, सन-बर्न त्वचा के लिए बहुत घातक होता है। सूरज की अल्ट्रा वायलेट किरणें त्वचा को विटामिन ‘डी’ प्रदान करती हैं, जो शारीरिक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं, लेकिन अकेली अल्ट्र वायलेट किरणें त्वचा पर अधिक पड़ जाने से त्वच झुलस जाती है। त्वचा के नीचे गहरे मैलानिन त्वचा को झुलसने से बचाते हैं। इसीलिए साँवली या काली त्वचा पर सन-बर्न बहुत कम होता है।
  • सफेद रंग की त्वचा पर सूर्य-किरणें जल्दी ही खराब प्रभाव डालती हैं।
  • अल्ट्रा वायलेट किरणें त्वचा पर पड़ने से मैलानिन नष्ट हो जाते हैं और त्वचा काली पड़ जाती है। बारीक किरणें त्वचा में प्रवेश कर उसे जला देती हैं, जिससे त्वचा सूख भी जाती है और उस पर दाने निकल आते हैं। फिर नये काले मैलानिन तत्व ऊपर आने लगते हैं और चेहरे के दाग हो जाते है।
  • सन बर्न के कारण यदि चेहरे के दाग हुए हो, तो ठण्डे पानी से नहाने से लाभ होता है, लेकिन साबुन का प्रयोग न करें। फव्वारे के नीचे नहाने से विशेष लाभ होता है। सुख पड़ी त्वचा पर गोले का तेल, कोल्ड–क्रीम, एण्टी सैप्टिक क्रीम लगा लें। लैक्टो कैलोमाइन से भी लाभ होता है।
  • यदि सन बर्न मामूली है, तो ठण्डे पानी से धोकर कोई भी क्रीम या एण्टी सेप्टिक क्रीम लगा लें। सन बर्न होने पर ध्यान रखें कि जब तक त्वचा सामान्य न हो जाये, उस स्थान पर धूप न पड़ने दें। यदि त्वचा पर दाने उभर आये हों, तो किसी त्वचा विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए।
  • यदि आपकी त्वचा सूखी है तो चेहरे के दाग धब्बे दूर करने के लिए चन्दन की लकड़ी दूध में घिसकर और तैलीय त्वचा होने पर चन्दन को गुलाब जल में घिसकर लगाएँ। घंटे भर बाद नहा ले या चेहरा ठंडे पानी से धो डालें। यह प्रयोग गर्मियों में करें। कुछ ही दिनों में चेहरे के दाग दूर हो जाते है। विशेष-चोट के निशान अथवा जल जाने के बाद चेहरे पर पड़ गए काले दागों को मिटाने के लिए चन्दन पानी में घिसकर रोज दाग के ऊपर लगाने से जरुर लाभ होता है।
  • रोजाना एक पके टमाटर के गूदे में नींबू के रस की कुछ बूंदें डालकर सुबह शाम चेहरे पर मलें। कुछ देर बाद पानी से धो डालें। ऐसा करते रहने से कुछ ही दिनों में त्वचा दाग तथा चेहरे के दाग दूर हो जाते है |
  • चेहरे के दाग धब्बों, कीलों और झुर्रियों पर रात को नींबू का रस लगाए या नींबू लेकर मलें। सारी रात लगा रहने दें और सुबह चेहरा धोएँ। लगातार एक-दो सप्ताह के प्रयोग से चेहरे के दाग-धब्बे, कीलें व झुर्रियाँ दूर होती है और सख्त, खुरदरी, मोटी त्वचा मुलायम होती है।
  • यदि लीवर की खराबी से चेहरे के दाग धब्बे उभरे हों तो इस प्रयोग के साथ एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर दिन में दो-तीन बार आवश्यकतानुसार दस-पन्द्रह दिन पीएँ।
  • नींबू का रस और तुलसी की पत्तियों का रस बराबर मात्रा में मिलाकर किसी काँच की शीशी में रख लें। इस मिश्रण को दिन में दो बार रूई से मुंह पर मलें। कुछ ही दिनों के प्रयोग से मुख की झाँइया दूर हो जाएगी।
  • चेहरे के दाग या झाँइया हो तो सूखी हल्दी की गाँठ को नींबू के रस में घिसकर दागों पर लगाते रहने से वे धीरे-धीरे मिट जाते हैं।
  • 1 चम्मच-भर बेसन को लेकर 2 चम्मच गुनगुने अथवा कच्चे दूध में भली प्रकार मिलाकर घोल बना लें। फिर साबुन लगाकर मुंह धोने के स्थान पर इस घोल को हल्के हाथों से चेहरे पर अच्छी तरह लगाकर 15-20 मिनट तक लगा रहने दें। उसके बाद साधारण अथवा गुनगुने जल से मुंह को धो डालें। यह प्रयोग सप्ताह में 2-3 बार निरंतर कुछ सप्ताह तक करने से चेहरे की रंगत निखरती है और साथ ही चेहरे के दाग, धब्बों से भी सुरक्षा होती है तथा चेहरा मुलायम व आकर्षक बनता है। विशेष : सर्दियों में हाथ खुरदरे होने पर साबुन के स्थान पर यह उबटन को हाथों पर मलने से हाथों की सुंदरता और कोमलता बनी रहती है। नोट : यदि उपरोक्त उबटन (बेसन और दूध के घोल) में 1 चुटकी भर बारीक पिसी हुई हल्दी और समान मात्रा में बारीक पिसा हुआ चन्दन मिला दिया जाए तो चेहरा और भी आकर्षक बन जाता है
  • चेहरे के दाग अथवा चेहरे पर चोट के निशान या जल जाने के बाद चेहरे पर पड़ गए काले दागों को मिटाने हेतु चंदन पानी में घिसकर प्रतिदिन दागों के ऊपर लगाने से जरुर फायदा होगा ।
  • चेहरे के दाग, धब्बों, कील, मुहांसों व झुर्रियों के कष्ट में रात्रि के समय नीबू का रस लगाएं अथवा नीबू काटकर मालिश करें और इसका रस सारी रात लगा रहने दें तथा प्रात: समय मुंह को धो डालें। यह प्रयोग निरंतर 1–2 सप्ताह तक करने से चेहरे के दाग, धब्बे, कीलें और झुर्रियां दूर होकर चेहरे की सख्त, खुरदरी और मोटी त्वचा मुलायम हो जाती है।
  • नीबू का रस और तुलसी की पत्तियों का रस समान मात्रा में लेकर और भली प्रकार मिलाकर किसी साफ-स्वच्छ कांच की शीशी में सुरक्षित रख लें। इस मिश्रण को दिन में 2 बार साफ-स्वच्छ रुई से मुंह पर निरंतर कुछ दिनों तक मलने से झाइयां व चेहरे के दाग धब्बे दूर हो जाते हैं।
  • संतरे के छिलकों को छाया में सुखाकर बनाया गया बारीक चूर्ण और बेसन समान मात्रा में लेकर अथवा बेसन के अभाव में बारीक पिसी हुई मुल्तानी मिट्टी दोगुनी मात्रा में लेकर और भली प्रकार मिलाकर मिश्रण बना लें। इस मिश्रण को 15 मिनट तक पानी में भिगोने के बाद गाढ़ा-गाढ़ा घोल बना लें और इसका मुहांसों पर लेप करें तथा इस लेप को 10 मिनट तक लगे रहने के बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो डालें। इस प्रकार निरंतर 4-6 सप्ताह इसका प्रयोग करने से चेहरे के दाग ठीक होते है
  • पके हुए पपीते का एक टुकड़ा काटकर चेहरे पर रगड़ने या घिसने से अथवा गूदा मसलकर चेहरे पर लगाने के कुछ देर बाद स्नान करने से (मात्र कुछ दिनों के निरंतर इस प्रयोग से) चेहरे की झुर्रियां दूर होती हैं, धब्बे, झाइयां, चेहरे के दाग ठीक हो जाते है तथा मुहांसे दूर होकर चेहरे की रंगत व सौंदर्य में निखार आता है।

अन्य सम्बंधित पोस्ट 

Leave a Reply