Pregnancy Care Tips in Hindi

Pregnancy Care से हमारा तात्पर्य गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों अर्थात Precautions से है | आम तौर पर या पारिवारिक दृष्टिकोण से यदि हम देखें तो महिलाओं या Ladies को गर्भावस्था के दौरान ही सबसे अधिक Care करने की आवश्यकता पड़ती है, ताकि जच्चा एवम अजन्मा बच्चा दोनों की health हेल्थी रहे और अधिकांशतः इंडिया में जागरूक महिलाओं द्वारा Pregnancy care tips का अनुसरण भी किया जाता है, लेकिन फिर भी वर्ष 2013 के एक आंकड़े के मुताबिक गर्भवती महिलाओं की संख्या का लगभग 17% महिलाओं की बच्चे पैदा करने के दौरान मृत्यु हो जाती है |  और इनमे अधिकतर उन महिलाओं की संख्या होती है जिनमे Pregnancy के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों की information का अभाव रहता है | इसी बात के मद्देनज़र आज हम Pregnancy care tips की जानकारी Hindi में देने वाले हैं ताकि उपर्युक्त प्रतिशत को कम करने में हम भी थोड़ा बहुत अपना योगदान दे सकें |

 Traveling care during pregnancy ,Precautions during pregnancy in Hindi

Pregnancy Care Tips

Precautions during pregnancy in Hindi:

वैसे तो Pregnancy Care tips  की लिस्ट बहुत लंबी है, लेकिन यहाँ पर हम सिर्फ कुछ जरुरी precautions के बारे में बताएँगे जिनकी लिस्ट निम्नवत है |  Pregnancy Care Tips को निम्नलिखित चार भागों में विभाजित किया जा सकता है

  1. General Care during Pregnancy in Hindi:

  • एक Pregnant Lady को चाहिए की वह गर्भावस्था के दौरान Alcohol  यानिकि मदिरा को हाथ ना लगाएं, चाहे किसी कॉकटेल पार्टी में गयी हों या किसी अन्य आयोजन में। अल्कोहल का अजन्मे शिशु और माँ के स्वास्थ्य पर भी विपरीत प्रभाव पड़ सकता है जो Complications को बढ़ाने में भी मददगार साबित हो सकता है | इससे गर्भस्थ शिशु फेटल अल्कोहल सिंड्रोम का शिकार हो जाता है । वह मंदबुद्धि और आनुवंशिक रोगों से पीड़ित हो सकता हे । उसका नर्वस सिस्टम नष्ट हो सकता है |
  • ऐसे बच्चे का Cleft Lip यानी जन्म से ही होंठ कटा हुआ हो सकता है। उनकी आँखों और दिल में दोष व् चेहरे के अलावा अंगो के सिस्टम में अधूरापन हो सकता है।
  • यदि प्रेगेनेंट लेडी धूम्रपान की आदी हों तो उन्हें तुरंत इसका परित्याग करना होगा क्योंकि सिगरेट पीने वाली महिलाओं का गर्भपात हो सकता है या Pre mature delivery भी हो सकती है, जिससे बहुत सारी Complications का जन्म हो सकता है
  • यह Pregnancy Care tips डॉक्टर की सलाह के बिना ली जाने वाली दवाओं पर आधारित है, एक Pregnant Lady को हमेशा डॉक्टर की सलाह पर ही किसी मेडिसिन का उपयोग करना चाहिए | बिना डॉक्टर की सलाह पर ली जाने वाली दवाएं Pregnancy में भयंकर परिणाम पैदा कर सकती है |
  • Microwave oven का ज्यादा इस्तेमाल करने पर उससे होने वाले रेडिएशन का असर गर्भस्थ शिशु पर पड़ता है। उसके विकसित हो रहे दिमाग व अंगों पर खराब प्रभाव पड़ता है। इसलिए pregnant lady को यह Pregnancy care tips  अपनाकर microwave का खुद के द्वारा किये जाने वाले इस्तेमाल से बचना चाहिए |
  • मोबाइल के संपर्क में ज्यादा रहने से उससे होने वाला रेडिएशन शरीर ,मस्तिष्क और गर्भ को प्रभावित करता है! इसलिए  जो महिलाएं Pregnancy के दौरान मोबाइल फोन का ज्यादा इस्तेमाल करती हैं, उनके बच्चे व्यवहार संबंधी समस्याओं के साथ पैदा होते हैं। यही कारण है की Russian National Committee on Radiation Protection ने अपनी राय में Pregnant Lady को मोबाइल का कम से कम उसे करने को कहा है | जिससे होने वाले बच्चे में व्यवहार संबंधी complications को होने से रोक जा सके |
  • Pregnancy care tips में स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने X-RAY न करने की सलाह दी है क्योकि उनका मानना है की इसके नुकसान तुरंत नहीं पता चलते, पर गर्भ के माध्यम से इसकी किरणें बच्चे को प्रभावित करती हैं।
  • यदि किसी कारणवश (Fever) इत्यादि के कारण गर्भवती महिला डॉक्टर के पास Treatment के लिए जाती है तो उसे Doctor बताना चाहिए की वह Pregnant  हैं और इस बात की ध्यान में रखते हुए ही वे इलाज करें और मेडिसिन दे ।
  • यह Pregnancy Care tips गृह कार्यों से सम्बंधित है क्योंकि घर में ही मौजूद कई चीजें महिला के लिए जोखिम भरी हो सकती हैं। यदि हर काम अपने आप करती हैं, तो क्लीनर, थिनर और पेंट जैसे पदार्थों से दूर ही रहें। इनकी तेज केमिकल गंध से Pregnancy में complications पैदा होती हैं।
  • Pregnancy के पहले तीन महीनो में शरीर का तापमान सामान्य रहना जरुरी होता है वरना बच्चे के जन्म के समय दोष आ सकते है इसलिए Body Temperature पर निगाह रखे !
  • यदि Pregnancy Lady गर्भावस्था के दौरान Pregnancy में की जाने वाली exercise करती है तो पानी व् जूस पीती रहें। इससे शरीर का तापमान संतुलित रहेगा। इसका ध्यान न रखने पर बॉडी over heat हो जाती है , जिससे बच्चे को नुकसान पहुंचता है।
  1. Travelling care during pregnancy:

यह जरुरी नहीं है की महिला गर्भ से है तो वह Travel नहीं कर सकती इन नौ महीनों में बहुत सारे ऐसे मौके आ सकते हैं जब महिला को न चाहते हुए भी Travel करना पड़ सकता है | लेकिन Pregnant Lady को ट्रेवल करते वक्त भी बहुत सारी Pregnant care tips का अनुसरण करना पड़ सकता है, कुछ Precautions का जिक्र हम नीचे कर रहे हैं |

  • यदि कोई गर्भवती महिला को व्यवसायिक कारणों से Travelling करनी पड़ती है तो वह Maternity Benefits Act का फायदा ले कर यात्रा करने के जोखिम से बच सकती है !
  • गर्भकाल के शुरुवाती 3 महीने सबसे ज्यादा critical होते है इसलिए doctors भी यात्रा ना करने की सलाह देते है !
  • यह अवधि पूर्ण होने के बाद ट्रेन, कार से यात्रा की जा सकती है। सबसे आरामदायक ट्रेन का सफर होता है , क्योकि उसमे उठने बैठने , चलने की सुविधा रहती है।
  • कार में सीट बेल्ट लगा कर बैठे तथा प्लेन में यात्रा करते समय खूब पानी पिए । शरीर में पानी की कमी हो सकती है | शरीर को स्ट्रेच करती रहें और किसी भी सफर में जाने से पहले Doctor से पूछ लें |
  1. Emotional Support required during pregnancy:

एक गर्भवती महिला अपने आने वाले बच्चे के प्रति लाखों करोडो अवधारणाएं/ भावनाएं अपने मन में समाये हुए उसके प्रति सपने बुनने लगती है | यही कारण है की महिला में भावनात्मक रूप से परिवर्तन दिखाई  देते हैं जिनसे निबटने के लिए महिला को एम्पटिनल सपोर्ट की आवश्यकता पड़ती है | जानते हैं की Pregnancy Care tips  की इस श्रेणी में परिवार के लोगों को या पति पत्नी दोनों को किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए |

  • पति पत्नी दोनों Pregnancy पालन करने और गर्भधारण के बाद Counselling के लिए साथ-साथ Doctor के पास जाएं। जब दोनों साथ Doctor के पास जाते हैं तो सारी बातें एक साथ जान पाते  हैं, जिस से दोनों को  मिल कर बच्चे के आने की तैयारी करने में आसानी होती  हैं। और Delivery से संबंधित मुश्किल फैसले ले पाते हैं। पति की मौजूदगी पत्नी को बल देती है। पति के साथ होने पर यदि पत्नी कुछ पूछना भूल जाती है, तो पति याद दिला देते हैं।
  • Doctor से जो पूछना चाहती हैं, डायरी में लिख लें, ताकि आशंकाओं का समाधान हो जाए।
  • During pregnancy अच्छी नींद बहुत जरूरी है। भ्रूण के विकास के साथ शरीर को बहुत मशक्कत करनी पड़ती है। समय बढ़ने के साथ थकान बढ़ती जाती है ! Pregnancy के दोरान नींद ना आना या  रेस्ट लेस  होना आम बात हे | कई  बार खूब नींद भी आती है, तो कई बार टूट-टूट कर आती है। एक नज़र इस पोस्ट पर भी – गर्भावस्था में त्वचा और बालों की देखभाल के लिए टिप्स |
  • अच्छी नींद मेंटेन रखने के लिए सोडा, कॉफी, चाय जैसे कैफीनयुक्त पेय कम से कम लें। सुबह-सुबह या दोपहर में चाय-कॉफी ना ही लें तो बेहतर होगा । अपने सोने जागने का टाइम निश्चित करें। वक्त से उठे, वक्त से सोएं। और हल्के गरम पानी से नहाए !
  • Herbal Tea लें या शहद के साथ दूध लें। आहार Calcium युक्त रखें। इससे आराम से नींद आने के साथ पेरों में क्रैंप्स की शिकायत भी नहीं रहेगी।
  • यदि आप परेशान हैं और बहुत थकान महसूस कर रही हैं, तो नींद आना मुश्किल है। ऐसे में अपने दिमाग को शांत रखने के लिए आरामदायक योगासन करें। जब नींद ना आ रही हो, सीधी लेट जाएं, अपनी पैरों को स्ट्रेच करें। इससे प्रेगवेंसी के दौरान लचीलापन बना रहता है ! व्यायाम व योग किसी एक्सपर्ट की देखरेख में ही करें। अपने पैरों, हाथों की मसाज हल्के हाथ से कराएं !
  1. Mood Swing Care during Pregnancy in Hindi:

जैसा की हम उपर्युक्त Pregnancy Care tips की श्रेणी में बता चुके हैं की एक प्रेग्नेंट लेडी में भावनात्मक रूप से   बदलाव होते हैं जिसके कारण उसका बेहेवियर एकदम से बदलने लगता है, तो इस स्थिति को कंट्रोल में रखने के लिए कौन कौन से pregnancy care tips प्रभावी हैं, आइये जानते हैं उनके बारे में |

  • Pregnancy के दौरान गर्भवती महिला का Mood तेजी से बदलता है कभी वह बहुत खुश और शांत रहती है। या कभी एकदम चिडचिडी हो जाती है ! वे कभी ओवर रिएक्ट करती है , तो कभी एकदम ढीली ढाली हो जाती हैं। इस तरह के कई शारीरिक और भावनात्मक बदलाव शरीर में इस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेयोन Hormones के अति सक्रिय होने की वजह से तेज़ी से होते है !
  • कई महिलाएं छठे से दसवें हफ्ते तक Mood Swings से बाहर आ जाती है ! लेकिन कई बार बच्चा पैदा होने से कुछ समय पहले Mood में तेजी से बदलाव आता है Mood Swings थकान मिचली छाती में जलन और Metabolism में परिवर्तन आने की वजह से होता है
  • Pregnancy Planing के बाद जहां नन्हे मेहमान के आने की खुशी होती है, वहीं आनेवाली जिम्मेदारियों की चिंता, आजादी खोने का अहसास मन को बेचेन भी करता है।
  • सबसे जरूरी है कि अपने mood swing के बहाव में ना बहने लगें | अपने आपको रिलेक्स रखें । रिलेक्स देनेवाली मसाज करवाएं , मनपसंद Hair Style बनाएं। खुद को पेंपर करें। दोस्तों के साथ पिक्चर देखें, अच्छी किताबें पढ़ें, संगीत का आनंद लें। Mood में उथल-पुथल महसूस होने पर शावर लें, इससे आप रिलेक्स महसूस करेंगी।
  • Mood Swings को काबू करने के लिए अच्छी तरह खाएं, पूरी नींद लें, हर समय लेटी ना रहें। चलें-फिरें, कुछ काम करें, रूटीन  तोड़ें। रोज व्यायाम करें, पति के साथ चिंताएं शेअर करें। उनके साथ वक्त गुजारें। ध्यान (Meditation) करें।

डिलीवरी के समय हॉस्पिटल में क्या क्या सामान ले कर जाये? देखें लिस्ट

गर्भावस्था में जरुरी आहार Diet Chart सहित

गर्भावस्था में देखभाल के जरुरी टिप्स

गर्भावस्था से जुडी समस्याएं और सावधानियां

Pregnancy Care tips की जितनी भी Important बातें थी वो हमने अपने पाठको को उपर्युक्त चार श्रेणियों के माध्यम से बताने की कोशिश की है | स्वास्थ्य क्षेत्र से संबंधित विशेषज्ञों का मानना है की उपर्युक्त Pregnancy Care tips का अनुसरण करके Pregnancy में आने वाली Complications को कुछ हद तक कम किया जा सकता है |

 



शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*