सब्जियां Archive

जौ के औषधीय गुण तथा स्वास्थ्य वर्धक लाभ

भारत में जौ (Barley) की खेती का इतिहास बहुत पुराना है वैदिक लोगो के लिए जौ की खेती ही मुख्य थी | हाल ही में वैज्ञानिकों ने 6000 वर्ष पुराने जौ के दानों के जीन्स का अनुक्रमण करने में सफलता प्राप्त की, इसका अर्थ यह है की जौ की खेती का इतिहास 6000 से 7000 साल पुराना है जो

गाजर के नुस्खे – एसिडिटी, अफारा और बदहजमी दूर करने के लिए

पेट के रोगों को ठीक करने के लिए गाजर के नुस्खे – गाजर एक गुणकारी वनस्पति है इसके कुछ औषधीय गुणों को हमने अपने पिछले पोस्ट में बताया था क्योंकि एक ही आर्टिकल में इसके सभी गुणों को बताना बहुत कठिन है इसलिए हम अलग-अलग पोस्ट में गाजर के औषधीय उपयोग तथा इसके नुस्खो को

मेथी के फायदे और 30 गुणकारी औषधीय उपयोग

मेथी (Fenugreek Seeds) लेटिन में (Trigonella Foenum-Graecum) – मेथी के हरे-हरे पत्ते और मेथी दाना दोनों ही बहुत गुणकारी और पौष्टिक होते है | मेथी दाना और मेथी के हरे पत्तों के गुण समान है। इनमें से कोई भी प्रयोग कर सकते हैं। मेथीदाना पोषक एवं प्रभावकारी होने के कारण, इसके औषधीय गुणों को एक

नींबू पानी पीने के फायदे और 4 टॉनिक बनाने की विधि

नींबू पानी या नींबू शरीर के स्वस्थ विकास के लिये बहुत आवश्यक तत्व है। नींबू में मौजूद विटामिन सी दूसरे कई विटामिनों के साथ मिलकर शरीर को स्वस्थ रखने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके साथ ही त्वचा को स्वस्थ रखने में तथा शरीर को विपरीत परिस्थितियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करने में

नींबू के फायदे और गुण तथा 50 घरेलू नुस्खे

नींबू के औषधीय गुणों का फायदा हर मौसम में उठाया जा सकता है। यह बदलते मौसम के अनुरूप अपने गुणों को समायोजित कर मौसम से जुडी मोटी बीमारियों और दोषों से बचाता है। नींबू का मुख्य कार्य शरीर के खराब तत्वों को नष्ट कर उन्हें बाहर निकालना है। यह मुँह के स्वाद को ठीक करके

मूली के फायदे और 35 औषधीय गुण

मूली के फायदे (Radish health benefits) – सलाद और सब्जी के रूप में मूली का उपयोग सभी जगह खूब होता है। मूली जमीन के भीतर कंद के रूप में उत्पन्न होती है। जमीन के ऊपर मूली के हरे-हरे पत्ते दिखाई देते हैं। मूली में प्रोटीन, कैल्शियम, आयोडीन और आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

करेले के जूस के 21 फायदे तथा जूस बनाने की विधि

करेले के जूस और करेले (Bitter Gourd ) के औषधिय गुणों को भारतीय होम्योपैथिक में भी सराहा गया है इसीलिए “Momordica charantia” होम्योपैथिक औषधि का मूल तत्व करेला ही है। हरा करेला पके हुए सफेद पीले रंग के करेले की अपेक्षा ज्यादा लाभदायक है इसलिए हमेशा हरे रंग के करेले का ही उपयोग करना चाहिए

लौकी जूस के बेहतरीन 29 औषधीय गुण

लौकी का रस या (Lauki Juice) के बेहतरीन औषधीय गुणों का जानने से पहले हम एक नजर लौकी के परिचय पर डालते है |  लौकी– “Cucurbitaceae Family” से सम्बंधित पौधे का फल होता है। भारत में लौकी को घीया, कद्दू , दूदी,और दुधी भोपळा भी कहते हैं। इसका Botanical Name : “Lagenaria siceraria” है| और इसको