जानिए मुनक्का और दूध तथा मुनक्का और शहद के फायदे

ड्राई फ्रूट्स की हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए उपयोगिता, एक छोटा सा परिचय – हमारा स्वास्थ्य हमारी रसोई में बनता-बिगड़ता है। स्वास्थ्य का सुधार भी रसोई में होता है। प्रत्येक रोग को ठीक करने में हमारा शरीर समर्थ है। मौसम के अनुसार खाये जाने वाले फल, सब्जियाँ, ड्राई फ्रूट्स व्यक्ति को स्वस्थ रखते हैं। इनमें पर्याप्त मात्रा में एन्टी ऑक्सीडेन्ट होते हैं जो शरीर की कोशिकाओं में पैदा होने वाले, शरीर को बीमार करने वाले ऑक्सीडेन्ट की सफाई करते हैं। मौसमी फलों, सब्जियाँ और मेवे खाने वालों को दवाइयों की जरुरत बहुत कम होती है। सुखी जीवन के लिए गहरी, भरपूर नींद स्वास्थ्य और अधिक बढ़ा देती है। कोई बीमारी होने पर सबसे अच्छी दवा है-“आराम और प्राकृतिक आहार” प्रकृति स्वयं शरीर को अच्छा करती है। आवश्यकता है कि हम प्राकृतिक जीवन जीयें। डिब्बा बन्द, फास्ट फूड, स्वाद के लिए तले, चटपटे पदार्थ नहीं खायें। प्रकृति ने जो खाद्य पदार्थ पैदा किये हैं, उनके गुणों को समझकर जिस पदार्थ की जरूरत हो, उसका सेवन करें। मुनक्का और अन्य ड्राई फ्रूट्स भी इसीलिए महत्त्वपूर्ण होते है |

पौष्टिक और शक्ति बढ़ाने वाले खाद्यों में ड्राई फ्रूट्स यानि सूखे मेवे बहुत लाभदायक हैं। सही ढंग और सही मात्रा में अपनी क्षमता के अनुसार मेवे खाने से शरीर तो स्वस्थ होता ही है, साथ ही अनेक रोगों से बचाव  भी हो जाता है। मेवों को भोजन का अंग समझ कर खायें। मेवे दूध से ज्यादा पौष्टिक होते हैं। मेवे खाना खाने के साथ भी खा सकते हैं। मेवे शरीर को ताकत देने के साथ-साथ रोगों को दूर करते हैं, दूध की कमी पूरी करते हैं। मेवे खाकर दूध का लाभ लिया जा सकता है। मेवों में प्रोटीन होता है, बादाम और मूंगफली में प्रोटीन अधिक होता है। मेवों में चिकनाई होती है। घी की कमी में मेवों का उपयोग कर घी का लाभ लिया जा सकता है। मेवों में विटामिन-बी, कैल्शियम और आयरन काफी मात्रा में होता है। मेवे कच्चे खाये जा सकते हैं। इसलिए कच्चे भोजन के गुण इनसे प्राप्त हो जाते हैं। मेवे पीसकर, चबाकर, किसी चीज में मिलाकर खाये जा सकते हैं। मेवे स्वादिष्ट होते हैं। इसलिए मेवों की माँग हमेशा बनी रहेगी। मेवे अपने आप में पूर्ण भोजन है। सर्दी के मौसम में पाचनशक्ति तेज रहती है इसलिए इस सीजन में ड्राई फ्रूट्स का सेवन जरुर करना चाहिए क्योंकि सभी भारी चीजें जैसे मेवे, उड़द, खीर आदि सर्दियों में आसानी से पच जाते हैं। हमने अपनी वेबसाइट पर लगभग सभी ड्राई फ्रूट्स के औषधीय गुणों के बारे में बताया है साथ ही कई रेसेपी भी बताई है जिससे आप ड्राई फ्रूट्स का सेवन पूरे स्वाद के साथ कर सके, इस आर्टिकल में हम सूखे अंगूर यानि मुनक्का के गुणों की जानकारी दे रहे है |

मुनक्का की तासीर तरगर्म होती है सर्दी के मौसम में मुनक्का खाना अधिक लाभदायक है। जब अंगूर को विशेष प्रकार से सुखा लिया जाता है तो उसका नाम बदलकर मुनक्का हो जाता है। अंगूर के लगभग सभी गुण मुनक्का में मौजूद होते हैं। यह दो किस्म का होता है, लाल और काला। मुनक्का को द्राक्ष या दाख भी कहते हैं। बड़ा अंगूर सूखने पर मुनक्का बनता है व छोटा सूखने पर किशमिश। आयुर्वेद में मुनक्के को सर्दी-जुकाम, खासीं और कफ दूर करने की सबसे अच्छी दवा माना गया है। वैसे तो हम मुनक्का के औषधीय गुणों पर एक अर्टिकल पहले भी प्रकाशित कर चुके है जिसको आप लोगो ने काफी सराहा था यह पोस्ट उसी का विस्तार है इसमें कुछ जानकारी हम पहले भी आपको दे चुके है | तो आइये जानते है मुनक्का और दूध तथा शहद के साथ इसके क्या फायदे होते है |

मुनक्का और दूध के लाभ

जानिए मुनक्का और दूध तथा मुनक्का और शहद के फायदे

  • कमजोरी से चक्कर आना – बीज निकाली हुई दस मुनक्का एक गिलास दूध में तेज उबालकर सुबह व रात को सोते समय खाकर दूध पियें। यह प्रयोग एक महीना तक करें। चक्कर आना बन्द हो जायेगा, कमजोरी दूर हो जायेगी।
  • मुनक्‍का और दूधका सेवन करने से शरीर को ग्लूकोज और विटामिन्स की कमी दूर होती हैं।
  • कब्ज़ होने पर रोजाना 10 मुनक्का गर्म दूध में उबालकर लेने से लाभ होता है। बीज निकालकर 60 ग्राम मुनक्का रोजाना सुबह और शाम को खूब चबा-चबाकर खाने से कब्ज दूर हो जाती है।
  • मुंह के छाले – मुनक्का और दूध उबालकर रात को सोते समय मुनक्का खाकर यह दूध पियें। छालों में आराम हो जायेगा।
  • एक गिलासदूध में 8 से 10 मुनक्का उबाल लें और सुबह शाम पीए। मजबूत हड्डियों के लिए यह कैल्शियम का भरपूर स्रोत है |
  • बड़ी उम्र के लोगो को मीठादूध पीने से अकसर कफ की परेशानी हो जाती है और दूध में चीनी मिलाकर पीने से इसका कैल्‍शियम भी कम हो जाता है इसलिए दूध को मीठा करने के लिए आप उसमें शहद या मुनक्का डाल सकते हैं।
  • सर्दी से होने वाले बुखार में दस मुनक्का एक अंजीर के साथ सुबह पानी में भिगोकर रख दें। रात को सोने से पहले मुनक्का और अंजीर को दूध के साथ उबालें और सेवन करें। तीन दिनों में ही बुखार पूरी तरह ठीक हो जायेगा |
  • गर्भावस्था में मुनक्का खाने के फायदे – गर्भवती स्त्री को दूध में मुनक्का उबालकर पहले मुनक्का खाना चाहिए उसके बाद इस दूध को पी जायें। इससे गर्भावस्था में कब्ज नहीं होगी तथा साथ ही आयरन की कमी पूरी होकर हीमोग्लोबीन भी बढ़ेगा |

मुनक्का और शहद खाने के फायदे

  • रात भर भिगोए हुए मुनक्का शहद के साथ खाने से नसों में रक्त का संचार तेज़ होता है तथा शरीर में रक्त का थक्का जमने जैसी बीमारियाँ नहीं होती जो हार्ट अटैक होने का सबसे बड़ा कारण होती है इसलिए दिल के मरीजो को सभी डॉक्टर मुनक्का खाने की सलाह देते है |
  • मुनक्का और अन्य ड्राई फ्रूट्स – दूध में मुनक्का, अखरोट, बादाम और केसर पीने से शारीरिक शक्ति बढती हैं |

मुनक्का और इसके अन्य बेहतरीन औषधीय गुण 

  • 20 मुनक्का गर्म पानी से धोकर रात को आधा गिलास पानी में भिगो दें। सुबह मुनक्का खाकर उसके पानी को भी पी लें। इस तरह रोजाना 2 महीनो तक यह प्रयोग करने से कमजोरी दूर हो जाती है। इससे फेफड़े के रोग दूर होकर बल मिलता है। कमजोर रोगी को मुनक्के भिगोया हुआ पानी रोजाना पिलायें।
  • मुनक्का ख़राब कोलेस्ट्रोल को कम करने में भी सहायक होता है इसलिए अधिक वजन वाले लोगो को भी इसका सेवन करना चाहिए ताकि ह्दय रोगों से बचाव हो सके |
  • चेचक- चेचक के रोगी को दिन में कई बार दो-दो मुनक्का या किशमिश खिलाने से लाभ होता है।
  • सर्दी के मौसम के रोग–सर्दी में जुकाम, बुखार, सिरदर्द, जोड़ों में दर्द, मलेरिया आदि अधिक होते हैं। चार मुनक्का, स्वादानुसार भुना हुआ जीरा, काला नमक सबको बारीक पीसकर इसकी दो गोली बनाकर सुबह-शाम लेते रहें। इससे मुंह का स्वाद अच्छा रहेगा, भूख लगेगी और कमजोरी नहीं आयेगी। अन्य जो कुछ भी इलाज आप ले रहे हों, उसे भी जारी रखें साथ में इसका सेवन भी जरुर करें।
  • बलगम (कफ)- सुबह प्रतिदिन 30 ग्राम मुनक्का का सेवन करने से कफ ढीला होकर बाहर निकल जाता है।
  • मुनक्का का सेवन खांसी ठीक करता है। इसके बीज निकालकर फेंक दें और मुनक्के में 2 साबुत काली मिर्च रखें। इसे धीरे-धीरे चबाने से लाभ मिलेगा।
  • ब्लड प्रेशर हाई/लो- आठ मुनक्का, 3 चम्मच सौंफ, दो किलो पानी में इतना उबालें कि पानी आधा रह जाये। इस पानी को छानकर चार भाग करके दिन भर में चार बार पिये। तथा मुनक्का खा लें।
  • आँखों में जलन–रात को दस मुनक्का आधा गिलास पानी में भिगोयें। सुबह मुनक्का बीज निकालकर खायें और पानी पी जायें।
  • मुनक्का और राई के लाभ – सिर का दर्द- यदि आधे सिर में दर्द, सूर्योदय से बढ़ता हो और सूरज ढलने के साथ कम होता हो, तो पाँच मुनक्का लें। इनके बीज निकालकर इनमें राई के बराबर कपूर भरकर गोली की तरह बना लें। सुबह सूरज निकलने से पहले जल्दी उठकर हर बीस मिनट बाद एक-एक मुनक्का पानी से निगल जायें। आधे सिर का दर्द ठीक हो जायेगा।
  • पीलिया- मुनक्का भिगोकर पानी में घोलकर पियें।
  • टाइफाइड (Typhoid)–बीमार को भोजन में अन्न नहीं दें तथा पूरी तरह आराम करने की सलाह दें। फलों का रस, पपीता, मुनक्का खाने को दें। यह भी पढ़ें – मुनक्का खाने के फायदे तथा 26 बेहतरीन औषधीय गुण
  • दस्त- बीज सहित दस मुनक्का पीसकर पानी में घोलकर सुबह-शाम पिलाने से दस्त बन्द हो जाते हैं।
  • कम भूख लगना – मुनक्का, नमक, कालीमिर्च सबको मिलाकर गर्म करके खाने से भूख बढ़ती है। पुराने बुखार में जब भूख नहीं लगती हो तो यह प्रयोग विशेष रूप से लाभदायक है।
  • मुनक्का थकान और बुखार की प्यास को कम करता है।
  • टी.बी.—(1) मुनक्का, पीपल, देशी शक्कर समान भाग में पीसकर एक-एक चम्मच सुबह-शाम खाने से यक्ष्मा (टी.बी.) में उठने वाली खाँसी दूर हो जाती है। साथ रात को 10 मुनक्का खाकर पानी पीकर सोयें। इससे पसीना कम आयेगा। खाँसी कम आयगी। कफ पतला होकर बाहर आयेगा। गला बैठा हो तो आवाज साफ आयेगी। शरीर की ताकत कम नहीं होगी। ताकत बनी रहेगी। यदि आप डॉट्स का इलाज ले रहे है तो अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही इस उपाय को आजमायें |
  • ज्यादातर लोग मुनक्का और किशमिश में अंतर नहीं कर पाते है इनमे बुनियादी फर्क तो रंग का ही होता है, किशमिश का आकार छोटा होता है तथा रंग हल्का होता मुनक्का गहरे रंग का होता है |

अन्य सम्बंधित लेख 

Leave a Reply