जाने डायबिटीज़ के 13 शुरुआती लक्षण

Diabetes या मधुमेह कभी भी और किसी भी उम्र में हो सकता है पर अक्सर कोई भी बीमारी एकदम से नहीं होती है इसको पूरी तरह से बनने में समय लगता है कुछ विशेष मेडिकल परिस्थितियों को छोड़ दे तो “Diabetes symptoms” या लक्षण बहुत पहले से ही दिखने शुरू हो जाते है !

मधुमेह बहुत आम बीमारी होने के साथ-साथ एक ऐसी बीमारी है जो बहुत तेजी से दुनिया भर में हर उम्र के लोगों को शिकार बनाती जा रही है। दुनिया भर के वैज्ञानिक बहुत समय से इस बीमारी का कारण व इसकी जड़ से समाप्त करने के तरीकों की तलाश कर रहे हैं, लेकिन अभी तक कोई सफलता हाथ नहीं लग पाई है। हालांकि कुछ ऐसी अवस्थाएं पाई गई हैं जिनमे कुछ लोगों में और लोगों की अपेक्षा मधुमेह रोग होने की अधिक संभावना रहती है। कुछ लोग इन शुरूआती लक्षणों को ना पहचान ने  की वजह से लंबी अवधि तक Diabetes को अनियंत्रित होने का मौका देते है , अगर समय रहते ही किसी चिकित्सक से सम्पर्क कर लिया जाये तो इस बीमारी को बढ़ने से पहले ही नियंत्रित किया जा सकता है !

Early Diabetes Symptoms,10 early Diabetes Signs

Top 10 early Diabetes-symptoms-in-hindi-jpg

तो आइये जानते है कुछ शुरूआती Diabetes symptoms :-

  1. Polyphagia – भूख का बढ़ना |
  2. अगर थकान, असामान्य कमजोरी तथा चिंतित रहना या बेवजह मानसिक तनाव हो तो ये Diabetes symptoms हो सकते है ।
  3. Poly urea – पेशाब बार-बार आना | यह भी पढ़ें – शारीरिक थकान के कारण और दूर करने के उपाय |
  4. Polydipsia –अधिक प्यास लगना- अत्यधिक मात्र में पेशाब के आने से तथा Tissues में इसको पूरा करने के कारण अधिक प्यास लगना ।
  5. Urine के रूप में ज्यादा पानी निकलने के कारण (Dehydration) निर्जलीकरण जिसके कारण जीभ सूख जाती है और होंठ फटने लगते हैं।
  6. Weight loss – वज़न में कमी आना और घावों को भरने में अधिक समय लगना ।
  7. बाह्य जननांगों (external genitalia) के Bacterial infection. बैक्टीरिया के रक्त और पेशाब में मौजूद अतिरिक्त ग्लूकोज़ पर पनपने के परिणामस्वरूप Skin में खुजली का रहना, त्वचा पर लाल चक्कते अथवा दाने होना ये सभी शुरुवाती Diabetes symptoms हो सकते है इसलिए आपको तुरंत किसी चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिए !
  8. चिड़चिड़ापन ,मतली और उल्टी का अहसास होना |
  9. उंगलियों में दर्द तथा उंगलियों का सुन्न पड़ जाना अथवा उनमें कपकपाहट का अहसास होना।
  10. त्वचा में सूखापन और बार-बार संक्रमण होना |
  11. बालों का झड़ना , अधिक मानसिक तनाव से घिरे रहना |
  12. आँखों की कोशिकाओं में high blood glucose के प्रभाव के कारण Retinopathy, नज़र में धुंधलापन एवं आंखों की अन्य समस्याएं।
  13. महिलाओ में गर्भवस्था से जुड़ी समस्या होना जैसे गर्भ का न ठहरना, गर्भधारण में समस्या होना आदि मधुमेह के लक्षण हो सकते है |

जिन व्यक्तियों में नीचे लिखे जोखिम वाले कारक होते हैं उनमें मधुमेह होने का खतरा अधिक होता है। इसलिए आपको मधुमेह की नियमित जाँच करवाते रहना चाहिए , चाहे आपको ये लक्षण न भी महसूस हों |

  • जिनको पुरानी दिल या नसों की बीमारी है (Cardiovascular Disorder)
  • अगर आप महिला हैं और आपको कभी गर्भ के दौरान चीनी की बीमारी या डाइबिटीज़ हुआ था।
  • आपके बच्चे का जन्म का वजन 4 किलोग्राम या 9 पौंड से अधिक था।
  • आपका ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ है (रक्तचाप या High Blood Pressure) 140/90m. Hg से ऊपर रक्तचाप को कहते हैं।
  • मधुमेह उन व्यक्तियों को अधिक प्रभावित करता है जिनके माता-पिता सगे भाई-बहन, दादा-दादी को मधुमेह रहा हो |
  • उन व्यक्तियों में मधुमेह की अधिक संभावना रहती है जो सप्ताह में 3 बार से कम व्यायाम करते हैं |
  • जो व्यक्ति अधिक आराम पसंद तथा शारीरिक मेहनत नहीं करते है |
  • जिनकी उम्र 45 साल से अधिक है |

डायबिटीज़  की  जाँच

अगर किसी को ये Diabetes symptoms महसूस हो तो इसकी सही जाँच करवाना बेहद जरुरी है , इसके लिए रक्त परीक्षण Blood Test के माध्यम से पता किया जा सकता है!  जो या तो खाली पेट या रैंडम आधार पर होता है। Fasting blood glucose की जांच उस स्थिति में की जाती है जब रोगी ने 10 से 12 घंटे से अधिक खाली पेट हो । रैंडम परीक्षण इस बात का ध्यान दिए बिना किया जाता है कि रोगी ने खाना खाया है या नहीं।

 



शेयर करें

No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*