मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के उपाय- Stress Management

पिछले लेख में हमने मानसिक तनाव के प्रमुख कारण, लक्षण (Stress Causes) और तनाव की वजह से होने वाली बिमारियों, हानियों को विस्तारपूर्वक बताया था | इस पोस्ट में हम मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए उपाय तथा तनाव के दौरान खानपान से सम्बन्धित सुझाव देंगे जिनसे आपको निश्चित रूप से तनाव को कम करने में सहायता मिलेगी |

मानसिक तनाव से मुक्ति पाने  के लिए कुछ टिप्स/ Tips to Relieve Stress and Release Tension.

  • तनाव कम करने और मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए सबसे सरल और उपयोगी ‘शिथिलीकरण’ क्रिया है। प्राकृतिक रूप से हम यह कार्य रात में सोकर पूरा करते है। योग साधना में ‘शिथिलीकरण’ को ‘शव आसन’ कहते हैं, जो निर्जीव स्थिति लाकर आराम कुर्सी , पलंग, गद्दा, जमीन पर चित बैठकर, पीठ के बल लेटकर, हाथ-पैर सीधे रखकर किया जाता है।
  • शरीर के अंगप्रत्यंगों के अलावा मस्तिष्क को भी निष्क्रिय पड़ा रहने देने का अभ्यास करें तथा गहरी निद्रा की मन:स्थिति बनाएं, इस उपाय से पूर्ण शांति मिलेगी। तनाव प्रबंधन के लिए ध्यान यानि मैडिटेशन का भी विशेष महत्व होता है |
  • मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए हर हाल में खुश रहने का प्रयास करें। हर तरह की स्थिति का सामना करते हुए अपनी योग्यता में विश्वास जगाए रखें साथ ही मन में कोई घुटन पैदा हो रही हो, तो उसे मन तक ही सीमित न रखें। किसी प्रियजन, विश्वासी मित्र, रिश्तेदार से शेयर करें। इससे आपका मन हलका हो जाएगा।
मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के /mansik tanav se mukti ke upay उपाय

मानसिक तनाव प्रबंधन

  • एक साथ यदि कई काम आ जाएं, तो घबराएं नहीं। प्राथमिकता और महत्व के अनुसार एक-एक करके उन्हें निपटाते जाएं। शीघ्र ही आपका बोझ दूर हो जाएगा।
  • मिलने-जुलने वाले सहयोगियों से सदा अच्छे संबंध रखने का प्रयत्न करें, जिससे आप हमेशा प्रसन्नता एवं तनाव रहित जीवन अनुभव करेंगे। उनसे बड़ी-बड़ी आशाएं न बांधे और न ही उनके संबंध में हवाई कल्पनाएं गढ़ें।
  • मानसिक तनाव की अवस्था में संगीत सुनना, रोचक टी. वी. कार्यक्रम, पिक्चर देखना, पत्र पत्रिकाएं पढ़ना, बागवानी करना, पेंटिंग करना मन बहलाने के लिए जरूरी हैं। ऐसा करने से कुछ ही समय में आपको मानसिक तनाव से मुक्ति पाने  में मदद मिलेगी। जाने क्या है ब्रेन वेव जो बढ़ाये मानसिक शांति और शक्ति? |
  • नियमित शारीरिक व्यायाम करें, इससे आपकी मानसिक क्षमता बढ़ेगी। मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए  यह एक उत्तम उपाय है। योगासन, प्राणायाम, शवासन आदि से जहां हमारे शरीर को चुस्त रखने में मदद मिलती है, वहीं – मस्तिष्क को भी आराम पहुंचकर चित्त प्रसन्न होता है।
  • सदैव आशावादी दृष्टिकोण अपनाएं। निराशाजनक व असफलताओं के बारे में न सोचें। जीवन को एक खेल की भावना से जिएं और जीतने की आशा से खेलें।
  • मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए अनावश्यक संकल्पों या अपनी शक्ति से अधिक बड़े टारगेट नहीं बनाने चाहिए – हम अपने जीवन में कई सारे संकल्प करते हैं – हमें यह करना है – हमें वह करना है| पत्नी, बच्चे, कामकाज, घर-गृहस्थी, समाज, धर्म, शौक, इन सभी संकल्पों को पूरा करने में हम लगे रहते हैं इनमे से कई संकल्प पूरे नहीं होने से चिंता तनाव उत्पन्न होता है | गीता के अनुसार सिर्फ कर्म करना ही मनुष्य का धर्म है उसके फल का लालच नहीं करना चाहिए |
  • मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए स्वयं को व्यस्त रखना भी एक उत्तम उपाय है। क्योंकि यदि आप व्यस्त रहते हैं, तो बेकार की चीजों में मन का भटकाव नहीं होगा और काफी सकून से रहेंगे।
  • नियमित और संयमित जीवनशैली को अपनाने से तनाव पैदा नहीं होता है।
  • अपने कार्यस्थल, बेडरूम में ताजे और सुगंधित पुष्प और तांबे का पिरामिड रखने से भी मन प्रसन्न रहता है।
  • खूब दिल खोलकर हंसें। हंसी-मजाक करने की प्रवृत्ति बनाएं।
  • अपने को कमजोर न स्वीकारें।
  • अपना आत्मविश्वास बढ़ाएं।
  • अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखना सीखें।
  • पैदल घूमने जाएं। पढ़ें यह पोस्ट – जॉगिंग करें फिट रहें – Jogging Tips
  • एकांत में प्रार्थना करें।
  • दिन भर के कामों के बाद मनोरंजन और आराम करने के लिए भी समय निकालें।

मानसिक तनाव से मुक्ति पाने  के लिए सदैव मुस्कराने की आदत डालें /A smile Can Actually Reduce Stress.

मुस्कान खुशी, आनंद व हर्ष का प्रतीक है। कहा जाता है कि मुस्कान अनगिनत अनकहे शब्दों की कह जाती है। विज्ञान में कहा गया है कि जब हम मुस्कराते हैं तब केवल 2 मांसपेशियां इस्तेमाल होती हैं। इसके विपरीत गुस्सा करने में 32 मांसपेशियां काम करती हैं। एक मुस्कान मानसिक तनाव से मुक्ति पाने में आपकी बहुत मदद कर सकती है | जब भी हंसें, खुलकर हंसे ।

  • अपने चहरे पर सदैव एक सौम्य-सी मुस्कान रखें।
  • हमेशा ऐसी बात ही सोचें जो आपको अच्छी लगे।
  • सकारात्मक सोच के पक्षधर बनें।
  • कभी किसी से ज्यादा अपेक्षाएं न करें। जो मिल जाए वही सर्वोत्तम समझें।
  • स्वयं को दूसरे के अनुरूप बनाने का प्रयास न करें। अपनी पहचान अलग बनाए।
  • जब भी झगड़ा होने लगे, मुस्कराते जाइए, गुस्सा तुरंत शांत हो जाएगा।
  • ज्यादा गुस्सा आने पर एक से दस तक गिनती करें | इससे आपका ध्यान तेज गुस्से से हट जायेगा |
  • हमेशा जिंदादिल व्यक्तियों की संगत में रहें और खिल-खिलाते रहें।
  • यदि कोई आपकी परवाह न करे तो इसी चिंता में खुद को डुबोए न रखें। आगे बढ़ने के प्रयास करें।
  • भूतकाल में क्या हुआ, भविष्य में क्या होगा, इस चिंता में अपना वक्त बर्बाद न करें। वर्तमान में जिएं।
  • छोटी-छोटी बातों से खुश होना सीखें।
  • विकट परिस्थितियों में भी अपना मानसिक संतुलन बनाए रखें।
  • त्याग करना सीखें। त्याग से ही आत्मसंतुष्टि प्राप्त होती है।
  • अपना स्वर और स्वभाव अधिक-से-अधिक मधुर और विनोद-प्रिय बनाने का प्रयास करें।
  • स्वयं को विनोद-प्रिय बनाएं तथा जीवन में हास्य रंग अपनाएं।
  • कभी भी प्रशंसा के पीछे न भागें क्योंकि उम्मीद पूरी न होने से हताशा उत्पन्न होती है जो तनाव का कारण बनती है ।
  • अपनी हर गलती से, भूल से एक नया सबक सीखें।
  • मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए कभी-कभी खुद में या ‘रूटीनवर्क में कुछ परिवर्तन भी करें।
  • अपने पुराने दोस्तों को भी याद किया करें। उनसे संपर्क भी बनाए रखें।
  • किसी के काम में या जीवन में दखल न देने की आदत डालें।
  • मानसिक तनाव से मुक्ति पाने और अपने आप को सांत्वना देने के लिए अपने दुख व कष्टों को, दूसरों के मुकाबले छोटा व कम ही समझने का प्रयास करें।
  • प्रकृति ने, सृष्टिकर्ता ने आपको जैसा भी बनाया है, ठीक बनाया है, ऐसा सोचें और हर हाल में खुश रहना सीखें।
  • मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए  हमेशा सकारात्मक व आशावादी बने रहने का प्रयास करें। अपने क्रोध को समाप्त करें या उसे मिटाने की कोशिश करें। सभी के लिए अच्छा ही सोचें । आलोचना भरी बातों से दूर रहिए।
  • यह बात सच है कि अपने अलावा कभी-कभी दूसरों के बारे में भी सोचना चाहिए, लेकिन अपने मन की बात भी सुननी चाहिए। कभी-कभी अपने आपको जानने के लिए पहले अपने मन के अंदर झांकिए।
  • दुनिया की खूबसूरत नजरों से देखें। दूसरों के प्रति मन में सकारात्मक भाव रखें। कहते हैं न कि ‘आप भले तो जग भला’ यानी आप अच्छे हैं तो दूसरे लोग भी आपको अच्छे ही लगेंगे अर्थात आपका मन अच्छा है, आपके विचार अच्छे हैं तो आपके लिए पूरा जग ही खूबसूरत है। अत: आपके लिए अपने तन की खूबसूरती के साथ-साथ मन की खूबसूरती पर भी ध्यान देना जरूरी है। यह भी पढ़ें -> योगासन के लाभ और योग के प्रकार |
  • आजकल मानसिक तनाव से राहत पाने के लिए दवाओं का प्रयोग आम हो गया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि ये दवाएं हानिरहित हैं। डॉक्टर के परामर्श से सीमित समय के लिए कभी कभार इन दवाओं का सेवन किया जा सकता है। फिर भी शारीरिक और मानसिक रूप से बिना दवाओं के स्वस्थ रहने के लिए यह जरूरी है कि हम हालात से समझौता कर जीवन के सच्चे सुख और पूर्ण आनन्द की प्राप्ति के लिए तनावपूर्ण स्थितियों से सतत दूर रहने का प्रयत्न करते रहें।

मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए खानपान सम्बन्धी टिप्स / Stress, Nutrition and Diet – Managing Stress.

क्या खाएं

  • हलका, सुपाच्य, संतुलित भोजन आराम से चबा-चबा कर खाएं।
  • ताजे मीठे फलों का सेवन करें। तनाव की स्थिति में उनका जूस पिएं।
  • हरी साग-सब्जियां और सलाद का नियमित सेवन करें।
  • दूध, दही की लस्सी, गन्ने का रस, अंगूर, संतरे, मौसमी का रस पिएं।

क्या ना खाएं

  • भारी, गरिष्ठ, तली, ज्यादा मिर्च-मसालेदार चटपटी चीजें न खाएं।
  • कड़क चाय, कॉफी, शराब जैसी नशीली चीजों का सेवन न करें।
  • अचार, अमचूर, खटाई से परहेज करें।
  • मांस, मछली, अंडा न खाएं। यह भी पढ़ें – याददाश्त बढ़ाने और दिमाग तेज करने वाले 12 फ़ूड

अन्य सम्बंधित लेख 

 



शेयर करें

Comments

  1. By Shiv Gupta

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*