होठों की देखभाल के लिए 24 जरुरी टिप्स

होठों की देखभाल भाल बहुत जरुरी होती है क्योंकि होंठ शरीर का सिर्फ ऊपरी आवरण नहीं है, बल्कि यह अंदरूनी आवरण है। होंठ का गुलाबी हिस्सा श्लेष्मा होता है, जिसकी वजह से होंठ गुलाबी दिखाई देते हैं। होठों  के उपरी भाग (त्वचा) में शरीर की त्वचा की तरह संवेदी ग्रंथियां (Sensory Glands) नहीं होतीं । होठों  में ऑयल या फैट उत्पन्न करने वाली सिबेशिया ग्रंथि (Sebaceous gland) भी नहीं होती है। होंठो का चेहरे की खूबसूरती में बड़ा महत्व होता है|

होठों का दूसरा काम है मुंह से साँस लेते समय कोई अवांछित तत्व मुंह के अंदर जाने से रोकना। होंठ किसी वस्तु के तापमान को बहुत अच्छी तरह पहचान सकते हैं। जिस तापमान वाली वस्तु शरीर के लिए ग्रहण करने योग्य है, होंठ उसे स्वीकार कर लेते हैं, अन्यथा अस्वीकार कर देते हैं। प्राकृतिक सौंदर्य वाले होंठ, नारी के चेहरे की सुंदरता में चार चांद लगाते हैं। जिनके होंठ जितने नाजुक, मुलायम, सुंदर होते हैं, उनका चेहरा उतना ही खिला-खिला व निखरा हुआ लगता है। कवियों ने होठों  की तुलना गुलाब की पंखुड़ियों से की है। होठों  के प्रति की गई असावधानी व लापरवाही होठों  के सौंदर्य को नष्ट कर देती है। होठों की होठों की देखभाल के लिए हमें विशेष सतर्कता और सावधानी रखनी चाहिए|

होठों की देखभाल कैसे करें /Lips care tips 

 

hotho-ki-dekhbhal-lips-care-tips /होठों की देखभाल

Hotho-ki-dekhbhal

  • कभी भी दो-तीन प्रकार की लिपस्टिक मिलाकर होठों पर न लगाएं। ऐसा करने से होठों का सौंदर्य खराब हो सकता है।
  • होठों की देखभाल के लिए लिपस्टिक को जोर से रगड़-रगड़ कर न उतारें। ऐसा करने से होठों की त्वचा छिल जाती है और होठों का आकार बिगड़ जाता है।
  • बहुत गर्म चाय, कॉफी, दूध के कप, गिलास आदि होठों से लगाने से होठों की सुंदरता व कोमलता खराब हो जाती है। इसलिए होठों की देखभाल के लिए उचित तापमान होने पर ही चाय कॉफी को पिए |
  • रात को सोते समय (Petroleum Jelly) पैट्रोलियम जेली लगाएं | जैली को होठों पर लगाने के बाद अपनी ऊँगली से धीरे धीरे मसाज करे फिर दोनों होठों  को लगभग बीस से पच्चीस सेकंड तक एक दुसरे से चिपका कर रखे, ऐसा करने से जैली दोनों होठों पर बराबर फ़ैल जाएगी |
  • होठों की देखभाल के लिए पानी खूब पीना चाहिए ताकि आपके होठ और त्वचा में सूखापन न आये |
  • क्लोरिन मिला हुआ पानी न पिए इससे होठों पर सफेद रंग की परत जम सकती है |
  • अपने आहार को संतुलित और विटामिन युक्त रखे जैसे हरी सब्जियों दूध, टमाटर, सेब आदि शामिल करे खूबसूरती और चमक शरीर के अंदर से आती है अगर आपकी सेहत ठीक है तो आपको बहुत ज्यादा मेकअप या श्रंगार की जरुरत नहीं पड़ेगी |
  • होठों की देखभाल के लिए होठों में रक्त के प्रवाह का सुचारू होना बहुत जरुरी होता है इसके लिए नियमित होठों की मसाज जरुर करे|
  • होठों पर बार बार जीभ घुमाने से भी होठों की त्वचा प्रभावित होती है, जिससे होठों का सौंदर्य बिगड़ जाता है।
  • होठों पर खिंचाव आने से (suck or lick the lips) भी होठों का सौंदर्य नष्ट हो जाता है। ऐसा करने से होठों का आकार बिगड़ जाता है।
  • गुस्से में आकर अपने होठों को दांतों के बीच लाकर काटने से होठों का आकर्षण खराब हो जाता है ।
  • पिन, क्लिप, पेन, पेंसिल आदि चीजें मुंह में डालकर बैठे रहने से होठों की कोमल त्वचा प्रभावित होती है।
  • धूम्रपान करने से होंठ अपनी प्राकृतिक सुंदरता व कोमलता खो देते हैं ।
  • दांतों से नाखून चबाने की आदत होठों को नुकसान पहुंचाती है।
  • होठों पर ज्यादा समय तक लिपस्टिक लगाए रखने से भी होठों की प्राकृतिक सुंदरता नष्ट हो जाती है।
  • सर्दियों में सूखी हवा से होंठ जल्द ही फट जाते है इसलिए नियमित रूप से जैली का प्रयोग करना चाहिए |
  • संभव हो तो सूखे होठों पर जमी पपड़ी कभी न खुरचें।
  • लिपस्टिक हमेशा अच्छी कंपनी की ही खरीदें। लिपस्टिक खरीदते समय हाथ पर हल्की-सी रेखा खींचें। रेखा को मिटा दें। यदि निशान मिट जाता है तो वह अच्छी कपनी की है।
  • लिपस्टिक साफ़ करने के लिए रुई में थोड़ा सा Cleansing Milk लगाकर होठों को धीरे धीरे साफ करें. फिर थोड़ी सी दूध की मलाई में नींबू का रस मिला कर होठों की हल्के हल्के मालिश करें |
  • रात को होठों पर लिपस्टिक लगाकर सोने से होठों की सुंदरता शीघ्र नष्ट हो जाती है।
  • मुड़े हुए ब्रिसल वाले बुश से दांत साफ करने से होंठ प्रभावित होते हैं।
  • दूसरों के द्वारा इस्तेमाल की गई लिपस्टिक या लिपस्टिक बुश का इस्तेमाल न करें। इससे श्वास, गला, त्वचा, मुख व होठों का संक्रमण होने का भय रहता है।
  • जोश या खुशी में आकर जहां-तहां न चूमें। इससे होठों पर संक्रमण होने की संभावना रहती है।
  • कोई भी कॉस्मेटिक या सौन्दर्य-प्रसाधन सामग्री अच्छी गुणवत्ता का तथा अजमाया हुआ ही खरीदे यह होठों की देखभाल के लिए बहुत महत्वपूर्ण है | या तो आप घरेलू सामानों से तैयार प्राकृतिक सौन्दर्य सामग्री का प्रयोग करे, जो हम आगे भी समय- समय पर बताते रहेंगे| याद रखिये आजकल बाजार जितने भी मेकअप सामान उपलब्ध है वो कुछ सौ सालो से ही है परंतु स्त्रियाँ सौन्दर्य प्रसाधनो का इस्तमाल हजारो सालो से करती चली आ रही है| अर्थात पहले भी सभी ब्यूटी प्रोडक्ट्स उपलब्ध थे जो फल सब्जियों और अन्य प्राकृतिक सामानों से बनाये जाते थे जिनसे कोई खराब साइड इफेक्ट्स नहीं होते है |

अन्य सम्बंधित पोस्ट 

कमेंट करें | सवाल पूछे | फीड बैक दें |

%d bloggers like this: