मधुमेह रोगियों के लिए एलोवेरा से बने 18 नुस्खे

Aloe vera benefits for Diabetes ( मधुमेह में ग्वारपाठे के लाभ )  – एलोवेरा तुलसी की तरह ही एक औषधीय पौधा है। सामान्य से दिखने वाले इस पौधे में कई औषधीय गुण होते है| Aloe vera यानि ग्वारपाठे की उपयोगिता आज बहुत बड़े स्तर पर दुनिया के सामने आयी है इसे रोगनाशक पौधा भी कहा जाता है | भारतीय चिकित्सा पद्धति यानि आयुर्वेद में प्राचीनकाल से ही ग्वारपाठे का उपयोग बहुत बड़े पैमाने पर किया जाता रहा है इसे धृतकुमारी , चित्राकुमारी आदि विभिन्न नामो से आयुर्वेदिक लेखो में सम्बोधित किया गया है | एलोवेरा पतले किनारे और कडवे स्वाद वाला कांटेदार पौधा होता है इसके अंदर का गूदा और लिसलिसा पदार्थ ही मुख्य औषधि होती है

यह मधुमेह (Diabetes) के रोगियों के लिए बहुत उपयोगी होता है क्योंकि इसमें एलोवेरा पेनक्रियास (Semi-Hormonal Glands) के फंक्शन में मदद करती है। यह पेनक्रियास में इंसुलिन का उत्सर्जन नियंत्रित करती है जिसके कारण मधुमेह (Diabetes) के मरीजों के लिये ग्वारपाठा एक वरदान का रूप होता है। एलोवेरा किडनी तथा लिवर को नुकसान नहीं पहुंचाता है । इसके सेवन से मधुमेह रोगियों की रक्त शर्करा के स्तर में सुधार होता है | मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति के घाव तथा दर्द को जल्द ठीक करने में मदद करता है।

मधुमेह रोगियों के लिए ग्वारपाठे के 18 औषधीय नुस्खे / Aloe Vera for diabetes / Aloe vera for diabetes how is it used.

Ref. (स्रोत) –डॉ गणेश चौहान (Homeopathy Doctor), डॉ पियूष त्रिवेदी (B.A.M.S., राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान जयपुर)

aloe vera benefits for diabetes /Aloe Vera for diabetes

Aloe Vera for diabetes

  • ताजे आंवले (Amla) का रस 4 चम्मच और ग्वारपाठे का गूदा 10 ग्राम खाली पेट लेने से मधुमेह की बीमारी में काफी आराम मिलता है। याद रखे औषधीय इस्तमाल के लिए हमेशा ताज़े एलोवेरा का ही उपयोग करे|
  • करेले का रस 2 चम्मच एवं एलोवेरा का गूदा 10 ग्राम मिलाकर सुबह-शाम भोजन से पहले लेने से मधुमेह में बढ़ी हुई शर्करा (शुगर) कम हो जाती है।
  • नीम की कोंपलें 10 पत्ते और एलोवेरा का गूदा 20 ग्राम सुबह-सुबह खाली पेट खाने से खून साफ होता है तथा शर्करा नियंत्रण में आ जाती है।
  • जामुन की गुठली 10 ग्राम, गुड़ 10 ग्राम और सोंठ 5 ग्राम। तीनों को बारीक चूर्ण के रूप में लें। इन्हें एलोवेरा के रस में अच्छी तरह मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बनाकर फिर इसकी चने के समान गोलियाँ बनाकर दिन में 3 बार 1-1 गोली खाएँ। इससे मूत्र में शूगर की मात्रा धीरे-धीरे कम होती जाती है।
  • एक कच्चा केला और ग्वारपाठा 10 ग्राम मिलाकर खाने से मधुमेह में लाभ होता है।
  • 10 जामुनों को पानी में धोकर एलोवेरा के गूदे में मिलाकर उबाल लें और इससे तैयार पानी को  खाना खाने से पहले आधा-आधा कप मधुमेह ग्रस्त रोगी को दें तो मधुमेह कम  हो जाता है।
  • मूंगफली का आटा एवं एलोवेरा का गूदा मिलाकर रोटी बना लें। 10-10 ग्राम की मात्रा में खाने से मधुमेह का ठीक हो जाता है।
  • सदाबहार पौधे की 4-5 पत्तियों के साथ-साथ 2-2 चम्मच एलोवेरा का सेवन करें तो मधुमेह रोग मिट जाता है। यह प्रयोग तीन माह तक करें।
  • गाय का कच्चा दूध और एलोवेरा का रस मिलाकर आधा-आधा कप पीने से मधुमेह रोग में लाभ होता है। डायबिटीज में क्या खाए और क्या नहीं-31 टिप्स
  • बेलपत्र के 4 पत्तों को पीसकर एलोवेरा के गूदे के साथ सेवन करने से मधुमेह में शीघ्र लाभ होता है।
  • Aloe Vera Benefits For Diabetes – गाजर का रस 20 मिली. पालक का रस 20 मिली. और एलोवेरा का रस 50 मिली., तीनों मिलाकर सप्ताह में 1 बार सेवन करें। पेशाब की अधिकता, बारबार पेशाब आना, मधुमेह के कारण पैदा हुई अन्य समस्याए दूर  होती  है|
  • Aloe Vera Benefits For Diabetes -जौ का भुना हुआ आटा, मेथी का पाउडर और ग्वारपाठे का रस तीनों समान मात्रा में मिलाकर 10-10 ग्राम खाने से तो मधुमेह 1 महीने में काफी कम हो जाता है ।
  • Aloe Vera Benefits For Diabetes -बबूल की गोंद का पानी और ग्वारपाठे का गूदा मिलाकर आधा-आधा कप रोगी को पिलाएँ तो मधुमेह की बीमारी ठीक हो जाता है।
  • लहसुन की 4-5 कलियाँ शुद्ध घी में भूनकर ग्वारपाठे के रस के साथ लेने से मधुमेह जड़ से चला जाता है।
  • अश्वगंधा, शतावरी दोनों समान मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर 1-1 चम्मच की मात्रा में 50 मिली. ग्वारपाठे के रस के साथ खाएँ, मधुमेह दूर हो जाएगा। क्या आप भी शुगर फ्री गोलियों का उपयोग करते है ? तो यह पोस्ट जरुर पढ़ें |
  • 5 इलायची लेकर इसके दाने निकाल लें फिर, 2 बादाम की गिरी, 10 मिली. गाय का मक्खन और 20 मिली. ग्वारपाठे का ताजा रस मिलाकर लेने से मधुमेह में होने वाली कमजोरी ठीक हो जाती है।
  • सफेद मूसली, कौच के बीज, गोखरू, शिलाजीत समान मात्रा में मिला लें। तैयार चूर्ण को 2 से 5 ग्राम की मात्रा में लेकर आधा-आधा कप ग्वारपाठे के रस के साथ सेवन करें तो मधुमेह रोगियों में आई निर्बलता दूर होकर मधुमेह मिट जाता है।
  • बथुए का उबला पानी, ग्वारपाठे के गूदे का रस समान मात्रा में लेकर भोजन से पहले आधा आधा कप पीने से मधुमेह से पैदा हुए विकार ठीक हो जाते हैं। यह भी पढ़ें – डायबिटीज से जुड़े 30 आम भ्रम और गलतफहमियां |

Ref. स्रोत –डॉ गणेश चौहान (Homeopathy Doctor), डॉ पियूष त्रिवेदी (B.A.M.S., राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान जयपुर)

अन्य सम्बंधित लेख 

 

सोशल मीडिया पर इस पोस्ट को शेयर करें

Email this to someonePin on PinterestShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on Facebook

Comments

  1. By Sunny Anzel

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *