अदरक के फायदे और 40 घरेलू नुस्खे

अदरक (Ginger), थाई अदरक और सोंठ : एशिया के लोग सदियों से अदरक के स्वास्थ्य सम्बन्धी गुणों से अच्छी तरह परिचित हैं। अंग्रेजी दवा को भी मात देते हुए अदरक, किसी वाहन में यात्रा करते समय सिर में होने वाले दर्द, सिर के चकराने, मिचली, हैजा, दांतदर्द, रक्तस्राव और गठिया महसूस होने अथवा उल्टी होने आदि की दिक्कतों को जल्दी ही दूर करती है। इसके अलावा गले में उत्पन्न होने वाली खराश को समाप्त करने वाला यह हर्ब आपको माइग्रेन और आर्थराइटिस जैसे रोगों को ठीक करने में भी काम आता हैं | यह किसी भी तरह के साइड-इफेक्ट से रहित है। यह व्यक्ति को तनाव मुक्त (एन्टी-डिप्रेशन) करने के गुण और दस्त को रोकने (एन्टी डाइरियल) की क्षमता से भरा हुआ है। साथ ही इसमें पर्याप्त मात्रा में एन्टीऑक्सीडेण्ट पाये जाते हैं। अदरक एक शक्तिशाली ‘पावर हाउस’ की तरह अपने औषधीय गुणों से व्यक्ति को कई प्रकार से फायदा पहुंचता है | रेतीली जमीन पर अदरक की खेती की जाती है। अदरक जमीन के भीतर एक जड के रूप में उत्पन्न होता है। जमीन के ऊपर अदरक के हरे-हरे पते दिखाई देते हैं। आलू और शकरकंदी की तरह जमीन के भीतर जड़ के रूप में अदरक विकसित होता है। अदरक को सुखाकर ‘सोंठ” बनाई जाती है। सोंठ में भी अदरक के समान पौष्टिक गुण होते हैं, लेकिन अदरक अधिक लाभ पहुंचता है। अदरक एक कुदरती एंटीबायोटिक हैं | इसको स्तन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर के इलाज के लिए भी उपयोगी पाया गया है जिस पर अभी रिसर्च चल रही है | अदरक में मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम और कई तरह के विटामिन पाए जाते हैं जो बालों की जडो को मजबूत करने में बहुत लाभदायक हैं |

ज्यादातर लोग अदरक का उपयोग विभिन्न सब्जियों और चाय को स्वादिष्ट बनाने के लिए करते हैं | लेकिन यह पोस्ट पढने के बाद आप अदरक के द्वारा ना सिर्फ कई रोगों को दूर रखने में सफल होंगे बल्कि अदरक को अपनी रसोई में जरुरी रूप से रखी जाने वाली सब्जी के रूप में देखेंगे | अदरक के सेवन से पाचन क्रिया तेज होने से सब-कुछ खाया हुआ जल्दी हजम हो जाता है। अदरक के सेवन से कफ और वायु के विकार नष्ट होते हैं। गठिया जोड़ो का दर्द व दूसरे arthritis में अदरक के रस में गुणकारी लाभ होते है। अदरक की चटनी बनाकर खाने से अरुचि खत्म हो जाती और अधिक भूख लगती है।

अदरक के रस के फायदे और रोगों को ठीक करने के औषधीय गुण :

अदरक के फायदे और 40 घरेलू नुस्खे Ginger adrak ras ke fayde in hindi

अदरक के फायदे और बेहतरीन औषधीय गुण

पेट के रोगों के लिए अदरक के औषधीय गुण :

  • अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े काटकर उन पर नमक लगाकर खाने से 15 मिनट खाना खाने से पहले इन्हें खायें। स्वाद बढ़ाने के लिए आप चाहें तो इसमें नींबू का रस भी मिला सकते हैं। इसे खाने से भूख तेज लगेगी।
  • भोजन के शुरू में 3-4 ग्रास के साथ थोड़ा अदरक के खाने से भूख बढ़ती है। भोजन के बाद थोड़ा सा अदरक खाने से भोजन का पाचन अच्छे से होता है।
  • दो चम्मच सोंठ के पाउडर में स्वादानुसार नमक मिलाकर आधा-आधा चम्मच गर्म पानी से रोजाना दिन में तीन बार लेने से पेट में गैस बनना बन्द हो जाता है।
  • 1 चम्मच अदरक के रस में स्वादानुसार नमक, कालीमिर्च मिलाकर लेने से उल्टी, और जी मिचलाना ठीक हो जाता है।
  • एसिडिटी से राहत पाने के लिए पिसी हुई सौंठ व सूखा धनिया चार-चार चम्मच एक गिलास पानी में डालकर उबालें। आधा पानी रहने पर छानकर, हर रोज दिन में तीन बार इसे बनाकर पियें।
  • अदरक के 5 ग्राम रस में 100 ग्राम अनार के रस में मिलाकर कुछ दिनों तक सुबह-शाम सेवन करने से एसिडिटी की बीमारी ठीक होती है।
  • कुछ लोगो को दूध पचाने में परेशानी होती हैं दूध पीने से उन्हें दस्त लग जाते हैं या खट्टी डकारे आने लगती हैं | इसके उपचार के लिए चौथाई चम्मच सोंठ को पीसकर दूध में मिलाकर पियें। इससे दूध आसानी से पचेगा।
  • एक चम्मच अदरक के रस में एक चौथाई चम्मच काला नमक, आधा कप गर्म पानी मिलाकर सुबह-शाम पीने से खट्टी-कड़वी, डकारें आना बन्द हो जाती हैं।
  • अदरक के रस में नींबू का रस मिलाकर पीने से भूख बढ़ती है।
  • अदरक के एक लीटर रस में 100 ग्राम चीनी मिलाकर पकाएं। जब मिश्रण कुछ गाढ़ा हो जाए तो उसमें लौंग का पाउडर 5 ग्राम और छोटी इलायची का पाउडर 5 ग्राम मिलाकर शीशे के बर्तन में भरकर रखें। एक चम्मच यह पेस्ट दूध या पानी के साथ सुबह-शाम सेवन करने से पाचन संबंधी सभी परेशानिया दूर होती हैं।
  • अदरक के और प्याज के रस को 5-5 ग्राम मात्रा में मिलाकर सेवन करने से जी मिचलाने यानि उलटी करने का मन की बीमारी ठीक हो जाती है।
  • छाती में जलन होने पर गन्ने के 250 ग्राम रस में अदरक का रस और पोदीने की पत्तियों का रस 8-8 ग्राम मिलाकर सेवन करें।
  • 2 चम्मच अदरक का रस गर्म करके नाभि के आस-पास लगायें, इस रस को रुई भिगोकर नाभि पर रख दें, इससे दस्त में आराम मिलेगा। इसके साथ ही आधा कप उबलते हुए पानी में 1 चम्मच अदरक के रस में मिलाकर गर्म-गर्म, हर एक घंटे में पियें इससे पानी की तरह होने वाले पतले दस्त बन्द हो जायेंगे। पेट की गैस की रामबाण दवा तथा अचूक आयुर्वेदिक इलाज
  • 1 चम्मच सोंठ के पाउडर को पानी से दिन में 3 बार लेने से भी दस्त में आराम मिलेगा ।

सर्दी, खांसी, बुखार, जुकाम, सिरदर्द के लिए अदरक के औषधीय गुण :

  • सर्दियों में कफ के कारण गले में खराश हो जाती इसके इलाज के लिए अदरक के 7-8 ग्राम रस में शहद मिलाकर लेने से बहुत लाभ होता है। खांसी भी कम हो जाती है। परहेज– खटाई, दही का प्रयोग न करें।
  • चिकित्सकों के अनुसार अस्थमा के कारण होने वाली खांसी में भी अदरक से लाभ होता है। तेज बुखार होने पर 5 ग्राम अदरक के रस में 5 ग्राम शहद मिलाकर लेने से बेचैनी और बुखार की गर्मी कम होती है।
  • घी में गुड़ डालकर गर्म करें। दोनों मिलाकर एक होने पर 12 ग्राम पिसी हुई सोंठ डालें। यह एक खुराक है। इसे सुबह खाली पेट प्रतिदिन सेवन से जुकाम, खाँसी ठीक हो जाती है।
  • जुकाम होने पर 2 कप पानी में 1 चम्मच अदरक के टुकड़े डालकर उबालते हुए एक कप पानी रख लें। इसे छानकर स्वादानुसार दूध व चीनी मिलाकर सुबह शाम, गर्म-गर्म ही पियें। आधा कप गर्म पानी में एक चम्मच अदरक का रस, आधा चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से नाक से पानी गिरना बन्द हो जाता है।
  • अदरक, मिसरी और काली मिर्च 5 दाने तीनों को थोड़ा-सा कूटकर इसकी एक चम्मच को लगभग एक कप पानी में पकाकर क्वाथ (काढ़ा) बनाएं। इस क्वाथ को छानकर पीने से जुकाम से छुटकारा मिलता है।
  • सर्दियों में गला बैठने से आवाज बैठने से आवाज़ भारी हो जाती है इसके उपचार के लिए अदरक के रस में सेंधा नमक मिलाकर इस पेस्ट को लेने से बहुत लाभ होता है।
  • अदरक को भूनकर इसे टाफी की तरह चूसने से खाँसी में लाभ होता है। खांसी की अचूक दवा तथा खांसी के 22 घरेलू उपचार
  • आधा सीसी (माइग्रेन) की बीमारी होने पर नाक में अदरक के रस की बूंदें टपकाने से बहुत लाभ होता है।

अदरक के फायदे बालों के लिए :

  • दो चम्मच अदरक के रस को ऑलिव ऑयल के साथ मिलाकर सिर की त्वचा पर मालिश करने से बालों में रूसी, बालो का झड़ना और डैंड्रफ की समस्या दूर होकर बालों की जड़े भी मजबूत होती हैं | इसे पन्द्रह से तीस मिनटों तक लगा रहने दे उसके बाद पानी से धोएं |
  • बालों से रूसी खत्म करने लिए दुसरे नुस्खे के लिए आप सबसे पहले 2 चम्मच कद्दूकस की हुई अदरक लीजिए, उसमें 3 चम्मच ऑलिव ऑयल और दो बूंदे नींबू की मिलाइए। इसे बालों की जड़ों में लगाकर आधे घंटे तक छोड़ दीजिए। अदरक  के औषधीय गुणों का पूरा फायदा उठाने के लिए ताज़ा अदरक का ही उपयोग करें |  बालों से रूसी हटाने के 34 घरेलू उपाय- Remove Dandruff

कान, दांत, गले और जोड़ो के दर्द के लिए अदरक के औषधीय गुण :

  • अदरक के रस को गर्म पानी में मिलाकर, नमक डालकर गरारे करने से इंफ्लुएंजा व गले के दर्द में बहुत लाभ होता है।
  • अदरक और शहद के लाभ – सर्दियों में बार-बार पेशाब के लिए जाने की परेशानी होने पर 10 ग्राम अदरक के रस में थोड़ा-सा शहद मिलाकर सेवन करने से बहुत लाभ होता है।
  • अदरक के रस में नारियल का तेल भी पकाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। अदरक के रस को हल्का गर्म करके बूंद-बूंद कान में डालने से कान खुल जाता है और ऊँचा सुनाई देने की समस्या ठीक हो जाती है।
  • अदरक का 500 मिली रस और 250 मिली तिल के तेल को धीमी आंच पर देर तक पकाएं। जब रस जलकर खत्म हो जाए तो तेल को छानकर रखें। इस तेल की मालिश करने से संधिशोथ यानि (जोड़ों की सूजन) में बहुत लाभ होता है।
  • यदि ठण्ड से दाँत में दर्द हो तो एक टुकड़ा अदरक को दाँत में दबाकर रखने से तुरन्त लाभ मिलेगा।
  • अदरक को पीसकर जोड़ो पर लेप करने से जोड़ो के दर्द से आराम मिलता हैं | दांतों का पीलापन दूर करने के बेहतरीन घरेलू उपाय

ह्रदय (दिल ) के लिए अदरक के औषधीय गुण :

  • अदरक में मौजूद मैंगनीज की मात्रा, हृदय, रक्त वाहिकाओं को सुरक्षा देने का काम करती हैं |
  • सोंठ का गर्म काढ़ा (क्वाथ) नमक मिलाकर एक कप प्रतिदिन पीने से लाभ होता है। हृदय रोगों में एक गिलास पानी में एक चम्मच अदरक के रस में मिलाकर पीना भी लाभदायक है।
  • 2-3 ग्राम सोंठ पाउडर में 1/2 या 1 ग्राम दालचीनी (एक प्रकार का मसाला ) मिलाकर दूध या पानी के साथ लेने से हृदयशूल (एञ्जायना) में लाभ होता है, यह हृदय को ताकत प्रदान कर पाचन प्रक्रिया को भी ठीक रखता है।  ह्रदय रोग में लौकी के बेहतरीन फायदे
  • मधुमेह रोगियों के लिए भी अदरक लाभदायक हैं | इसके लिए एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच अदरक के रस को मिलाकर पियें |

स्त्रियों और गर्भावस्था में अदरक के औषधीय गुण :

  • गर्भपात—यदि बार-बार गर्भपात होता हो तो रोजाना आधा चम्मच सोंठ, चौथाई चम्मच मुलहठी को 250 ग्राम दूध में उबालकर पियें। इससे बार-बार गर्भपात नहीं होगा। लेकिन गर्भवस्था के दौरान इसका कम प्रयोग करें |
  • कष्टार्तव (Dysmenorrhoea)- जिन लडकियों के मासिक धर्म में दर्द होता है उन्हें सोंठ और पुराने गुड़ का काढ़ा पीने से लाभ होता है। ठंडी चीजो तथा खट्टी चीजों का परहेज रखें। अगर आप चाहें तो अदरक के पाउडर या अदरक से बने हुए रेडीमेड कैप्सूल का उपयोग भी कर सकती हैं |

मोटापा कम करने में अदरक के औषधीय गुण :

  • 10 ग्राम अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े तवे पर डालकर थोड़ा सा पानी डालकर भूनें। इसको भूनते हुए जब पानी भाप बनकर उड़ जाये तब इसके बाद उस पर एक चम्मच घी डालकर सेंकें। अच्छी  तरह सिकने पर खाना खाने से पहले में इन्हें खायें। इससे बढ़ा हुआ पेट अपने सामान्य आकार में आ जायेगा।
  • हर्निया रोग में -अदरक का मुरब्बा दस ग्राम हर रोज सुबह दो महीनो तक खाने से हर्निया में लाभ होता है।
  • 2 गिलास पानी में 5 ग्राम अदरक को कूटकर और उसे उबालकर थोड़ा सा निम्बू और शहद डालकर सुबह खाली पेट गर्म-गर्म पीने से मोटापा कम होता है। यह भी पढ़ें – मोटापा कम करने के उपाय-Get Rid of Obesity

अन्य रोगों के लिए अदरक के औषधीय गुण :

  • 10 ग्राम अदरक के रस में 5 ग्राम घी मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से कटिशूल और गृध्रसी शूल (Sciatica) बीमारी में बहुत लाभ होता है।
  • प्रतिदिन सुबह-शाम 5 से 10 ग्राम मात्रा में अदरक का रस जल में मिलाकर पीने से जलोदर रोग (Ascites) रोग में बहुत लाभ होता है।

लेकिन अदरक के प्रयोग में रखे ये सावधानियां :

  • कुष्ठ रोग, रक्त-पित्त, पेशाब में जलन, और शरीर में गर्मी होने पर अदरक का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • ज्यादा छोटे बच्चो को अदरक ज्यादा मात्रा में ना दे और दो साल से कम उम्र के बच्चो को बिलकुल ना दें |
  • गर्भवस्था के दौरान ज्यादा अदरक का सेवन ना करें |
  • हाई ब्लड प्रेशर की दवाओ के साथ अदरक का सेवन सावधानी से करें |

जानिए अदरक का रस कैसे निकाले :

  • अदरक का रस निकालने के दो तरीके हैं | एक तो आप कद्दू कस पर घिस कर हाथ से या किसी कपडे में रखकर निचोड़ लें |
  • अदरक को किसी जालीदार सूती कपडे में रखकर उसे कूटे | फिर उस कपडे की पोटली को कसते जाएँ रस अपने आप बाहर आ जाये जायेगा |
  • किसी ग्राइंडर में अदरक के टुकड़े डालकर उसका पेस्ट बनाकर किसी छलनी से छान लें | रात अदरक के टुकडो को पानी में भिगो कर रख दें फिर इसका जूस आसानी से निकल जाता हैं |

अन्य सम्बंधित पोस्ट 



शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*